मध्य प्रदेश में एक हजार किसानों ने एक सुर में कहा, बजट किसान विरोधी

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   15 Feb 2018 4:06 PM GMT

मध्य प्रदेश में एक हजार किसानों ने एक सुर में कहा, बजट किसान विरोधी‘आम किसान यूनियन’ के केदार सिरोही

बडवानी। नर्मदा घाटी के करीब एक हजार किसानों, मजदूरों, मछुआरों, पशुपालकों और आदिवासियों ने बजट 2018 के विश्लेषण के साथ उसका बहिष्कार किया और रैली निकाली। किसानों ने सरकार पर आरोप लगाया कि बजट में किसानों के तमाम मुद्दों को नकारा गया है।

रैली की अगुवाई कर रहे 'आम किसान यूनियन' के केदार सिरोही ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर किसानों के पक्ष में कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने राज्य स्तर पर किसान सम्मलेन का आह्वान किया, जिसमें नौ लाख किसानों के शामिल होने का अनुमान है।

ये भी पढ़ें- ऐसे जाने, ग्राम पंचायत को कितना मिला पैसा, और कहां किया गया खर्च

रैली में शामिल हुई समाजसेवी मेधा पाटकर ने कहा, "यह बात आज साबित हो गई की किसानों को बडवानी, धार, अलीराजपुर, खरगोन जैसे जिलों की मंडियों में न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं मिल रहा है।"

ये भी पढ़ें- कृषि संकट को समझने के लिए बुलाया जाए विशेष संसद सत्र : पी. साईनाथ

मध्य प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

किसान संघर्ष समिति के सदस्य राजेश बैरागी ने कहा कि अलीराजपुर जैसे जिले में पिछले तीन साल में 462 आदिवासियों ने आत्महत्याएं की हैं।

ये भी पढ़ें- आखिर कब तक सड़कों पर सब्जियां फेंकने को मजबूर होते रहेंगे किसान 

इस रैली में बडवानी नगर कांग्रेस सदस्य चंदू भाई यादव ने मंडी की समस्याएं सामने रखीं। साथ ही उन्होंने कहा कि नर्मदा घाटी के किसानों पर आए संकट का न तो अभी तक समाधान हुआ है और न ही उन्हें नुकसान की भरपाई मिल रही है। यहां की खेती बर्बाद हो रही है।

ये भी पढ़ें- ग्रीन हाउस लगवाने पर सरकार दे रही 50 प्रतिशत अनुदान, जल्द करिए आवेदन

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top