मेरठ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों से पूछा- अधिकारी परेशान तो नहीं करते

मेरठ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों से पूछा- अधिकारी परेशान तो नहीं करतेक्रय केंद्र पर गेहूं की जांच करते मुख्यमंत्री योगी अादित्यनाथ।

मेरठ। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली आज बार मेरठ पहुंचे योगी आदित्यनाथ ने सरकारी खरीद केंद्र पर जाकर इस बात का मुआयना किया कि किसानों से अनाज खरीदने में सरकारी व्यवस्था ठीक से काम कर रही है या नहीं। मुख्यमंत्री योगी मेरठ जिले के खरखौदा में एक सहकारी केंद्र पर गए और वहां के हालात का जायजा लिया।

ये भी पढ़ें- योगी का असर: 9 बजे ही ऑफिस पहुंच रहे कर्मचारी, सफाई में भी दे रहे योगदान

खरखौदा में सहकारी केंद्र पर मुख्यमंत्री ने किसानों से इन्हीं परेशानियों के बारे में पूछा। कम से कम इस सेंटर पर तो किसानों ने मुख्यमंत्री को यही बताया कि उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आ रही है और कीमत भी सही समय पर मिल रही है। खरखोदा सेंटर पर अपना गेहूं लेकर आए किसान खड़क सिंह से मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने पूछा कि ऐसा तो नहीं हो रहा है कि खरीदने में लगे सरकारी कर्मचारी उनके अनाज को खराब बता रहे हो?

ये भी पढ़ें- घटिया बीज फिर खरीदेंगे किसान, यूपी में नहीं हो पाई अब तक जांच

खड़क सिंह ने मुख्यमंत्री को बताया कि ऐसा अब नहीं हो रहा है। कई बार ऐसे खरीद केंद्रों पर कर्मचारी अनाज को खराब बताकर किसानों को परेशान करते हैं और अक्सर रिश्वत लेने के बाद ही उनका अनाज खरीदने को तैयार होते हैं।

ये भी पढ़ें- अपने सोलर पंप की किसान इस तरह करा सकते हैं ऑनलाइन बुकिंग

खरखोदा सेंटर पर गेहूं में नमी की मात्रा जांचने की मशीन भी लगी हुई थी। ऐसे केंद्र पर गेहूं की खरीद के लिए यह जरूरी है कि नमी की मात्रा उसमें 12 फीसदी से कम हो। खरखौदा सेंटर के इंचार्ज धीरेंद्र कुमार ने बताया कि नई सरकार आने के बाद चीजें काफी सुधर गई हैं। पहले किसानों का भुगतान करने के लिए पैसा आने में काफी देर लगती थी, जिसकी वजह से वह चाहकर भी समय पर भुगतान नहीं कर पाते थे, लेकिन अब इस स्थिति ऐसी नहीं है और किसानों को 48 घंटे के अंदर भुगतान किया जा रहा है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.