ब‍िहार: लेमनग्रास की खेती ने बांका की बंजर भूमि को हरा-भरा कर दिया, किसानों को अच्‍छी कमाई की उम्‍मीद 

बिहार के बांका जिले में लगभग 1,000 एकड़ की 'बंजर भूमि' आज हरी भरी है, क्योंकि पथरीले इलाके में लेमनग्रास की खेती होने लगी है। जिला प्रशासन की मदद से 500 से अधिक किसानों ने अपनी बंजर भूमि को सुगंधित खेतों में बदल दिया है और लेमनग्रास तेल के निर्यात के लिए अपना खुद का एफपीओ भी बनाया है।

Nidhi JamwalNidhi Jamwal   15 Dec 2021 6:36 AM GMT

रिखिया राजदाह (बांका), बिहार। पिछले साल, जब महामारी ने दुनिया को अपने घुटनों पर ला दिया, तो मनोज कुमार यादव के लिए को भी इसकी उम्मीद न थी, जिनके पास बिहार में बांका जिले के रिखिया राजदाह गाँव में एक दो एकड़ खेत है, जो राज्य की राजधानी पटना से लगभग 250 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में है।

"मेरी यह जमीन बंजर थी। यहां के किसान गरीब हैं और उन्हें बंजर जमीन पर कुछ भी उगाने की जानकारी नहीं है। ट्रैक्टरों की तो बात ही छोड़ दीजिए, कई तो अपने खेतों की जुताई के लिए बैल भी नहीं खरीद सकते।

लेकिन ये बात पुरानी हो गयी है। क्‍योंक‍ि अब यादव का खेत सुगंधित लेमनग्रास की खेती के लिए पहचाना जाता है।

"पिछले साल कृषि विभाग ने हमें अपनी बंजर भूमि पर लेमनग्रास की खेती के लिए कहा और इसके लिए हमारा मार्गदर्शन भी किया, इसलिए अब हमारे खेत हरे हैं और खुशबू बिखेर रहे हैं, "मनोज खुशी से मुस्‍कुराते हुए कहते हैं।

लेमनग्रास की खेती के लिए थोड़े पानी की ही जरूरत पड़ती है, यह पथरीली जमीन पर कम से कम देखभाल के साथ बढ़ सकती है। सभी फोटो: यश सचदेव

लेमनग्रास की खेती के लाभों को पहचानते हुए बांका जिला प्रशासन इसका जोर दार प्रचार कर रहा है। पिछले साल से जब से लेमनग्रास की खेती को बढ़ावा मिला है, जिले के 500 से अधिक किसानों ने इसकी खेती शुरू की है, जो बांका में लगभग 1,000 एकड़ क्षेत्र (ज्यादातर बंजर भूमि) में फैल चुकी है।

"बांका की भौगोलिक और जनसांख्यिकीय स्‍थ‍ित‍ि शेष ब‍िहार से अलग और खास है। इसकी मिट्टी और बारिश का पैटर्न पारंपरिक खेती के लायक नहीं है। जमीन पथरीली है और किसान साल में केवल एक खरीफ फसल की ही खेती कर सकते हैं है, "बांका के जिलाधिकारी सुहर्ष भगत ने गांव कनेक्शन को समझाया। लेमनग्रास तेल का उपयोग हर्बल और कॉस्मेटिक दोनों उत्पादों में किया जाता है।

"लेमनग्रास की खेती के लिए थोड़े पानी की ही जरूरत पड़ती है, यह पथरीली जमीन पर कम से कम देखभाल के साथ बढ़ सकती है। साथ ही किसान साल में तीन फसलें ले सकते हैं। कम सिंचाई सुविधाओं के साथ वे साल में चार बार लेमनग्रास की कटाई भी कर सकते हैं। इस तरह हर किसान किसान प्रति वर्ष 50,000 रुपए प्रति एकड़ तक कमा सकता है, "जिला मजिस्ट्रेट ने कहा। उन्होंने बताया कि पारंपरिक धान या गेहूं की फसल से प्रति एकड़ प्रति वर्ष 10,000-15,000 रुपए की कमाई होती है।

लेमनग्रास किसानों ने सुगंधिम बांका एफपीओ लिमिटेड नामक अपना स्वयं का एफपीओ [किसान उत्पादक संगठन] भी बनाया है और इसके साथ 180 किसान पंजीकृत हैं। "एफपीओ जिला प्रशासन की मदद से लेमनग्रास से निकालने के संयंत्र भी स्थापित कर रहा है जो बिहार में पहली ऐसी अत्याधुनिक इकाई है, "राजेश सिंह, जो किसानों को संगठित कर रहे हैं और संयंत्र स्थापना की देखरेख कर रहे हैं, ने गांव कनेक्शन को बताया।


सुगंधित लेमनग्रास तेल तेल का वर्तमान थोक मूल्य 1,200 रुपए से 1,400 रुपए प्रति लीटर के बीच है और इससे बांका के किसानों के लिए धन और समृद्धि आने की उम्मीद है, सिंह ने आश्वासन दिया। संयंत्र से प्रति माह 1,000 लीटर तेल निकालने की उम्मीद है। इसका निर्माण के अपने अंतिम चरण में है।

यादव जैसे किसान जल्द ही अपनी लेमनग्रास की फसल को बेच सकेंगे। "कुछ कमाई की आस में लगाये हैं लेमनग्रास। दूसरा कोई उपाय नहीं है यहां। "यादव ने कहा।

बंजर भूमि से 'लेमनग्रास' भूमि तक

बांका जिले की एक अनूठी स्थलाकृति है। जिले का एक हिस्सा गंगा के मैदानों के अंतर्गत आता है, जबकि इसके पहाड़ी क्षेत्र, झारखंड राज्य की सीमा से लगे, छोटानागपुर पठार में आते हैं।

बांका के लिए कृषि आकस्मिक योजना के अनुसार जिले का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 3,019.05 वर्ग किलोमीटर में से 13.5 प्रतिशत को आधिकारिक तौर पर 'बंजर और अकृषि योग्य भूमि' के रूप में चिन्हित है।

"अगर हमारे पास जमीन है भी तो यह किसी काम का नहीं है क्योंकि जमीन पथरीली है और हमारे पास सिंचाई की कोई सुविधा नहीं है। रिखिया राजदाह गांव में लेमनग्रास की खेती करने वाले किसान मनीष कुमार सुमन ने गांव कनेक्शन को बताया कि हम बारानी खेती करते हैं। सुमन, अपने भाइयों के साथ संयुक्त रूप से 15 एकड़ (छह हेक्टेयर से अधिक) भूमि के मालिक हैं।

"हम अपनी पथरीली भूमि पर केवल थोड़ी सी कुल्थी उगाते थे। फिर हमने लेमनग्रास की खेती के बारे में सुना। जिला प्रशासन लेमनग्रास की खेती के लिए 8,000 रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि [प्रोत्साहन] दे रहा था और हमने इसका लाभ उठाने का फैसला किया, "सुमन ने कहा।

पिछले साल से, जब लेमनग्रास की खेती को बढ़ावा मिला है, जिले के 500 से अधिक किसानों ने इसकी खेती शुरू की है, जो बांका में लगभग 1,000 एकड़ क्षेत्र (ज्यादातर बंजर भूमि) को कवर करती है। फ़ोटो: यश सचदेव

फिर उन्होंने 50 पैसे प्रति बल्ब की दर से लेमनग्रास बल्ब खरीदे और अपनी बंजर जमीन पर 100,000 से अधिक बल्ब लगाए और अपनी फसल काटने का इंतजार कर रहे हैं।

एक अन्य किसान यादव ने भी कुछ ऐसा ही किया। "मैंने मजदूरों को काम पर रखकर अपनी जमीन साफ करवाई और लेमनग्रास लगाया। फसल लंबे समय से कटाई के लिए तैयार है, लेकिन हमें अभी तक इससे कोई फायदा नहीं हुआ है।" "हमें अभी तक प्रोत्साहन राशि भी नहीं मिली है, "उन्होंने शिकायत की।

प्रोत्साहन राशि कहां है?

जहां बांका में किसानों ने लेमनग्रास की खेती की है, यादव जैसे कई लोगों को अभी तक 8,000 रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि वादे के बाद भी नहीं मिली है। उनका दावा है कि उन्होंने अपना पैसा लगाया और अभी तक इससे एक पैसा भी नहीं कमाया है।

"मैंने एक लाख लेमनग्रास बल्ब खरीदे। मैंने अपनी जमीन साफ करने में भी पैसा खर्च किया। लेकिन अभी तक मुझे वह प्रोत्साहन राशि नहीं मिली है जिसका हमसे वादा किया गया था, "सुमन ने कहा। "हमें बताया गया था कि हम अपनी लेमनग्रास की फसल साल में तीन बार काट सकते हैं। एक साल हो गया है और हमने एक बार भी कटाई नहीं की है क्योंकि तेल निकालने की इकाई, जहां हमें अपनी फसल बेचनी है अभी भी निर्माणाधीन है, "उन्होंने कहा।

"हम अपनी फसल काटने का इंतजार कर रहे हैं। प्रोत्साहन राशि करने के लिए हमने अपने बैंक खाते का डिटेल भी शेयर किया है, लेकिन अभी तक कोई प्रगति नहीं हुई है, "यादव ने शिकायत की। "एक बार तेल निष्कर्षण संयंत्र के काम करने के बाद चीजें आगे बढ़नी चाहिए," उन्होंने आशा व्यक्त की।

"किसानों को चिंता नहीं करनी चाहिए। इनमें से अधिकांश को आठ हजार रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि मिली है। बाकी को भी मिलेगा। हमने राष्ट्रीय बागवानी मिशन के सुगंध मिशन के तहत इस प्रोत्साहन की पेशकश की है, "जिला मजिस्ट्रेट भगत ने कहा।

तेल निकालने की इकाई

बांका में निर्माणाधीन सुगंधित तेल निकालने की मशीन, 10 मिलियन रुपये की लागत से आ रहा है। जिला मजिस्ट्रेट ने बताया, "कुल लागत का तीस प्रतिशत जिला प्रशासन द्वारा प्रदान किया जाता है, हालांकि जिला खनिज निधि और शेष सुगंधिम बांका एफपीओ द्वारा पेश किया गया है।"

भगत ने कहा, "संयंत्र का स्वामित्व एफपीओ के पास है और इसे किसान चलाएंगे।" संयंत्र के कामकाज की निगरानी सरकार की जिला स्तरीय कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी (एटीएमए) द्वारा की जाएगी।

लेमनग्रास ऑयल, एक सुगंधित तेल का मौजूदा थोक मूल्य 1,200 रुपये से 1,400 रुपये प्रति लीटर के बीच है। फ़ोटो : निधि जम्वाल

सिंह के अनुसार, लेमनग्रास से सुगंधित तेल निकालने के लिए यह 100 प्रतिशत स्टेनलेस स्टील स्टीम डिस्टिलेशन यूनिट न केवल बिहार, बल्कि पड़ोसी राज्यों पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड में भी ऐसी पहली इकाई है।

संयंत्र के कामकाज के बारे में बताते हुए, सिंह ने कहा: "एक बार में यूनिट में 600 किलोग्राम घास डाली जा सकती है। बायलर से भाप लेमनग्रास चेंबर में प्रवेश करेगी। सुगंधि‍त भाप फिर कंडेनसर में मिल जाएगी। इसके बाद यह विभाजक इकाई में जाएगा जहां पानी और सुगंधित लेमनग्रास तेल अलग किया जाता है। पानी जम जाएगा और तेल ऊपर तैरने लगेगा।"

उनके मुताबिक करीब 200 किलोग्राम लेमनग्रास एक लीटर लेमनग्रास ऑयल दे सकता है। सिंह ने कहा, 'हमारी इकाई से निकलने वाला तेल निर्यात गुणवत्ता वाला होगा और बाजार दर के आधार पर 1,200-1,400 रुपए या 1,800 रुपए प्रति लीटर तक मिलेगा।

बांका में लेमनग्रास तेल निष्कर्षण इकाई से हर महीने लगभग 1,000 लीटर सुगंधित तेल का उत्पादन होने की उम्मीद है। लेमनग्रास ऑयल अपने एंटीबैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाता है। इसका उपयोग औषधीय और सौंदर्य उत्पादों दोनों में किया जाता है।

लेमनग्रास: एक जलवायु अनुकूल पौधा

लेमनग्रास जलवायु के अनुकूल भी है क्योंकि इसमें कम पानी की आवश्यकता होती है, यह पथरीली भूमि पर उग सकता है और मिट्टी और जल संरक्षण दोनों में मदद करता है, भगत ने कहा।

"लेमनग्रास को रोपते समय ही पानी की आवश्यकता होती है। हम इसे जून, जुलाई और अगस्त में लगाते हैं जब मानसूनी वर्षा होती है। बाद में सिंचाई न होने पर भी पौधा नहीं मरेगा, केवल बायोमास कम होगा। और यह पूरी तरह से जैविक है, "सिंह ने कहा। "किसान साल में कम से कम तीन फसल ले सकते हैं। वर्तमान में, हमारा मुख्य उद्देश्य बहुत सारा पैसा कमाना नहीं है, बल्कि देश में गुणवत्ता वाले उत्पाद [लेमनग्रास ऑयल] को दूर-दूर तक ले जाने में मदद करना है, "उन्होंने कहा।

यादव ने कहा, "लेमनग्रास की खेती एक बार का निवेश है क्योंकि पांच साल तक पौधों को उखाड़ने की जरूरत नहीं होती है, और वही पौधा अगली फसल के लिए नई फसल और बीया [बल्ब] देता रहता है।"

इस बीच, जिन किसानों ने कभी नहीं सोचा था कि उनकी बंजर भूमि कभी कुछ भी देगी, उनके लेमनग्रास के खेतों को इस उम्मीद के साथ देखें कि वे उनके लिए सफलता की मीठी महक लाएंगे।

अंग्रेजी में पढ़ें

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.