Top

चोरी हो गया है बेला बाई का शौचालय, अगर आपको मिले तो बताइएगा ज़रूर 

Anusha MishraAnusha Mishra   12 May 2017 11:39 AM GMT

चोरी हो गया है बेला बाई का शौचालय, अगर आपको मिले तो बताइएगा ज़रूर प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को स्वच्छ और साफ बनाने के लिए कई तरह की योजनाएं चला रहे हैं। कभी-कभी तो वह खुद ही झाड़ू लगाकर स्वच्छता से रहने का संदेश भी देते हैं। इसी बात को बढ़ावा देते हुए देश के हर गाँव के हर घर में सरकार शौचालय बनवा रही है ताकि खुले में शौच को रोका जा सके और स्वच्छता को बढ़ावा दिया जाए। सरकारी योजनाओं का लाभ लोगों को आसानी से और अच्छी तरह मिले इस बात को लेकर सरकार काफी सख्ती भी बरत रही है, बावजूद इसके सरकारी कर्मचारी हेराफेरी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी तरह का दिलचस्प लेकिन गंभीर मामला छत्तीसगढ़ के एक गाँव में प्रकाश में आया।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

छत्तीसगढ़ की ग्राम पंचायत अमरपुर में रहने वाली 75 साल की बेला बाई का शौचालय चोरी हो गया है। उन्होंने इस बात की रिपोर्ट भी ज़िला बिलासपुर के पेण्ड्रा थाने में दर्ज़ कराई है। बेला बाई ने भारत सरकार के स्वच्छ भारत मिशन की हर गाँव में शौचालय बनाने की योजना के तहत आवेदन दिया था। उन्होंने उम्मीद थी कि उनके लिए आवंटित शौचालय उन्हें जल्द ही मिल जाएगा, पर कई महीनों बाद भी शौचायल का निर्माण नहीं हुआ।

महिला द्वारा लिखवाई की रिपोर्ट की कॉपी

उनके द्वारा दर्ज़ कराई गई रिपोर्ट में लिखा है कि 2015-16 में उनके घर के लिए शासन ने शौचालय बनाने को स्वीकृति भी दी, लेकिन इसके बाद भी उन्हें शौचालय नहीं मिला। जब वह इस बात की शिकायत करने जनपद पंचायत पेण्ड्रा पहुंचीं तो उन्हें बताया कि रिकॉर्ड में उनके घर के लिए आवंटित शौचालय बन चुका है, जिसका भुगतान भी ग्राम पंचायत निर्माण एजेंसी को किया जा चुका है। ऐसे में बेला बाई को बस यही समझ आया कि जब उनका शौचालय बन चुका है और उन्हें नहीं मिला है तो वह चोरी ही हुआ होगा। ऐसे में वह पेण्ड्रा थाने गईं और उन्होंने वहां जाकर इस बात की रिपोर्ट दर्ज़ कराई। उन्हें उम्मीद है कि अब जल्द ही चोरी हुआ उनका शौचालय उन्हें वापस मिल जाएगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.