पुंछ हमला: सरज सिंह की मां ने चार दिन पहले ही तो बात की थी, अब उनके पार्थिव शरीर का इंतजार

परसों यानी 11 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर के पुंछ में हुए आतंकी हमले में पांच भारतीय जवान शहीद हो गए थे। छब्बीस वर्षीय सिपाही सरज सिंह, जो उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के रहने वाले थे, उनमें से एक थे। एक किसान का बेटे, उनके दो बड़े भाई भी सशस्त्र बलों में हैं। सरज का पार्थिव शरीर आज उनके गांव पहुंचने की उम्मीद है।

Ramji MishraRamji Mishra   13 Oct 2021 6:12 AM GMT

शाहजहांपुर, उत्तर प्रदेश। किसान विचित्र सिंह के तीन बेटे हैं, ये सभी भारतीय सेना में हैं। परसों, 56 वर्षीय किसान को अपने सबसे छोटे बेटे 26 वर्षीय सरज सिंह की मौत की खबर मिली, ऐसी खबर जिसे कोई भी मां-बाप कभी नहीं सुनना चाहेगा।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के अख्तियारपुर धवकल गांव के सिपाही सरज सिंह 11 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर के पुंछ के डेरा की गली, सुरनकोट में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए थे।

शहीद सिपाही सरज सिंह

ड्यूटी के दौरान शहीद हुए चार और जवानों में कपूरथला के माना तलवंडी के नायब सूबेदार जसविंदर सिंह, गुरदासपुर के चल्हा के नायक मनदीप सिंह, रोपड़ के पंचरंडा गांव के सिपाही गजान सिंह (पंजाब के तीनों) के अलावा केरल के कोल्लम जिले के सिपाही वैशाख एच शामिल हैं।

"शेर था मेरा पूत," सराज सिंह की मां परमजीत कौर ने गांव कनेक्शन को बताया। तीन दिन पहले उसने अपने सिपाही बेटे से बात की थी। "दुश्मन ने जो करने की ठानी, उसे पूरा किया। मेरा बेटा मर गया... मेरा बड़ा बेटा कल घर आ रहा है, सराज के शव के साथ, "उन्होंने कहा। (गांव कनेक्शन 10 अक्टूबर को उनके घर गया था।)

सरज सिंह की मां परमजीत कौर। फोटो: रामजी मिश्र

विचित्र सिंह ने गांव कनेक्शन को बताया, "मैं एक किसान हूं लेकिन मेरे तीनों बेटे सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करना चाहते थे।"

सराज 2015 में भारतीय सेना में शामिल हुए। उनके दो बड़े भाई पहले ही क्रमशः 2009 और 2013 में सशस्त्र बलों में शामिल हो गए थे। एक साल पहले शादीशुदा जवान सिपाही आखिरी बार इसी साल जुलाई में घर आया था।

रंजीत कौर, उनकी 23 वर्षीय दुल्हन, बिना भाव के बैठी थी, एक बुजुर्ग रिश्तेदार ने उसके सिर के दुपट्टे को ठीक किया और चारों तरफ बैठी महिलाएं धीरे-धीरे सुबक रहीं थीं। रंजीत ने अभी भी अपने हाथों में चूड़ा पहन रखा था, जिसे शादी के बाद दुल्हनें पहनती हैं।

सराज की 23 वर्षीय दुल्हन रंजीत कौर।

उनके भाई सुखवीर सिंह ने गांव कनेक्शन को बताया, "हमने उसे सेना में शामिल होने से रोकने की कोशिश की क्योंकि हम में से दो पहले से ही थे। लेकिन उसने जोर देकर कहा कि वह यही करना चाहता है।" "मैं ऐसे क्षेत्र में तैनात हूं जहां नेटवर्क नहीं है और मैंने महीनों से सराज से बात नहीं की थी। मैं उससे आखिरी बार 2019 में मिला था।"

सराज के एक दोस्त 27 वर्षीय भूतपाल सिंह ने गांव कनेक्शन को बताया कि सरज 1 दिसंबर को अपने साले की शादी के लिए घर जाने की योजना बना रहा था, जिसके लिए वह अपनी छुट्टी बचा रहा था।

लेकिन सराज सिंह अब एक ताबूत में घर लौटेंगे, जिस पर उनकी सेवा संख्या 19007559L, उनकी रैंक, एक सिपाही की रैंक और उनकी बटालियन का नाम, 16 आरआर बीएन (सिख) होगा।

अंग्रेजी में खबर पढ़ें

Also Read: इस गांव के हर घर से निकलते हैं Army सेना के जवान, China और Pakistan की हरकतों पर खौलता है इनका खून

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.