एक ऐसा राज्य जिसमें थर्ड जेंडर का कोई मतदाता नहीं 

एक ऐसा राज्य जिसमें थर्ड जेंडर का कोई मतदाता नहीं नगालैंड विधानसभा चुनाव 2018 के लिए दीमापुर में अपने वोट डालने के लिए लाइन में खड़ीं महिलाएं

नगालैंड की नई विधानसभा चुनने के लिए सुबह सात बजे से मतदाता अपने वोट डालने के लिए लम्बी-लम्बी लाइनें लगाए हुए थे। नगालैंड विधानसभा चुनाव 2018 में दोपहर दो बजे तक 57 फीसदी मतदाताओं ने वोट दे दिया है।

नगालैंड विधानसभा के लिए 60 सदस्यों के लिए चुनाव हो रहा है। पर तीन बार मुख्यमंत्री रहे नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीडीपी) के नेफ्यू रियो को उत्तरी अंगामी-2 निर्वाचन सीट से निर्विरोध विजयी घोषित कर दिया गया। इस सीट पर उनके प्रतिद्वंद्वी सत्तारूढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के उम्मीदवार चुपफ्यू अंगामी ने 12 फरवरी को अपना नामांकन वापस ले लिया था।

ये भी पढ़ें- खुशखबरी : रेलवे ने 90 हजार पदों के लिए मांगे आवेदन, अंतिम तिथि 12 मार्च  

इस प्रकार अब सिर्फ 59 सीटों के लिए वोट पड‍़ रहे हैं। 59 विधायकों को चुनने के लिए कुल 11,70,548 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे, जिनमें 5,89,806 महिलाएं हैं जबकि 26,900 पहली बार मतदान करने जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें- होली पर रोडवेज कर्मियों को नहीं मिलेगी छुट्टी पर एक खुशखबरी भी है

आप के लिए यह एक आश्चर्य की बात है कि नगालैंड विधानसभा चुनाव 2018 में एक भी थर्ड जेंडर का मतदाता नहीं है। देश में तक़रीबन 20 लाख थर्ड जेंडर हैं।

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया, जिसके अर्न्तगत किन्नरों को 'तीसरे लिंग' के रूप में मान्यता देने के लिए कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि किन्नरों को अल्पसंख्यकों की मान्यता दी जाए।

ये भी पढ़ें- श्रीदेवी के बारे में फिल्म निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने ये क्या कह दिया

जनगणना 2011 में हमारे देश के गांवों में सबसे ज्यादा किन्नर हैं और इनकी संख्या 70 हजार से आस-पास है। उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा ट्रांसजेंडर (किन्नर) पाए जाते हैं, बिहार नंबर दो पर और तीसरा नंबर पश्चिम बंगाल का है, उत्तर प्रदेश में सबसे 12,916, बिहार में 9,987 और पश्चिम बंगाल में 9,868 ट्रांसजेंडर हैं।

ये भी पढ़ें- प्रकृति को खूबसूरत बनाने वाले बदसूरत पक्षियों की मौत का मंजर  

मुख्य निर्वाचन अधिकारी अभिजीत सिन्हा ने बताया, "राज्य में सुबह सात बजे मतदान शुरू होने से पहले ही कई मतदान केंद्रों पर महिलाओं और पुरुषों की लंबी-लंबी कतारें देखी गईं।"

उन्होंने कहा कि मतदान के लिए वोटर वेरिफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) मशीनों सहित इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें लगाई गई हैं।

ये भी पढ़ें- संगीनों के साए में मेघालय विधानसभा चुनाव व नगालैंड विधानसभा चुनाव में मतदान शुरू

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top