बेड विधि से चने की खेती से कम लागत में होगा अधिक उत्पादन

vineet bajpaivineet bajpai   31 Dec 2017 7:09 PM GMT

बेड विधि से चने की खेती से कम लागत में होगा अधिक उत्पादनचने की खेती।

रबी फसलों का सीजन चल रहा है। इस सीजन में चने की बुवाई की जाती है। और आज हम आपको चने की खेती करने की एक ऐसी विधि के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे न सिर्फ किसानों की लागत कम होगी बल्कि उसके साथ ही उत्पादन भी बढ़ेगा। मैं बात कर रहा हूं बेड विधि से चने की खेती के बारे में। मध्य प्रदेश के बुत से किसान इस विधि से खेती कर रहे हैं।

चना रबी ऋतु ने उगायी जाने वाली महत्वपूर्ण दलहन फसल है। विश्व के कुल चना उत्पादन का 70 प्रतिशत भारत में होता है। देश में कुल उगायी जाने वाली दलहन फसलों का उत्पादन लगभग 17.00 मिलियन टन प्रति वर्ष होता है। चने का उत्पादन कुल दलहन फसलों के उत्पादन का लगभग 45 प्रतिशत होता है।

ये भी पढ़ें- बंपर मुनाफे के लिए इस तरीके से करें फूल गोभी की खेती, तस्वीरों में देखिए गोभी की यात्रा

मध्य प्रदेश के हरदा जिले के खिरकिया गाँव के किसान आशीष वर्मा ने बताया, ''बेड़ विधि से चने की खेती करने से कई तरह के फायदे होते हैं। बेड पर बोया गया चना नर्म जमीन पर रहता है जिससे पौधे का विकास अच्छे से होता है।'' उन्होंने बताया, ''इस विधि से खेती करने से अगर बारिश हो भी जाती है तो कोई नुकसान नहीं होता है। इसके साथ ही सिंचाई करने के लिए कम पानी की ज़रूरत पड़ती है। खरपतवार भी कम होता है।'' चने की बुवाई अक्टूबर से नवंबर महीने में की जाती है, लेकिन चने की बिटकी किस्म की बुवाई अभी भी की जा सकती है।

ये भी पढ़ें- जानिए किसान अच्छी पैदावार के लिए किस महीने में करें किस सब्ज़ी की खेती

देश में चने का सबसे अधिक उत्पादन मध्य प्रदेश में होता है। जो कुल चना उत्पादन का 25.3 प्रतिशत पैदा करता है।

ये भी पढ़ें- पश्चिमी यूपी के 50 फीसदी किसान नहीं कर सके गेहूं की बुवाई 

''साधारण तरीके से चने की खेती करने से एक एकड़ में जहां 10 से 12 कुंतल उत्पादन होता है तो वहीं बेड़ विधि से खेती करने से प्रति एकड़ उत्पादन 14 से 16 कुंतल होता है,'' आशीष ने बताया, ''बेड विधि से खेती करने के लिए सबसे पहले कल्टीवेटर की सहायता से खेत की जुताई करें फिर उसके बाद पाटा लगाकर खेत को बराबर कर दे। इसके बाद पलेवा कर दें और फिर जब खेत बुवाई करने के लायक हो जाए तो चने की बुवाई कर दें।'' आशीष 30 एकड़ जमीन पर खेती करते हैं, जिसमें से 7 एकड़ पर चने की खेती करते हैं।

ये भी पढ़ें- किसान और खेती को बचाना है तो उठाने होंगे ये 11 कदम : देविंदर शर्मा

उन्होंने बताया कि बेड विधि से बुवाई करने से खरपतवार कम होता हैं और निराई गुड़ाई की जरूरत कम होती है।

ये भी पढ़ें- किसान और खेती को बचाना है तो उठाने होंगे ये 11 कदम : देविंदर शर्मा

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top