पुलिस को चकमा देने के लिए गांव के छोटे रास्तों से राजस्थान विधानसभा को घेरने आ रहे किसान

पुलिस को चकमा देने के लिए गांव के छोटे रास्तों से राजस्थान विधानसभा को घेरने आ रहे किसानराजस्थान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।

सीकर। स्‍वामीनाथन आयोग की सिफारिशों सहित 11 सूत्री मांगों को लेकर अखिल भारतीय किसान महासभा और इससे जुड़े संगठनों के आह्वान पर आज राजस्थान विधानसभा का घेराव करने आ रहे सीकर के किसानों को पुलिस ने रास्ते में रोक दिया। जिले में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। तमाम वाहनों की जांच की जा रही है।

किसान महासभा के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष अमराराम सहित कई किसान नेताओं ने दो दिन पहले विधानसभा का घेराव करने के लिए सैकड़ों किसानों के साथ जयपुर कूच किया था। लेकिन उन्‍हें जयपुर से पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था, जिसके कारण किसान नेताओं और किसानों ने कल सीकर जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। सीमाओं पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर तमाम वाहनों की जांच की जा रही है।

ये भी पढ़ें- फसल बीमा योजना का लाभ ढेर सारे किसानों को कैसे मिले जनिए सरकार की नई योजना

सरकार इस बार पूरी चौकसी बरत रही है ताकि कोई बड़ा आंदोलन खड़ा ना हो सके। वहीं किसान नेताओं की गिरफ्तारी के बाद कल सीकर में बंद बुलाया गया था। पुलिस ने किसान नेताओं की गिरफ्तारी के लिए रातभर छापेमारी भी की है।

ये भी पढ़ें- किसानों के लिए खुशखबरी : ई-नाम पर अब भीम ऐप से भुगतान, क्षेत्रीय भाषाओं की भी सुविधा

किसान नेताओं ने बताया कि किसान अलग-अलग जत्‍थों में छोटे वाहनों से जयपुर रवाना हो चुके है। इसमें अजीतगढ़, धोद, दातारामगढ़, खंडेला, लक्ष्‍मणगढ़ सहित सीकर जिले के किसान जयपुर के लिए रवाना हो चुके हैं। वह गांवों के रास्‍ते जयपुर में प्रवेश करेंगे। किसान नेताओं ने बताया कि पुलिस उन्‍हें जहां रोकेगी, वह वहीं जाम लगा देंगे। फिलहाल अभी तक इस तरह की कहीं से भी बात सामने नहीं आई है वहीं पुलिस सभी वाहनों की जांच कर रही है।

ये भी पढ़ें- प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की अंब्रैला सुरक्षा में कई छेद हैं सरकार !

गौरतलब है कि स्‍वामीनाथन आयोग की सिफारिशों सहित 11 सूत्री मांगों को लेकर किसान नेता अमराराम के नेतृत्‍व में आंदोलन शुरू किया गया है।

ये भी पढ़ें- किसान मुक्ति सम्मेलन : एक बार पूरे देश के किसानों का कर्ज़ा माफ किया जाए 

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top