गोरखपुर मामले में मुख्यमंत्री योगी, स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह इस्तीफा दें : कांग्रेस

गोरखपुर मामले में मुख्यमंत्री योगी, स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह  इस्तीफा दें : कांग्रेसबाबा राघवदास मेडिकल कालेज गोरखपुर में पीड़ित महिला।

नई दिल्ली/गोरखपुर (भाषा)। बाबा राघवदास मेडिकल कालेज गोरखपुर में आक्सीजन गैस की आपूर्ति में कथित कमी से हुई बच्चों की मौतों पर कांग्रेस ने आज कहा कि गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में 30 शिशुओं की मौत की ' 'नैतिक जिम्मेदारी ' ' लेते हुए उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को इस्तीफा दे देना चाहिए।

कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा कि इन मौतों के लिए जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा, ' 'स्पष्ट तौर पर इसके दो आयाम हैं, जिम्मेदार लोगों की आपराधिक भूमिका। इनमें अस्पताल प्रशासन, आक्सीजन आपूर्तिकर्ता, अस्पताल पर निगरानी रखने वाला जिला प्रशासन शामिल हैं। अन्य आयाम है मुख्यमंत्री की नैतिक जिम्मेदारी। ' '

गोरखपुर में बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में धरना प्रदर्शन, बीस-बीस लाख रुपए मुआवजे की मांग

कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, ' 'जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हत्या के समान आपराधिक भूमिका तय होनी चाहिए, एक नैतिक आयाम है जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और उनके स्वास्थ्य मंत्री को नैतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए और तुरंत इस्तीफा देना चाहिए। ' '

कांग्रेस नेता ने उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री को आडे हाथ लेते हुए ट्वीट किया, ' 'उप्र के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने लालबहादुर शास्त्री जी के नाम केवल वोट मांगे, शास्त्री जी की उच्च नैतिकता वाली राजनीति का अनुसरण नहीं किया, शास्त्रीजी ने रेल दुर्घटना की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दिया था सिद्धार्थनाथ सिंह शिशुओं की मौत के बाद भी सत्ता से जुड़े हुए हैं।' '

उप्र के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के पौत्र हैं।

स्वास्थ्य मंत्री सिंह सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कल कहा था, ' 'बच्चों की मौत बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है, सरकार इस बात का पता लगाने के लिए एक समिति गठित करेगी कि क्या कोई चूक हुई थी ? और यदि किसी को दोषी पाया गया तो उसे जवाबदेह बनाया जाएगा। ' '

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

Share it
Share it
Share it
Top