जानिए कैसे गुलाब की खेती से हर साल 30 लाख रुपए कमाता है यह किसान

खेती के लिए युवा किसान ने इंफोसिस की नौकरी छोड़ दी, फूलों की कमाई से दस बीघा खेत खरीद लिया

Chandrakant MishraChandrakant Mishra   7 Feb 2019 6:00 AM GMT

जानिए कैसे गुलाब की खेती से हर साल 30 लाख रुपए कमाता है यह किसान

लखनऊ। राजस्थान का युवा किसान जिसने अच्छी खासी पढ़ाई के बाद नौकरी की जगह आधुनिक खेती की ओर रुख किया और आज क्षेत्र के किसानों के लिए प्रेरणा श्रोत बना हुआ है। यह युवा किसान गुलाब की खेती से हर साल 40-45 लाख रुपए कमा रहा है। राजस्थान के जिला भीलवाड़ा के बीगोद गांव निवासी युवा किसान आशुतोष पारिक (26वर्ष) पारंपरिक खेती से हटकर गुलाब की खेती से हर साल लाखों की कमाई कर रहे हैं। खेती के लिए विनीत ने इंफोसिस की नौकरी छोड़ दी।

आशुतोष ने बताया, " मैं बीटेक करने के बाद जयपुर में इंफोसिस कंपनी में नौकरी करता था। वहां मेरा लाख रुपए का पैकेज था। नौकरी में मेरा मन नहीं लगता था। पढ़ाई के समय मैंने खेती से जुड़े कार्यशालाओं में हिस्सा ले चुका था। इसलिए मैंने नौकरी छोड़ खेती करने की ठान ली। मेरे इस फैसले से घर वाले खुश नहीं थे। उनका कहना था इतनी अच्छी नौकरी छो़ड कर खेती करना चाहते हो। खेती में मुनाफा नहीं होने वाला है। यह घाटे का सौदा होगा। लेकिन मैंने उन्हें राजी कर लिया।

ये भी पढ़ें: मल्चिंग और ड्रिप इरीगेशन से बढ़ सकती है भिंडी की पैदावार


" मैंने पहले ही ठान लिया था कि परंपरागत खेती की जगह आधुनिक खेती करनी है, क्योंकि जब तक आप अन्य लोगों से कुछ अलग नहीं करेंगे तब तक खेती से मुनाफा नहीं कमा सकते थे। मैं फूलों की खेती करने का मन लिया। सबसे अच्छी बात है फूलों की खेती में बीमारियां बहुत नहीं लगती हैं। वर्ष 2016 मैं नौकरी छोड़ खेती करने लगा। वर्ष 2016 में 6000 स्क्वायर मीटर (डेढ़ एकड़) में पॉलीहाउस लगाया, जिसकी अनुमानित लागत 33 लाख रुपए आई। इसमें से 10 लाख रुपये मैंने दिए थे और 13 लाख रुपए का अनुदान मिला था। "आशुतोष ने बताया।


ये भी पढ़ें: ज्ञानी चाचा और भतीजा के इस भाग में देखिए कैसे करें पॉली हाउस में खेती

आशुतोष ने बताया, " एक एकड़ में 30 हजार पौधे लगते हैं। मैंने अपने डेढ़ एकड़ में 45000 पौधे लगा रखे हैं। हर पौधे से प्रति वर्ष औसतन 20 फूल निकल जाते हैं। मैं अपने फूलों को स्टिक के हिसाब से बेचता हूं। शादी और त्योहारी सीजन में एक स्टिक के 6-8 रुपए मिल जाते हैं। वहीं आफ सीजन 4-5 रुपए मिल जाते हैं। सबसे ज्यादा दाम वैलेनटाइम डे, क्रिसमस और न्यू ईयर के दिन मिलता है। इस दिन एक स्टिक 10 रुपए में बिकती है। हम साल मेरा टर्न ओवर 45 लाख के करीब है। कुल खर्च निकाल कर मुझे तीस से पैतीस लाख रुपए का मुनाफा हो जाता है।"


वेलेंटाइन डे के दिन 30 लाख रुपए कमाने का लक्ष्य

विनीत ने वेलेंटाइन डे के दिन 30 लाख रुपए कमाने का लक्ष्य बना रखा है। इसके लिए वै पूरी तैयारी के साथ जुटे हुए हैं। आशुतोष ने बताया, " 14 फरवरी तक मेरे खेत में करीब तीन लाख फूल तैयार हो जाएंगे। इस साल मैंने एक दिन में 30 लाख रुपए के गुलाब बेचने का लक्ष्य बना रखा है। अगर एक स्टिक के 10 रुपए मिल जाएंगे तो कुछ खर्च निकालकर 30 लाख रुपए का मुनाफा हो जाएगा।"

ये भी पढ़ें: खेत की सब्जियों की तुलना में ग्रीन हाउस की सब्जियां अधिक रोगमुक्त

गुलाब की उन्नत किस्में

रेड रोज- टॉप सीक्रेट राजमहल

व्हाइट रोज- अवालेन्स

येलो- गोल्ड स्टिक

ऑरेंज- नारंगा


इस तरह करें खेती

-खेत को क्यारियों में बांट लें

-क्यारियों की चौड़ाई १०० सेमी. और लंबाई ग्रीन हाउस पर निर्भर करता है

- दो क्यारियों के बीच में आधा मीटर स्थान छोड़ना चाहिए

- गोबर की सड़ी खाद एक महीने पहले क्यारी में डालना चाहिए

- जून से लेकर जुलाई तक प्लांटेशन कर देना चाहिए

- चार महीने में एक पौधा फूल देने लगता है

- बरसात के मौसम में क्यारियों में बहुत देर तक पानी भरा न रहने दें

- हर साल, पौधों की छंटाई कर ऊपर की 2-3 इंच मिट्टी निकाल कर उसमें गोबर की खाद भर दें

ये भी पढ़ें: डॉक्टर बना किसान, आधुनिक खेती को बनाया आय का जरिया


बाजार और खेती की होनी चाहिए समझ

आशुतोष ने बताया, " खेती मुनाफे का सौदा तभी बन सकती है जब आपको बाजार और खेती की समझ होगी। नहीं तो आप घाटे में जा सकते हैं। वर्तमान में जयपुर और अजमेर में गुलाब के फूल की बहुत ज्यादा मांग है। मेरे खेत की पूरी फसल यहीं खपत हो जाती है। अगर कोई किसान फूलों की खेती करना चाहता है तो कृषि विभाग की योजनाओं का लाभ ले सकता है। परम्परागत फसलों को छोड़कर फूलों और सब्जियों की खेती करेंगे तो निश्चित ही खेती मुनाफे का सौदा साबित होगी। "

ये भी पढ़ें: सोनामुखी की खेती से अपने साथ दूसरे किसानों की भी जिंदगी बदल रहा ये किसान

एक दर्जन लोग करते हैं काम

आशुतोष ने खेतों में गुलाब के पौधों की देखभाल और फूलों की तुड़ाई के लिए गांव के एक दर्जन लोगों को लगा रखा है, इसमें से ज्यादातर महिलाएं हैं। इन लोगों को छह हजार रुपए प्रतिमाह के हिसाब से वेतन देते हैं। खेत में काम करने वाली रजिया ने बताया, " रोज सुबह 8 बजे मैं खेत में आ जाती हूं। पौधों की देखभाल के साथ-साथ उनकी तुड़ाई भी करती हूं। मुझे गांव में ही रोजगार मिल गया है, यह मेरे लिए काफी अच्छा है।"

ये भी पढ़ें: स्टेकिंग विधि से सब्जियों की खेती कर मुनाफा कमा रहे किसान

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top