बीएचयू विवाद : 1200 छात्र-छात्राओं पर FIR दर्ज, हॉस्टल का काटा गया बिजली-पानी कनेक्शन

Karan Pal SinghKaran Pal Singh   27 Sep 2017 9:07 AM GMT

बीएचयू विवाद : 1200 छात्र-छात्राओं पर FIR दर्ज, हॉस्टल का काटा गया बिजली-पानी  कनेक्शनबीएचयू

वाराणसी। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय परिसर में 'बढ़ती छेड़खानी' के खिलाफ सुरक्षा की मांग कर रही छात्राओं पर लाठीचार्ज के मामले पर शुरू हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच बीएचयू गेट के बाहर जहां सैकड़ों की संख्या में छात्र विरोध प्रदर्शन में जुटे हैं। वहीं कांग्रेस, लेफ्ट सहित विभिन्न छात्र संगठनों ने भी दिल्ली में विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है।

1200 छात्र-छात्राओं पर केस

इस बीच वाराणसी पुलिस ने बीएचयू परिसर में हिंसक वारदात और शांति भंग के आरोपों के तहत 1200 अज्ञात छात्र-छात्राओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। वहीं यूनिवर्सिटी कैंपस में लाठीचार्ज के लिए पहली नजर में दोषी पाए गए लंका थाने के इंचार्ज, भेलूपुर के सीओ और एक अतिरिक्त सिटी मजिस्ट्रेट को हटा दिया गया है।

संबंधित खबर :- बीएचयू विवाद : “कुर्ते में हाथ डाला था, कोई कहां तक बर्दाश्त करे”

हॉस्टल का काटा गया बिजली-पानी का कनेक्शन

रविवार से ही छात्र-छात्राओं से होस्टल खाली कराए जा रहे हैं और उनके बिजली-पानी का कनेक्शन भी काट दिया गया है। बीचयू में पढ़ने वाली छात्रा ने बताया कि रविवार रात से ही हॉस्टल का बिजली-पानी कनेक्शन काट दिया गया था। यहां तक की बाहर जो स्ट्रीट लाइट लगी हैं उनमें तक कोई भी बल्ब नहीं जल रहा था। हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

संबंधित खबर:- बीएचयू में लाठीचार्ज पर पहली बड़ी कार्रवाई, हटाए गए लंका के एसओ और भेलूपुर के सीओ और एसीएम

बीएचयू कैंपस में जमी पुलिस

बीएचयू के बाहर छात्र-छात्रों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने कैंपस के अंदर पुलिस बुला लिया है और आसपास की दुकानों को एहतियातन बंद करा दिया गया है।

सीएम ने मांगी रिपोर्ट, वीसी ने बताई साजिश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पूरे मामले पर आईजी पुलिस से रिपोर्ट मांगी है। वहीं बीएचयू के कुलपति ने इस पूरे आंदोलन को बाहरी तत्वों की साजिश बताया है। प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी ने कहा की छात्रों का हंगामा विश्विद्यालय को बदनाम करने की साजिश है। शनिवार रात को परिसर हिंसा में बाहरी लोग शामिल थे। उन्होंने कहा की उपद्रव की घटना बाहरी लोगों की देन है। हमारे विश्विद्यालय के छात्रावास में करीब 25 हजार छात्र रहते हैं और हमें इस बात की ख़ुशी है, वे उपद्रव में शामिल नहीं थे। उन्होंने कहा कि विश्विद्यालय में बाहरी लोगों का प्रवेश तब से है, जब से विश्विद्यालय बना है। अब हम कोशिश करेंगे की विश्विद्यालय परिसर में बाहर के लोगों का आना जाना बंद किया जाए।

संबंधित खबर :- बीएचयू की कहानी 4 लड़कियों की जुबानी... ‘हां हम हर वक्त छेड़खानी की दहशत में जीते हैं’

देखें वीडियो...

संबंधित खबर :- बीएचयू मामले में रवीश कुमार की टिप्पणी : आवश्यकता है ढंग के वाइस चांसलरों की

संबंधित खबर :- सोशल मीडिया पर वायरल हो रही घायल लड़की की फोटो बीएचयू की नहीं है, ये है हकीकत

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top