सरकार के निर्धारित आलू रेट से किसान नाखुश

सरकार के निर्धारित आलू रेट से किसान नाखुशआलू किसानों को नहीं मिल रहा सही दाम।

कन्नौज। ‘‘सरकार ने आलू का रेट बहुत कम रखा है। लाल आलू 450-500 रुपए पैकेट बाजार में बिक रहा है। हमने आठ से 10 बीघा आलू बोया था, जो कोल्ड स्टोरेज में रख दिया है। सरकार को 500 से 550 रुपए पैकेट (एक पैकेट में 50-60 किलो आलू आता है।) आलू का रेट रखना चाहिए था।’’ यह कहना है जनपद कन्नौज के तहसील तिर्वा क्षेत्र के डडियन निवासी 55 वर्षीय रंजीत सिंह का।

ये भी पढ़ें- आलू का समर्थन मूल्य तय होने के बाद भी नहीं खोले गए आलू खरीद केंद्र, किसान परेशान

उत्तर प्रदेश सरकार ने ‘बाजार हस्तक्षेप योजना’ के तहत किसानों से आलू खरीदे का रेट 549 रुपए प्रति क्विंटल तय किया है, जो किसानों को नहीं भा रहा है। ऐसा इस लिए क्योंकि आढ़त और बाजारों में आलू का रेट इससे कहीं ज्यादा मिल रहा है। जिला मुख्यालय कन्नौज से करीब 75 किमी दूर सौरिख विकास खंड के नगला विशुना निवासी 40 वर्षीय रनवीर सिंह कहते हैं कि हम सरकारी केंद्र पर क्यों बेचें, बाजार में तो 400 रुपिया पैकेट दाम मिल रहा है। सरकार को एक हजार रुपिया कुंटल रेट रखना चहिए था। सरकारी में तो आलू छांटते हैं और प्राइवेट में हम अपनी मर्जी से बिना छटे आलू 400 रूपया पैकेट बेच देते हैं।

ये भी पढ़ें- मोदी और योगी बोलें - आलू चिप्स और मैंगो पल्प बनाने में सबको पीछे छोड़ देगा यूपी

पीसीएफ कृषक सेवा केंद्र तेराजाकेट तहसील छिबरामऊ के क्रय केंद्र प्रभारी आशीष पांडेय बताते हैं, ‘‘खरीद शून्य है। किसानों से बात हुई तो बोले, मजाक बना रहे हो क्या। किसानों का कहना है कि मार्केट भाव 900 रुपए से 1000 रुपए प्रति क्विंटल मिल रहा है।’’ तहसील तिर्वा क्षेत्र के पीसीएफ कृषक सेवा केंद्र ठठिया केंद्र प्रभारी अतुल त्रिपाठी कहते हैं, ‘‘किसान आ नहीं रहे हैं। बैनर लगाकर केंद्र खोल दिया है। मार्केट रेट ज्यादा है। 600 से 650 रूपए पैकेट (50 से 58 किलो) बिक रहा है।’’

तहसील कन्नौज सदर क्षेत्र के मियांगंज कृषि सेवा केंद्र प्रभारी विपिन शुक्ल बताते हैं कि एक तारीख से खरीद शुरू हो चुकी है लेकिन सरकारी रेट के मुकाबले बाजार में भाव अधिक है। कन्नौज में आलू मंडी नहीं है इसलिए किसान कानपुर जाते हैं, वहां आलू का रेट 750-875 रुपया है। दूसरा सरकारी खरीद में 30 एमएम से 55 एमएम का आलू ही खरीदा जाएगा।’’ जिला उद्यान अधिकारी कन्नौज मनोज कुमार चतुर्वेदी बताते हैं कि जिले में पीसीएफ के तीन आलू खरीद केंद्र खोले गए हैं। लक्ष्य अभी नहीं आया है। केंद्र प्रभारी और आकस्मिक निरीक्षण के लिए टीम गठित कर दी गई है।

ये भी पढ़ें- अब मेरठ में भी नहीं मिल रहा आलू को ठिकाना  

डीएम रवीन्द्र कुमार ने जारी किए आदेश में हवाला दिया है कि कन्नौज में एसडीएम सदर, बीडीओ कन्नौज, गुगरापुर और जलालाबाद, तिर्वा में एसडीएम तिर्वा, बीडीओ उमर्दा और हसेरन तथा छिबरामऊ में एसडीएम छिबरामऊ, बीडीओ छिबरामऊ, तालग्राम और सौरिख की टीम बनाई गई है। उन्होंने आगे बताया कि पर्यवेक्षकीय में जिला उद्यान अधिकारी को कन्नौज, जिला खाद्य विपणन अधिकारी को तिर्वा और जिला कृषि अधिकारी को छिबरामऊ की जिम्मेदारी दी गई है।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top