लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन ने मांगें पूरी करने का दिया आश्वासन, आमरण अनशन स्थगित

Astha SinghAstha Singh   29 Sep 2017 4:22 PM GMT

लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन ने मांगें पूरी करने का दिया आश्वासन, आमरण अनशन स्थगितअनशन के दौरान बेहोश छात्र अजीत सिंह 

गाँव कनेक्शन

लखनऊ | छात्रसंघ चुनाव बहाली की मांग और छात्रनेताओं पर फर्जी मुकदमों में फंसाए जाने से नाराज छात्रों ने आत्मदाह करने के लिए अपने ऊपर पेट्रोल छिड़क लिया ,इससे पहले कि कोई आग लगाता धरने पर बैठे वरिष्ठ छात्रनेताओं ने बीच बचाव कर बड़ी अनहोनी होने से बचा लिया। धरने पर बैठे छात्रों के अचानक उग्र होने की सूचना मिलते ही लविवि अधिकारियों के होश उड़ गए। इससे पहले कि मौके पर कोई अधिकारी पहुंचता नाराज छात्रों ने सड़क जाम कर दी। रजिस्ट्रार प्रो़ राजकुमार सिंह मौके पर पहुंचे और छात्रों की मांगें पूरी करने का आश्वासन दिया। इसके बाद धरना दे रहे छात्रों ने आमरण अनशन स्थगित करने का ऐलान कर दिया|

लविवि में गुरुवार को सुबह से ही धरना स्थल के पास पुलिस और पीएसी की टुकड़ी तैनात कर दी गई थी। सुबह 10 बजे से छात्रनेता लविवि में जुलूस निकालकर नारेबाजी करते रहे। दोपहर करीब 12 बजे धरने पर बैठे छात्रों ने विरोध प्रदर्शन के बाद फर्जी मुकदमों को वापस लेने की मांग करते हुए जिलाधिकारी से लिखित में शिकायत की। दोपहर बाद तक धरना प्रदर्शन शांतिपूर्वक चल रहा था, इस बीच दो छात्र अजीत प्रताप सिंह और दिव्यांशु सिंह रजत की तबीयत ज्यादा खराब हो गई। दोनों को ऐम्बुलेंस से सिविल अस्पताल भेजा गया। इस दरम्यान मौके पर लविवि का कोई अधिकारी नहीं मौजूद था|

ये भी पढ़ें- वाराणसी कमिश्नर की रिपोर्ट - बीएचयू बवाल के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन जिम्मेदार

छात्रों ने की आत्मदाह की कोशिश

प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने अपने ऊपर पेट्रोल छिड़क लिया| बीए तृतीय वर्ष के एक छात्र अर्जुन सिंह ने पेट्रोल पी लिया जिसे आनन- फानन में सिविल अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के बाद उसकी स्थिति सुधर गई|

छात्रों ने दिखाई अपनी रसीद

छात्रों ने लविवि की उस दलील को फर्जी और झूठा साबित कर दिया, जिसमें धरना दे रहे छात्रों को बाहरी बताया गया था। गुरुवार को सभी प्रदर्शनकारी छात्र अपने साथ फीस रसीद और आईडी कार्ड लेकर बैठे थे।

छात्रसंघ चुनाव को लेकर कोर्ट में नौ और दस नवंबर को सुनवाई है। इसमें लविवि अपना पक्ष रखेगा। हां, सेंट्रल मेस के मामले में जो भी छात्र निर्दोश हैं उनके खिलाफ विवि कोई भी कार्रवाई नहीं करेगा।
प्रो. एनके पांडेय,प्रवक्ता लविवि

पूरे दिन चला हाई वोल्टेज ड्रामा

गुरूवार को अनशन समाप्त होने से पहले पूरे दिन परिसर में बवाल चला| छात्र लगातार आंदोलन कर रहे थे और उन्हें रोकने के लिए पुलिस व पीएसी को खासी मशक्कत करनी पड़ रही थी| चूँकि विवि शुक्रवार से बंद हो रहा है इसलिए यह सारी प्रक्रिया 3 अक्टूबर को विवि खुलने पर होगी| उधर छात्रों का कहना है की विवि के आश्वासन के बाद धरना फिलहाल स्थगित कर दिया है| अगर विवि के दावे सिर्फ आश्वासन तक रह गए तो आंदोलन फिर से होगा|

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में खुलेगा पहला खेल विश्वविद्यालय

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top