जेल की कमायी को तलवार दंपति ने लेने से इनकार किया

जेल की कमायी को तलवार दंपति ने लेने से इनकार कियातलवार दंपति 

डासना (भाषा)। आरुषि-हेमराज हत्या कांड के संबंध में वर्ष 2013 से डासना जेल में सजा काट रहे दंत चिकित्सक दंपति राजेश एवं नूपुर तलवार ने इस दौरान जेल के अंदर मरीजों को दी गयी अपनी अपनी सेवाओं का मेहनताना लेने से इनकार कर दिया है।

ये भी पढ़ें-आरुषि मर्डर केस पर आ गया हाईकोर्ट का फैसला, जानिए क्या हुआ हत्या की उस रात

जेल अधिकारियों ने दी जानकारी

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 12 अक्तूबर को तलवार दंपति को अपनी बेटी आरुषि एवं घरेलू सहायक हेमराज की हत्या के आरोपों से बरी कर दिया। उन्हें आज दोपहर रिहा किये जाने की संभावना है। जेल अधिकारियों के मुताबिक तलवार दंपति से जल्द से जल्द अपना उपचार कराने के लिये जेल के मरीजों में होड़ मचा है।

ये भी पढ़ें-आरुषि की मां नुपुर तलवार की जेल में लिखी गई कविता, आरुषि - सुबह की पहली किरण

जेल के एक अधिकारी ने बताया कि तलवार दंपति जेल से बाहर निकलने का इंतजार कर रहे हैं और बाहर निकलते ही उनके मीडियाकर्मियों से घिरने की संभावना है। उन्होंने बताया कि तलवार दंपति ने जेल के अंदर मरीजों की सेवाओं के लिये मिलने वाला अपना पारिश्रमिक लेने से इनकार कर दिया है।

जेल अधीक्षक डी. मौर्य ने बताया कि इस दौरान उन्होंने करीब 49,500 रपये कमाये हैं। सजा सुनाये जाने के बाद तलवार दंपति नवंबर 2013 से जेल के अंदर मरीजों का उपचार कर रहे हैं।

जेल चिकित्सक सुनील त्यागी ने बताया कि तलवार दंपति ने अधिकारियों को आश्वस्त किया है कि कैदियों के उपचार के लिये हर 15 दिन पर वे जेल आते रहेंगे।

ये भी पढ़ें-आरुषि हत्याकांड से आगे : ऐसे मामलों की जांच को कोर्ट तक पहुंचने में इतना समय क्यों लगता है ?

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपने फैसले में कहा था कि ना तो परिस्थितियां और ना ही सबूत उन्हें दोषी ठहराने के लिये पर्याप्त हैं। तलवार के नोएडा स्थित घर में 16 मई 2008 को आरुषि तलवार मृत पायी गयी थी। हेमराज का शव भी अगले दिन छत पर उसके कमरे से बरामद हुआ था।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top