महिलाओं के नाम पर संपत्ति की रजिस्ट्री सिर्फ एक रुपए में करने वाला झारखंड पहला राज्य : रघुवर दास 

महिलाओं के नाम पर संपत्ति की रजिस्ट्री सिर्फ एक रुपए में करने वाला झारखंड पहला राज्य : रघुवर दास झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास अपने राज्य की महिलाओं को सबल बनाने की दिशा में एक बहुत ही अहम कदम उठाया है। अब झारखंड में महिलाओं के नाम अचल संपत्ति खरीदने पर निबंधन शुल्क औऱ स्टांप ड्यूटी में छूट मिलेगी। इस प्रकार महिलाओं के नाम पर संपत्ति की रजिस्ट्री एक रुपए में करने वाला झारखंड पहला राज्य बन गया है।

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने यहां कहा कि सरकार राज्य की महिलाओं को मालकिन बनाना चाहती है और इसी कारण देश में पहली बार झारखंड ने एक रुपए में महिलाओं के नाम पर सम्पति की रजिस्ट्री प्रारंभ की। मुख्यमंत्री ने यहां महिला सशक्तीकरण के एक कार्यक्रम में यह कहा और बताया कि वर्तमान में राज्य में 80 प्रतिशत रजिस्ट्री महिलाओं के नाम पर हो रही है, जिससे महिलाएं सपंत्ति की मालकिन बन रही हैं।

ये भी पढ़ें- आपने महिला डॉक्टर, इंजीनियर के बारे में सुना होगा, एक हैंडपंप मैकेनिक से भी मिलिए

ये भी पढ़ें- छोटी जोत वाले किसानों के लिए ख़स के साथ बथुआ की सहफसली खेती है मददगार

वर्तमान में अचल संपत्ति खरीदने पर चार प्रतिशत स्टांप शुल्क और तीन प्रतिशत निबंधन शुल्क लग रहा है। इस पर महिलाओं को 10 प्रतिशत की विशेष छूट दी जाती थी। अब केवल एक रुपया लिया जाएगा। निबंधन का कोई शुल्क नहीं लगेगा।

ये भी पढ़ें- इस शर्मनाक खुलासे के बाद सरकार को आप कोसेंगे, सरकारी नौकरियों के लिए 54 फीसदी महिलाओं ने रिश्वत दी

महिलाओं के लिए स्टांप और निबंधन शुल्क निशुल्क करने पर झारखंड सरकार को राजस्व की भारी क्षति होगी। वित्तीय वर्ष 2015-16 में 531.64 करोड़ रुपए और 2017-18 में 607.48 करोड़ रुपए राजस्व की प्राप्ति हुई थी।

ये भी पढ़ें- जो युवा जींस नहीं संभाल सकते, वह बहन की रक्षा कैसे करेगा, राजस्थान महिला आयोग अध्यक्ष का कटाक्ष 

ये भी पढ़ें- दो हंसों का जोड़ा टूट गया, सूफी गायक वडाली बंधु के प्यारे लाल वडाली नहीं रहे

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि किसानों एवं महिला सखी मण्डलों द्वारा उत्पादित सामग्रियों के भण्डारण के लिए प्रखण्ड स्तर पर गोदाम बनाए जाएंगे। प्रखण्ड स्तर पर सरकार द्वारा कोल्ड रूम भी स्थापित किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें- अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को तोहफा, सिर्फ ढाई रुपए में मिलेगा एक बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन 

मुख्यमंत्री ने कहा कि महिला सखी मण्डलों को बैंक से ऋण सरलतापूर्वक मिले इस के लिए बैंकों को निर्देश दिए गए हैं। बैंक को निर्देशित किया जाएगा कि मुद्रा ऋण महिला सखी मण्डलों को आसानी से मिले।

ये भी पढ़ें- मुझे स्वाभाविक तौर पर भाषण देना नहीं आता : सोनिया गांधी

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top