चने का ज्यादा उत्पादन भी किसानों के लिए बन रहा मुसीबत, नहीं मिल रहा दाम 

Divendra SinghDivendra Singh   1 May 2018 3:05 PM GMT

चने का ज्यादा उत्पादन भी किसानों के लिए बन रहा मुसीबत, नहीं मिल रहा दाम नहीं मिल रहा सही दाम

इस बार चने का अधिक उत्पादन होने से किसानों को ज्यादा मुनाफे की उम्मीद थी, लेकिन अधिक उत्पादन से किसानों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। क्योंकि उन्हें सही दाम ही नहीं मिल पा रहा है।

मध्य प्रदेश में नरसिंहपुर जिला में सबसे ज्यादा चने की पैदावार होती है। यहां के करताज गाँव के किसान राकेश दूबे ने इस बार नौ एकड़ में चने की फसल लगायी थी, इस बार ज्यादा उत्पादन भी हुआ लेकिन बाजार में सही दाम ही नहीं मिल पा रहा है। राकेश कहते हैं, "इस बार सरकार ने समर्थन मूल्य 4450 रुपए रखा है, जबकि व्यापारी 3000-3100 रुपए में चना खरीद रहे हैं। हर बार एक एकड़ में तीन-चार कुंतल चना का उत्पादन होता था, लेकिन इस बार छह से आठ कुंतल तक उत्पादन हुआ है, ऐसे में किसान अब क्या करे।

इस बार किसानों को पिछले साल के मुकाबले चने का भाव 42 फीसदी तक कम मिल रहा है। साल 2017 में अप्रैल के दूसरे सप्ताह में चने की कीम 5931 रुपए कुंतल थी, जो इस साल 3,650-3,750 रुपए प्रति कुंतल गई है।

ये भी पढ़ें- खाली जमीनों पर किसान करें औषधीय पौधों की खेती , सरकार देती है सब्सिडी 

कृषि मंत्रालय के अनुसार इस बार देश में कुल 1100 लाख कुंतल चने का उत्पादन हुआ है, जबकि सरकार ने चना खरीद का लक्ष्य 424.4 लाख कुंतल रखा है। ऐसे में किसान को व्यापारियों के हाथ चना बेचना पड़ेगा, जोकि उनकी मजबूरी है। क्योंकि चने का समर्थन मूल्य जहां 4400 रुपए है वहीं पर व्यापारी 3000-3100 रुपए में खरीद रहे हैं, तो जाहिर है कि किसानों को नुकसान उठाना ही पड़ेगा।

ये भी पढ़ें- गन्ना किसानों के घर टली शादियां, नहीं करा पा रहे इलाज, कब होगा भुगतान ?

महाराष्ट्र के नंदुरबार के मलोणी गाँव के किसान उचित पटेल हैं, "पिछली चने का अच्छा दाम मिल था, इसलिए इस बार भी किसानों को लगा कि ज्यादा फसल बोएंगे, इस बार ज्यादा फसल बोई, अब उसी का किसानों को नुकसान उठाना पड़ रहा है।"

पूरे देश में इस बार बढ़ा चने का रकबा

केंद्रीय कृषि मंत्रालय की वेबसाइट पर प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक, देश में चने का औसत रकबा 86.81 लाख हेक्टेयर रहता है, जबकि इस साल देशभर में चने का रकबा बढ़कर 107.29 हेक्टेयर हो गया है, जोकि पिछले साल के 99.04 लाख हेक्टेयर से 8.28 फीसदी ज्यादा है।

ये भी पढ़ें- सतावर , एलोवेरा , तुलसी और मेंथा खरीदने वाली कम्पनियों और कारोबारियों के नाम और नंबर

मध्य प्रदेश में इस साल पिछले साल के 32.52 लाख हेक्टेयर के मुकाबले चने का रकबा 35.9 लाख हेक्टेयर है जबकि कर्नाटक में किसानों ने 13.8 लाख हेक्टेयर में चने की खेती की है, पिछले साल यह आंकड़ा 10.81 लाख हेक्टेयर था। महाराष्ट्र में चने का रकबा इस साल पिछले साल के 18.68 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 19.77 लाख हेक्टेयर हो गया है।

पिछले साल के मुकाबले घट गया चना का भाव

राज्‍य 2017 2018 गि‍रावट

मध्‍यप्रदेश 5931 3446 42%

राजस्‍थान 5269 3576 32%

छत्‍तीसगढ़ 5571 3452 38%

स्रोत - एगमार्क नेट

ये भी पढ़ें- यह उपाय अपनाएं तो किसानों को नहीं फेंकनी पड़ेगी सड़कों पर अपनी उपज

मध्य प्रदेश में होता है सबसे अधिक चने का उत्पादन

भारत चने का सबसे अधिक उत्पादन करने वाला देश है, सबसे अधिक उत्पादन मध्य प्रदेश (39%), महाराष्ट्र (14%), राजस्थान (14%), आंध्र प्रदेश (10%), उत्तर प्रदेश (7%), व कर्नाटक (4%) है। ऐसे में देश भर की मंडियों में नई फसल के आने से आवक बढ़ गई है, जिससे किसानों को सही दाम ही नहीं मिल पा रहा है।

ये भी पढ़ें- रकबा कम होने के बावजूद देश में इस साल गेहूं उत्पादन 10 करोड़ टन  

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top