जानवर बचेंगे तभी देश बचेगा : मेनका गांधी

Diti BajpaiDiti Bajpai   28 Oct 2017 8:49 PM GMT

जानवर बचेंगे तभी देश बचेगा : मेनका गांधीमेनका गांधी

लखनऊ। पशु-पक्षियों के लिए पिछले कई वर्षों से लंबी लड़ाई लड़ने वाली केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने कहा जानवर बचेंगे तो ही देश बचेगा। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने आगे कहा कि, “काकरोच हो या कुत्ते हमारी खाद्य श्रृंखला की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। अगर ये श्रृंखला ही खत्म हो जाएगी तो, जिस तरह इंग्लैंड में कुत्तों को मारने से फैली प्लेग बीमारी से लाखों का खर्चा हुआ वैसे ही हमारे देश को लोगों के स्वास्थ्य पर करोड़ों-अरबों रुपए खर्च करने पड़ेंगे।”

केंद्रीय बाल विकास एवं महिला कल्याण मंत्री मेनका गांधी ने कहा-“जैव विविधता को बचाने के लिए वैश्विक स्तर पर वनस्पतियों के साथ-साथ जीव-जंतुओं की प्रजातियों का संरक्षण करना बेहद जरुरी है।”

क्लोफेनेक गिद्धों की मौत का सबसे बड़ा कारण।

लखनऊ स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में पशु कल्याण टॅाक शो' का आयोजन किया, जिसमें मुख्य अतिथि मेनका गांधी थी। कार्यक्रम में मेनका ने कहा जानवर बचेंगे तो ही देश बचेगा। काकरोच हो या कुत्ते हमारी खाद्य श्रृंखला की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। अगर ये श्रृंखला ही खत्म हो जाएगी तो, जिस तरह इंग्लैंड में कुत्तों को मारने से फैली प्लेग बीमारी से लाखों का खर्चा हुआ वैसे ही हमारे देश को लोगों के स्वास्थ्य पर करोड़ों-अरबों रुपए खर्च करने पड़ेंगे।

यह भी पढ़ें- बेज़ुबान जानवरों का सहारा बन रहे अखिलेश

क शो में अम्बिका प्रसाद द्वारा वाइल्ड लाइफ पर प्रदर्शनी को देखती मेनका गांधी।&n

देश में कम हो रही गिद्धों की संख्या के बारे में केंद्रीय मंत्री मेनका ने कहा, "पशुओं को दी जाने वाली दर्द निवारक दवा डाइक्लोफेनेक गिद्धों की मौत का सबसे बड़ा कारण है। लेकिन अभी तक इस दवा पर रोक नहीं लग पाई खुले आम इस दवा का इस्तेमाल किया जा रहा है। गिद्धों की संख्या बढ़ाने के लिए भारत सरकार की ओर से पिंजौर में एक ब्रीडिंग सेंटर खोला गया है, जिसमें अभी तक मात्र 16 गिद्ध है।"

यह भी पढ़ें- ‘ गोरक्षकों के चलते अपनी ही गाय को सड़क पर लेकर चलना मुसीबत, करते हैं गुंडई और वसूली ’

टॉक शो मेंध्यान फाउंडेशन के संस्थापक स्वामी योगी अश्विनी, केशव वर्मा (वर्ल्ड बैंक्स प्रोग्राम डायरेक्टर फॉर ग्लोबल टाइगर इनीशिएटिव), राम लखन सिंह (चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डेन/प्रिन्सिपल चीफ कन्जरवेटर), सुनीता ऐरन (पत्रकार), गौरव मेहरोत्रा (एडवोकेट), जय मदान (एस्ट्रोलॉजर), गौरव चोपड़ा (अभिनेता), वेदा कृष्णमूर्ति (क्रिकेटर) मौजूद रहें।

जानवरों को बचाने के लिए एक या दो लोगों को नहीं बल्कि कई लोगों को एक साथ आगे आना पड़ेगा।

कार्यक्रम में मेनका ने कहा, जानवरों को बचाने के लिए एक या दो लोगों को नहीं बल्कि कई लोगों को एक साथ आगे आना पड़ेगा। तभी उनको बचाया जा सकता है। टॅाक शो में अम्बिका प्रसाद द्वारा वाइल्ड लाइफ पर प्रदर्शनी, थिमैटिक ड्राइंग कम्पटीशन, एडाप्शन कैम्प, ग्रैफ्टी और स्टूडेण्ट्स बैण्ड कार्यक्रम का भी आयोजन किया जायेगा।

यह भी पढ़ें- अगर गाय और गोरक्षक के मुद्दे पर भड़कते या अफसोस जताते हैं तो ये ख़बर पढ़िए...

जिस भारत में गाय के लिए कत्ल होते हैं, वहां एक जर्मन महिला 1200 बीमार गाय पाल रही है

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top