मध्यप्रदेश में औंधे मुंह गिरे टमाटर के भाव, अब कैसे मिलेगा किसान के पसीने का वाजिब मोल

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   15 Feb 2018 6:59 PM GMT

मध्यप्रदेश में औंधे मुंह गिरे टमाटर के भाव, अब कैसे मिलेगा किसान के पसीने का वाजिब मोलमजबूर किसान औने-पौने दामों में टमाटर बेच रहे हैं।

इंदौर। मध्यप्रदेश में नई फसल की बंपर आवक से टमाटर के थोक भाव औंधे मुंह गिर कर दो रुपए किलोग्राम के न्यूनतम स्तर तक पहुंच गए हैं। नतीजतन किसानों के लिए टमाटर की खेती की लागत निकालना मुश्किल हो रहा है।

झाबुआ जिले के पेटलावद क्षेत्र प्रदेश के प्रमुख टमाटर उत्पादक इलाकों में गिना जाता है। इस क्षेत्र के रायपुरिया गांव के किसान योगेश सेप्टा ने बताया, "फिलहाल राज्य की प्रमुख थोक मंडियों में हमें एक किलोग्राम टमाटर बेचने पर औसतन दो रुपए मिल रहे हैं। इस कीमत में टमाटर बेचने पर खेती की उत्पादन लागत, फसल तुड़वाने, छंटवाने और इसे पैक कराकर थोक मंडी तक पहुंचाने का खर्च भी निकल नहीं पा रहा है।"

करीब 25 एकड़ में टमाटर उगाने वाले किसान ने बताया कि गत अक्तूबर में टमाटर के थोक खरीदी भाव 20 से 30 रुपए प्रति किलोग्राम के बीच थे। लेकिन इन दिनों मंडियों में कई स्थानों से टमाटर की नयी फसल की एक साथ आवक से भाव अचानक नीचे गिर गए हैं।

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश में एक हजार किसानों ने एक सुर में कहा, बजट किसान विरोधी

ये भी पढ़ें- ग्रीन हाउस लगवाने पर सरकार दे रही 50 प्रतिशत अनुदान, जल्द करिए आवेदन

इस बीच, कृषक संगठनों ने मांग की है कि राज्य सरकार टमाटर उत्पादक किसानों के हितों की रक्षा के लिए उचित कदम उठाए।

ये भी पढ़ें- आखिर कब तक सड़कों पर सब्जियां फेंकने को मजबूर होते रहेंगे किसान 

मध्यप्रदेश किसान सेना के सचिव जगदीश रावलिया ने कहा कि सूबे में टमाटर जैसी जल्द खराब हो जाने वाली फसलों के शीत भंडारण और प्रसंस्करण की सुविधाओं की कमी है। राज्य सरकार को बड़े उद्योगपतियों के बजाय खुद किसानों को छोटी-छोटी शीत भंडारण सुविधाएं और प्रसंस्करण इकाइयां विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

ये भी पढ़ें- चुनावी सीजन चालू है आज किसान महज वोट बैंक हैं

ये भी पढ़ें- उत्तराखंड में किसानों के पलायन को रोकेगा ग्रामीण विकास पलायन आयोग 

मध्य प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

आम किसान यूनियन के संस्थापक सदस्य केदार सिरोही ने कहा कि प्रदेश सरकार को अन्य फसलों की तरह टमाटर को भी भावान्तर योजना में शामिल करना चाहिए, ताकि किसानों को उनके पसीने का वाजिब मोल मिल सके।

ये भी पढ़ें- किसान प्राकृतिक आपदा से बचने के लिए करें हनुमान चालीसा का पाठ, मध्य प्रदेश के पूर्व भाजपा विधायक की सलाह

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top