यूपी : योगी सरकार के कल पूरे होंगे 6 महीने, श्वेत  पत्र में कहा- पिछली सरकारों ने बढ़ाया घाटा

vineet bajpaivineet bajpai   18 Sep 2017 6:37 PM GMT

यूपी : योगी सरकार के कल पूरे होंगे 6 महीने, श्वेत  पत्र में कहा- पिछली सरकारों ने बढ़ाया घाटायोगी सरकार ने जारी किया श्वेत पत्र।

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार के छह महीने के कार्यकाल का श्वेत पत्र पेश किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार के काम-काज का लेखा-जोखा पेश करते हुए पिछली सरकारों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ नर्म रुख अपनाया जिसके चलते विकास की योजनाओं में भ्रष्टाचार हुआ। 19 सितंबर को योगी सरकार को 6 महीने पूरे हो रहे हैं।

योगी ने कहा कि जनता को सरकार के 6 महीने का लेखा जोखा जानने का हक है। इसलिए हम श्वेत पत्र-2017 के रूप में सरकार का संक्षिप्त विवरण पेश कर रहे हैं। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछली सरकार में प्रदेश की क्या स्थिति थी इसकी जानकारी जनता को होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जनता के प्रति अपनी जवाबदेही और प्रतिबद्धता को हमने आगे बढ़ाया है। छह महीने में अपने काम का श्वेत पत्र हम आपके सामने रख रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने अपराधियों को संरक्षण देने काम किया है। हमारी सरकार से पहले प्रदेस की स्थिति बेहतर नहीं थी।

ये भी पढ़ें : मोदी ने स्वच्छ भारत को बढ़ावा देने के लिये विभिन्न क्षेत्रों की हस्तियों को लिखा खत

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों ने अलोकतांत्रिक काम किए, विकास के कार्यों को रोका गया, विकास की योजनाओं पर भ्रष्टाचार को रोका नहीं गया। उन्होंने कहा कि हम छह महीने के एक दिन पहले अपने कार्यकाल के दौरान उपलब्धियों का श्वेत पत्र लेकर सामने आए हैं। चुनाव के पहले जो वायदे किए जाते हैं, उसपर कितना काम हुआ, उसके प्रति हमारी क्या जवाबदेही है, यह श्वेत पत्र उसका उदाहरण है। चुनाव के पहले जो वायदे किए जाते हैं, उसपर कितना काम हुआ, उसके प्रति हमारी क्या जवाबदेही है, यह श्वेत पत्र उसका उदाहरण है। प्रदेश के अंदर सार्वजनिक उद्यम किस स्थिति से गुजरे हैं और इस दौरान काम करने वाली सरकारों ने उनकी क्या दुर्गती की है, उसका हम अनुमान लगा सकते हैं।

ये भी पढ़ें : देश में सुरक्षा का हाल : 1 VIP की सुरक्षा में 3 और 663 आम लोगों पर 1 पुलिसकर्मी तैनात

एक महीना योगी का : यूपी सरकार ने 30 दिन में लिए कई बड़े फैसले, पढ़िए जनता की राय

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top