वैज्ञानिकों ने इजाद की प्याज की नई किस्म, 9 महीने खुले में रखने पर भी नहीं होगा खराब

Divendra SinghDivendra Singh   3 May 2017 4:39 PM GMT

वैज्ञानिकों ने इजाद की प्याज की नई किस्म, 9 महीने खुले में रखने पर भी नहीं होगा खराबवैज्ञानिकों ने प्याज की एक ऐसी किस्म इजाद की है जिससे कम समय में ज्यादा उत्पादन होगा।

स्वयं प्रोजेक्ट

लखनऊ। वैज्ञानिकों ने प्याज की एक ऐसी किस्म इजाद की है जिससे कम समय में ज्यादा उत्पादन होगा, साथ ही इस किस्म की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी दूसरी किस्मों की तुलना में अधिक है। इस प्याज को नौ महीने तक खुले में रखा जा सकता है।

ये भी पढ़ें- बंदरों को भांग खिलाकर किसान बचा रहे फसल

राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान विकास प्रतिष्ठान के वैज्ञानिकों ने प्याज की नई किस्म रेड (एल-652) विकसित की है। इस किस्म में दूसरी किस्मों के मुकाबले डेढ़ से दो गुना ज्यादा उत्पादन अधिक होगा। इसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अधिक है। दूसरी किस्मों की फसल अवधि 120-130 दिन है, जबकि इसकी अवधि 100 से 110 दिन की है।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

यूपी के किसान इस किस्म के बीज एनएचआरडीएफ के देवरिया व कानपुर के क्षेत्रीय शोध केन्द्र से ले सकते हैं, इस साल सितम्बर महीने से इस किस्म के बीज मिलने लगेंगे।
डॉ. हरिप्रकाश शर्मा, उपनिदेशक, राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान विकास प्रतिष्ठान (एनएचआरडीएफ)

राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान विकास प्रतिष्ठान (एनएचआरडीएफ) के उपनिदेशक डॉ. हरिप्रकाश शर्मा इस नयी किस्म के बारे में बताते हैं, “दूसरी किस्मों की तुलना में इसकी खेती ज्यादा फायदेमंद है, इसकी भंडारण क्षमता में अधिक है, इसे नौ महीने तक खुले में रख सकते हैं, ये खराब नहीं होगा।”

ये भी पढ़ें- हर्बल घोल की गंध से खेतों के पास नहीं फटकेंगी नीलगाय, ये 10 तरीके भी आजमा सकते हैं किसान

भारत में महाराष्ट्र में प्याज़ की खेती सबसे ज्यादा होती है। यहां साल मे दो बार प्याज़ की फ़सल होती है। प्याज़ की फ़सल कर्नाटक, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल मध्य प्रदेश जैसी जगहों पर अलग-अलग समय पर तैयार होती है। विश्व में प्याज 1,789 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में उगाई जाती हैं। भारत में इसे कुल 287 हजार हेक्टर क्षेत्रफल में उगाये जाने पर 2450 हजार टन उत्पादन प्राप्त होता है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top