संसद भवन के सामने 20 नवंबर को होगा किसान मुक्ति संसद का आयोजन

संसद भवन के सामने 20 नवंबर को होगा किसान मुक्ति संसद का आयोजनयोगेन्द्र यादव।

नई दिल्ली। स्वराज इंडिया के संयोजक योगेंद्र यादव ने कहा है कि 20 नवंबर को देश के तमाम हिस्सों से विशाल संख्या में किसान संसद मार्ग पहुंचकर किसान मुक्ति संसद का आयोजन करेंगे। किसानों का मुख्य मुद्दा कर्ज मुक्ति और फसल का पूरा दाम होगा।

योगेन्द्र यादव ने कहा कि अगर सरकार वादा पूरा नहीं करती है तो किसान खुद अपनी संसद बनाकर किसान मुक्ति बिल पारित करेंगे। किसी भी सूरत पर हम इस मुद्दे पर सरकार से लेकर सड़क तक और अगर जरूरत पड़ी तो सुप्रीम कोर्ट तक लड़ने के लिए तैयार हैं। स्वाराज इंडिया ने कहा कि कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने लोकसभा में इस वादे को ही नकार दिया है। स्वराज इंडिया का कहना है कि कृषि मंत्रालय का नाम बदलकर कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय रख दिया गया लेकिन इससे देश के किसानों की तस्वीर अभी तक नहीं बदल पाई है और ना ही किसान आत्महत्यों में कोई कमी आई है।

यह भी पढ़ें: देश में फिर बड़े किसान आंदोलन की आहट, 184 किसान संगठन मिलकर 20 को भरेंगे हुंकार

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने 20 नवंबर को दिल्ली में संसद भवन के सामने कर्ज मुक्ति और स्वाभिमान आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की मांग को लेकर बड़ा आयोजन करने का फैसला किया है। समन्वय समिति में शामिल स्वराज इंडिया ने 13 नवंबर को केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह के आवास का घेराव कर उनको वायदों की याद दिलाई। बता दें कि प्रधानमंत्री की ओर से लोक सभा चुनाव के दौरान स्वाभिमान आयोग की रिपोर्ट लागू करने के बारे में भी लोगों को जानकारी दी गई।

यह भी पढ़ें:

किसान आंदोलन नेताओं के बहकावे पर नहीं होते

भारत में किसानों की बदहाल तस्वीर दिखाते हैं हाल ही में हुए ये किसान आंदोलन

चकबंदी का चक्रव्यूह: भारत में 63 साल बाद भी नहीं पूरी हुई चकबंदी

किसान मुक्ति यात्रा और एक फोटोग्राफर की डायरी (भाग-2)

First Published: 2017-11-14 22:43:17.0

Share it
Share it
Share it
Top