Top

लिंगभेद को लेकर समाज की विचारधारा को सही दिशा में प्रभावित कर सकते हैं कलाकार : आमिर

लिंगभेद को लेकर समाज की विचारधारा को सही दिशा में प्रभावित कर सकते हैं कलाकार : आमिरआमिर खान।

नई दिल्ली (भाषा)। यौन उत्पीड़न के तमाम बड़े मामलों के बीच हिन्दी फिल्मों के अभिनेता आमिर खान का मानना है कि इस लिंगभेद संबंधी सामाजिक दिक्कत को दूर करने के लिए लोगों की मानसिकता में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए कलाकार और रचनात्मक क्षेत्र के लोग महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

महिला सशक्तिकरण को अपनी फिल्मों दंगल और सीक्रेट सुपरस्टार का विषयवस्तु बनाने वाले आमिर खान का मानना है कि यह सारा मसला सीधे तौर पर पितृसत्ता से जुड़ा हुआ है। हार्वी वेंस्टिन वाले मामले के संबंध में सवाल करने पर अभिनेता ने कहा, ''मुझे लगता है कि, आपका लिंग चाहे कोई भी हो, यौन उत्पीड़न किसी के साथ होने वाली बहुत दुखद घटना है। यौन उत्पीड़न गलत है।'' उनका कहना है कि ऐसे मामले ना सिर्फ फिल्म जगत में बल्कि अन्य क्षेत्रों में भी हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें - पुण्यतिथि विशेष: महात्मा गाँधी की हत्या के बाद इस महान संगीतज्ञ ने तैयार की थी राग मोहनकौंस

फिल्हाल थाईलैंड में ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान की शूटिंग कर रहे आमिर ने टेलीफोन साक्षात्कार में कहा, ''मुझे लगता है कि लोग जिसके साथ चाहें, रोमांटिक संबंध बनाने के लिए स्वतंत्र हैं। लेकिन आप किसी को अपने साथ शारिरीक संबंध बनाने के लिए मजबूर नहीं कर सकते हैं। ऐसा सिर्फ फिल्मों में नहीं होता है, यह जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में होता है।'' आमिर खान का कहना है कि यौन उत्पीड़न को सिर्फ किसी अलग-थलग मुद्दे के रुप में नहीं देखा जाना चाहिए क्योंकि यह समाज की रुपरेखा तय करने वाली लिंगात्मक भूमिकाओं से जुड़ा है।

ये भी पढ़ें - लता मंगेशकर ने दिलीप कुमार को जन्मदिन की बधाई दी

अभिनेता का मानना है कि रचानात्मक लोग ऐसे दृष्टिकोण में बदलाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। उन्होंने कहा, ''यह बड़े मुद्दे से जुड़ा हुआ है। ना सिर्फ भारत में बल्कि पूरी दुनिया में, यह पितृसत्तात्मक सोच कि पुरुष ज्यादा शक्तिशाली हैं और ज्यादा महत्वपूर्ण हैं, यह चीजों को कई ओर ले जाती है। यौन उत्पीड़न उनमें से एक है।'' अभिनेता-सह-निर्माता का मानना है कि कलाकार लोगों के विचार बनानेाबदलने में मददगार हो सकते हैं।

आमिर का कहना है, ''रचनात्मक लोगों की भूमिका ऐसी है कि वह पुरुषों और महिलाओं को इस रुप में पेश करें कि लोग इससे सही दिशा में प्रभावित हों। मुझे लगता है कि इसमें हमारी भी जिम्मेदारी बनती है।''

ये भी पढ़ें - ‘सुपर 30’ में ऋतिक संग काम के लिए 15,000 लोगों ने दिया ऑडिशन

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.