यूपी संग किस रिश्तों को याद कर विश्व में सबसे अधिक ट्रैक्टर बेचने वाले यह उद्योगपति भावुक हो गए

यूपी संग किस रिश्तों को याद कर विश्व में सबसे अधिक ट्रैक्टर बेचने वाले यह उद्योगपति भावुक हो गएमहिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन व मशहूर उद्योगपति आनंद महिंद्रा

लखनऊ। एक कम्पनी जो किसानों के बीच बेहद लोकप्रिय और भारत की नंबर एक ट्रैक्टर निर्माता कंपनी है उस महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन व मशहूर उद्योगपति आनंद महिंद्रा अचानक बेहद भावुक हो गए, उन्होंने कहाकि ऐसा लग रहा है कि “एक मुसाफिर को उसकी मंजिल मिल गई है और आखिरकार इधर-उधर भटककर वह अपने घर लौट आया है।”

इतना कहना था कि हाल तालियों के गड़गड़ाहट से गूंज उठा। मामला है उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शुरू हुए दो दिवसीय उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 का। जहां देश की कई नामी गिरामी हस्तियों ने उत्तर प्रदेश को लेकर अपनी योजना और इन्वेस्ट का जिक्र किया।

कार्यक्रम का उद्घाटन होने के बाद सबसे पहले मुकेश अंबानी आए जिन्होंने यह वादा किया कि वह तीन साल में दस हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। फिर गौतम अडाणी ने उत्तर प्रदेश में अगले पांच साल के दौरान 35 हजार करोड़ रुपए का निवेश करने की घोषणा की। कुमारमंगलम बिड़ला भी पीछे नहीं थे उन्होंने भी प्रदेश में अगले पांच साल में 25 हजार करोड़ रुपए के निवेश का वाद किया।

ये भी पढ़ें- जानिए मुकेश अंबानी ने उत्तर प्रदेश के नौजवानों के लिए क्या कहा 

इसके बाद नम्बर आया महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा का। उप्र इन्वेसटर्स समिट 2018 को सम्बोधित करते हुए महिंद्रा भावुक हो गए। उन्हें अपनी मां की याद आ गई।

उन्होंने बताया कि, "मेरी जड़ें उप्र में काफी गहरी हैं क्योंकि मेरी मां उत्तर प्रदेश से ही थीं। वह इलाहाबाद की थीं। उन्होंने अपनी जीवन में कड़ी मेहनत की, शिक्षिका की नौकरी हासिल की। हम उनके योगदान को कभी नहीं भुला सकते।"

ये भी पढ़ें- मशहूर अभिनेता कमल हासन के साथ बैठा दूसरा व्यक्ति काैन है, पहचाने जरा

महिंद्रा देश की ही नंबर एक ट्रैक्टर निर्माता कंपनी नहीं है, बल्कि दुनिया में सबसे ज्यादा ट्रैक्टर
बेचने वाली कंपनी है महिंद्रा। वर्ष 1964 में स्थापित हुई यह कंपनी ट्रैक्टर निर्माता कंपनियों में सर्वश्रेष्ठ है। साथ ही यह कंपनी पैसेंजर और कॅमर्शियल सेगमेंट के वाहनों में भी काफी मशहूर है।

ये भी पढ़ें- यूपी इंवेस्टर्स समिट के मौके पर पढ़ें, हरदोई ज़िले में रफ्तार पकड़ता हथकरघा उद्योग

इसी भावुकता में और भरे गले से आनंद महिंद्रा ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि एक मुसाफिर को उसकी मंजिल मिल गई है और आखिरकार इधर-उधर भटकर वह अपने घर लौट आया है।

आनंद महिंद्रा ने भी कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में दो हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे।

उन्होंने कहा, "उप्र के पास असीमित संसाधन हैं। लेकिन मैं एक बात योगी जी से कहना चाहता हूं कि उप्र की तुलना अन्य राज्यों से नहीं होनी चाहिए। वाकई में अगर उप्र की तुलना करनी है तो दुनिया के देशों के साथ करें।"

ये भी पढ़ें- मोदी और योगी बोलें - आलू चिप्स और मैंगो पल्प बनाने में सबको पीछे छोड़ देगा यूपी

महिंद्रा ने कहा, "उप्र की दूसरे राज्यों से नहीं देशों से तुलना करनी चाहिए। उप्र आत्मनिर्भर बनेगा तो देश अपने आप ही आत्मनिर्भर हो जाएगा। उप्र के पास इतने संसाधन हैं कि जितने यूरोप में भी नहीं है। यहां का बड़ा बाजार सबको आकर्षित करता है। हम बनारस में दो हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। इलेक्ट्रिक वेहिकल को लेकर महिंद्रा पहले ही उप्र में काम कर रहा है। इसे और आगे बढ़ाया जाएगा।"

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में निवेशकों का महाकुंभ शुरू, उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 का पीएम ने किया उद्घाटन

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top