बांस, बल्ली व छप्पर के सहारे मशरूम उगा रहा किसान, राज्यपाल ने भी किया है सम्मानित

Ashwani DwivediAshwani Dwivedi   7 Jan 2019 5:51 AM GMT

बांस, बल्ली व छप्पर के सहारे मशरूम उगा रहा किसान, राज्यपाल ने भी किया है सम्मानितसाल भर में हो जाती है 15 लाख की कमाई

लखनऊ। न तो पॉली हाउस है और न ही अब तक कोई सरकारी सहायता मिली, लेकिन अपने दम पर इस किसान ने बांस-बल्लियों के सहारे तीन मंजिला स्ट्रक्चर खड़ा कर लिया, आज मशरूम की खेती से ये सालाना पंद्रह लाख की कमाई कर रहे हैं, यहीं नहीं अब दूसरे किसान भी इनसे प्रशिक्षण लेने आते हैं।

ये भी पढ़ें- मशरूम उत्पादन से जयंती देवी ने बनाई पहचान

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के बख्शी का तालाब तहसील में आने वाला गॉव अजरायलपुर (इटौंजा) जो कि लखनऊ मुख्यालय से 30 किमी की दूरी पर स्थित है। इस गाँव के युवा किसान अजय यादव की वजह से तब चर्चा में आया जब साल 2016-2017 में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक इस गाँव के युवा किसान अजय यादव को मशरूम की खेती के लिए पुरस्कार दिया।

ये भी पढ़ें- यहां पूरा गाँव करता है मशरूम की खेती

अजय यादव बताते हैं, "जब खेती शुरु की तो इतने पैसे नहीं थे कि पाली हाउस लगा सकूं तो बांस घर के थे बांस से ही पॉलीहाउस की तर्ज पर बांस का तीन मंजिला स्ट्रक्चर बनाया जो जमीन और तीन मंजिला बॉस का स्ट्रक्चर मिलाकर चार लेयर बन गयी इसे ढकने के लिए घास फूस का 70 गुणा 30 फ़ीट का बंगला बना दिया।"

वो आगे बताते हैं, "सिंचाई के लिए देशी तकनीक से स्प्रे मशीन का प्रयोग कर रहा हुं पाली हाउस बनाया नहीं इसलिये सरकारी सहायता भी नही मिली, इस समय दो हिस्से में मशरूम की खेती कर रहा हुं एक बंगला 50 गुणा 30 का है, दूसरा बंगला 50 गुणा 30 का है इन दोनों बंगलों से नबम्बर से अप्रैल तक करीब 85 से 100 कुन्तल मशरूम उत्पादन मिल जाता है, जिसका बाजार मूल्य करीब पंद्रह लाख तक मिल जाता हैं।

ये भी देखिए-

मशरूम की खेती के साथ कम्पोस्ट बेचने का भी शुरु किया काम

अजय ने बताया कि पहले गेंहू के भूसे को सड़ाकर कम्पोस्ट बनाते हैं कम्पोस्ट बनने में 28 से 30 दिन का समय लगता है इसमें हम रासायनिक और उर्वरक खादों का प्रयोग करते है। गेंहू के भूसे को भिगोकर 30 से 48 घंटे बाद उसमें यूरिया, डीएपी, पोटाश तीनो चीजों को मिलाकर कम्पोस्ट को ढक देते हैं उसके बाद तीसरे दिन कम्पोस्ट में गेहूं का चोकर डालते है फिर उसके बाद डीएसपी पाउडर, कैलिशयम कार्बोरेट, नीम की खाली, जिप्सम, गुड़ का शिरा, फार्मोलिन, नुआन, आदि सब चीजों को हम मिलाते हैं और छोड़ देते है 28 से 30 दिन में कम्पोस्ट बनकर तैयार हो जाता है।

ये भी पढ़ें- ओईस्टर मशरूम की व्यवसायिक खेती में बढ़ रहा किसानों का रुझान, कम लागत में अधिक मुनाफा देती है यह प्रजाति

25 अगस्त से काम की शुरुआत होती है सितंबर तक हमारी कम्पोस्ट तैयार हो जाती है फिर एक से पांच अक्टूबर तक इसमे हम स्पानिंग कर देते हैं स्पानिंग करने के बाद लगभग 15 दिन में पूरे भुसे में बीज फैल जाता है। इसके बाद इसके ऊपर एक से ढेड़ इंच गोबर की खाद डाल देते हैं उसी खाद के ऊपर 11 से 15 दिन के बाद मशरूम दिखने लगता है। तापमान कम होने पर उत्पादन थोड़ा कम रहता है पर 12 से 24 डिग्री सेक्सियस में मशरूम का अच्छा उत्पादन प्राप्त हो जाता है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top