रकबा कम होने के बावजूद देश में इस साल गेहूं उत्पादन 10 करोड़ टन  

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   20 March 2018 5:07 PM GMT

रकबा कम होने के बावजूद देश में इस साल गेहूं उत्पादन 10 करोड़ टन  किसान को नहीं मिलेगा गेहूं के अधिक उत्पादन का लाभ।

नई दिल्ली। देश में इस साल रिकार्ड 10 करोड़ टन गेहूं की पैदावार होने की संभावना है, जबकि पिछले साल के मुकाबले गेहूं का रकबा इस साल 4.27 फीसदी कम है।

करनाल स्थित गेहूं एवं जौ अनुसंधान संस्थान (आईआईडल्यूबीआर) के निदेशक जी. पी. सिंह ने फसली वर्ष 2017-18 (जुलाई-जून) के चालू रबी सीजन में गेहूं का उत्पादन 10 करोड़ टन होने की संभावना जताई है।

हालांकि, पिछले माह 27 फरवरी को केंद्रीय कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी मौजूदा फसली वर्ष के दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान में 9.71 करोड़ टन गेहूं की पैदावार होने का आकलन किया गया है।

ये भी पढ़ें- गेहूं उत्पादन में कृषि कर्मण पुरस्कार जिस राज्य को मिला उसका नाम सुन आप चौंक जाएंगे

जी. पी. सिंह ने कहा, "इस साल गेहूं की फसल के लिए मौसम अनुकूल रहा और कीट के हमले से पीला रतुआ रोग की शिकायतें बहुत कम जगहों पर देखने को मिलीं। दाना भरने व पकने के समय अनुकूल तापमान होने से गेहूं की पैदावार अच्छी होने की उम्मीद है।"

उधर, केंद्रीय कृषि सचिव शोभना पटनायक ने देश में इस साल गेहूं का उत्पादन पहले से ज्यादा होने की संभावना जताई है। शोभना पटनायक ने कहा,"पिछले साल देश में 9.85 करोड़ टन गेहूं का उत्पादन हुआ था, लेकिन इस साल आईआईडब्ल्यूबीआर के वैज्ञानिक 10 करोड़ टन गेहूं उत्पादन के बारे में बता रहे हैं।"

ये भी पढ़ें- यूपी : गेहूं का समर्थन मूल्य 1735 रुपए प्रति कुंतल तय, 72 घंटे में किसानों को मिलेगा पैसा

जी. पी. सिंह ने बताया कि मौजूदा मार्च महीने में तापमान 30 डिग्री सेल्सियस चल रहा है, जो गेहूं की फसल के लिए अनुकूल है और बंपर पैदावार होने की संभावना है।

आईआईडब्ल्यूबीआर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) की नोडल एजेंसी है, जो देश में गेहूं और जौ पर अनुसंधान कार्य के लिए समर्पित है।

ये भी पढ़ें- काले गेहूं की खेती होती है, लेकिन बाकी सच्चाई भी जान लीजिए

जी. पी. सिंह ने बताया कि गेहूं की कटाई, गुजरात और मध्यप्रदेश में पहले ही शुरू हो चुकी है और अन्य जगहों पर भी आगे शुरू होने वाली है।

मालूम हो कि राजस्थान के भी कुछ इलाकों में गेहूं की कटाई पहले ही शुरू हो चुकी है। केंद्र व राज्य सरकारों की एजेंसियों ने राजस्थान और मध्यप्रदेश के कुछ इलाकों में गेहूं की नई फसल की खरीद भी शुरू कर दी है। पंजाब और हरियाणा में आमतौर पर एक अप्रैल से गेहूं की कटाई शुरू होती है।

करनाल के तारावड़ी गांव के किसान मनोज मुंजाल ने इस साल 150 एकड़ में गेहूं की फसल लगाई है। उन्होंने बताया कि उन्हें इस साल बंपर पैदावार की उम्मीद है।

ये भी पढ़ें- बढ़ता तापमान गेहूं किसानों के लिए बन सकता है नया सिरदर्द 

केंद्र सरकार ने इस साल केंद्रीय कोटे के लिए 3.2 करोड़ टन गेहूं की सरकारी खरीद का लक्ष्य रखा है। पिछले साल सरकारी एजेंसी ने देशभर में 3.08 करोड़ टन गेहूं खरीदे थे।

ये भी पढ़ें- एक मुर्गा जिसके खून का रंग काला है, उसके लिए दो राज्य आपस में भिड़े 

इस साल केंद्र सरकार ने रबी विपणन वर्ष 2018-19 (अप्रैल-मार्च), जिसके दौरान फसली वर्ष 2017-18 में उत्पादित फसलों की खरीद व बिक्री होती है, के लिए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 1,735 रुपए प्रति कुंतल तय किया है। पिछले साल गेहूं का एमएसपी 1,625 रुपए प्रति कुंतल था।

ये भी पढ़ें- खुशखबरी : रेलवे ने 90 हजार पदों के लिए मांगे आवेदन, अंतिम तिथि 12 मार्च  

कृषि व्यापार से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top