थकान और कमजोरी दूर करेंगे ये देशी नुस्ख़े

कोरोना महामारी के इस दौर में इम्युनिटी यानि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी अहम हो गई है। जिनकी इम्युनिटी अच्छी है वो कोरोना से आसानी से लड़ रहे, इस बीमार से ठीक होने वाले लोगों में कमजोरी आ जारी है, ऐसे कुछ देशी नुस्खे शरीर को ताकत देने में मददगार साबित हो सकते हैं। पढ़िए हर्बल आचार्य की सलाह

Deepak AcharyaDeepak Acharya   20 April 2021 10:13 AM GMT

थकान और कमजोरी दूर करेंगे ये देशी नुस्ख़े

इन हर्बल नुस्खों के इस्तेमाल कर आप भी शरीर की थकान और तनाव को दूर तो कर ही सकते हैं, साथ ही नियमित जीवनशैली अपना कर स्वस्थ और ऊर्जावान महसूस कर सकते हैं।

अक्सर लंबे समय से चले आ रहे बुखार या ज्यादा श्रम करने के बाद शरीर एकदम सुस्त सा महसूस करता है। शरीर में कमजोरी आने से इसका सीधा असर हमारी कार्य क्षमता पर पड़ता है। शहरी जीवन भागदौड़ भरा होता है जबकि वनांचलों में आदिवासियों की जीवनचर्या बेहत नियमित होती है। साथ ही इनके भोजन और जीवनशैली में वनस्पतियों का बेजा इस्तेमाल होता है और शायद यही वजह है जिससे वनवासियों की औसत आयु आम शहरी लोगों से ज्यादा होती है।

लगातार कंप्यूटर पर बैठे रहना, खान-पान के समय में अनियमितता और तनाव भरा जीवन मानसिक और शारीरिक तौर से थका देता है। इस सप्ताह आपको कुछ ऐसे नुस्खे बताने जा रहा हूँ जिनका इस्तेमाल कर आप भी शरीर की थकान और तनाव को दूर तो कर ही सकते हैं, साथ ही नियमित जीवनशैली अपना कर स्वस्थ और ऊर्जावान महसूस कर सकते हैं।

- मध्य प्रदेश के पातालकोट जैसे दूरगामी आदिवासी अंचलों में प्रो-बायोटिक आहार 'पेजा' दैनिक आहार के रूप में सदियों से अपनाया जाता रहा है और इसका भरपूर सेवन भी किया जाता है। पेजा एक ऐसा व्यंजन है जो चावल, छाछ, बारली (जौ), नींबू और कुटकी को मिलाकर बनाया जाता है। आदिवासी हर्बल जानकार इस आहार को कमजोरी, थकान और बुखार आने पर अक्सर रोगियों को देते हैं।

ये भी पढ़ें: कोरोना से लड़ाई: विटामिन, च्यवनप्राश, गिलोय जैसे इम्युनिटी बूस्टर की ओवरडोज भी सेहत के लिए घातक हो सकती है?


पके हुए चावल, जौ और कुटकी को एक मिट्टी के बर्तन में डाल दिया जाता है और इसमें छाछ मिला दी जाती है जिससे कि यह पेस्ट की तरह गाढ़ा बन जाए। इस पूरे मिश्रण पर स्वादानुसार नींबू का रस और नमक मिलाकर अंधेरे कमरे में रख दिया जाता है। दो दिनों के बाद इसे फेंटकर एक खास व्यंजन यानी पेजा तैयार हो जाता है। भोजन के वक्त एक कटोरी पेजा का सेवन जरूरी माना जाता है और ये बेहद स्वादिष्ट भी होता है।

- पीपल के पेड़ से निकलने वाली गोंद को शारीरिक ऊर्जा के लिए उत्तम माना जाता है। मिश्री या शक्कर के साथ पीपल की करीब 1 ग्राम गोंद मात्र लेने से शरीर में ऊर्जा का संचार होता है और यह थकान मिटाने के लिए एक कारगार नुस्खा माना जाता है। प्रतिदिन इसका सेवन करते रहने से बुजुर्गों की सेहत भी बनी रहती है।

ये भी पढ़ें: कमाल की औषधि है अदरक : हर्बल आचार्य

- लटजीरा के संपूर्ण पौधे के रस (4 मिली प्रतिदिन) का सेवन तनाव, थकान और चिढ़चिढ़ापन दूर करता है साथ ही इसकी वजह से नींद नहीं आने की समस्या में भी राहत मिलती है। सेवन करने से निश्चित फायदा मिलता है।

- शरीर में अक्सर होने वाली थकान, ज्यादा पसीना आना और कमजोरी दूर करने के लिए आदिवासी टमाटर के साथ फराशबीन को उबालकर सूप तैयार करते हैं और दिन में दो बार चार दिनों तक देते हैं, माना जाता है कि यह सूप शक्तिवर्धक होता है।

ये भी पढ़ें: शिमला मिर्च और भिंडी खाने के ये फायदे जानते हैं आप?



- ग्रामीण इलाकों में जी मचलना, थकान होना या चिंतित और तनावग्रस्त व्यक्ति को कद्दू के बीजों को शक्कर के साथ मिलाकर खिलाया जाता है। कद्दू के करीब 5 ग्राम बीज और इतनी ही मात्रा में मिश्री या शक्कर की फांकी मारी जाए तो बेहद फायदा होता है। ये मानसिक तनाव भी दूर करते हैं।

- आलू-बुखारे के सेवन से शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं, कब्जियत दूर होती है और पेट की बेहतर सफाई होती है। इन फलों में पाए जाने वाले फ़ाइबर्स और एंटी ऑक्सिडेंट्स की वजह से पाचन क्रिया ठीक तरह से होती है और शरीर की कोशिकाओं में मेटाबोलिज्म की क्रिया सुचारू क्रम में होती है।

ये भी पढ़ें: आपकी रसोई में है एक कमाल की औषधि

इन फलों में सिट्रिक एसिड पाया जाता है जो कि थकान दूर करने में सहायक होता है और इसके सेवन से लीवर यानि यकृत और आंतों की क्रियाविधियां सुचारू रहती हैं अत: आलू-बुखारा खाने से शरीर में जमा अतिरिक्त वसा या ज्यादा वजन कम करने में मदद होती है और व्यक्ति शारीरिक तौर पर बेहद स्वस्थ महसूस करता है।

- आदिवासियों के अनुसार दूब घास/ दूर्वा का प्रतिदिन सेवन शारीरिक स्फूर्ति प्रदान करता है और शरीर को थकान महसूस नहीं होती है। करीब 10 ग्राम ताजी दूर्वा को एकत्र कर साफ धो लिया जाए और इसे एक गिलास पानी के साथ मिलाकर ग्राईंड कर लिया जाए और पी लिया जाए, यह शरीर में ताजगी का संचार लाने में मददगार होती है। वैसे आधुनिक विज्ञान के अनुसार भी दूब घास एक शक्तिवर्द्धक औषधि है क्योंकि इसमें ग्लाइकोसाइड, अल्केलाइड, विटामिन-ए और विटामिन-सी की पर्याप्त मात्रा पायी जाती है।

ये भी पढ़ें: तनाव दूर करने में मददगार हैं कद्दू के बीज


- शहद को दूध के साथ मिलाकर लिया जाए तो हृदय, दिमाग और पेट के लिये फ़ायदेमंद होता है। नींबू पानी के साथ शहद मिलाकर पीने से ये शरीर को ऊर्जा और ठंडक प्रदान करता है। आदिवासियों का मानना है कि यदि शहद का सेवन प्रतिदिन किया जाए तो ये शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखने में काफ़ी मदद करता है साथ ही शारीरिक ताकत को बनाए रखकर थकान दूर करता है।

- हम जानते हैं कि आलू में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। कच्चे आलू को कुचलकर एक चम्मच रस तैयार किया जाए और इसे दिन में कम से कम चार बार लिया जाए। आदिवासी हर्बल जानकारों के अनुसार आलू का रस रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और कई प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता शरीर को मिल जाती है। आलू की मदद से कमजोरी, थकान और ऊर्जा की कमी को काफी हद तक कम किया जा सकता है। उबले आलूओं का सेवन भी थकान दूर भगाने में बेहद कारगर होता है।

ये भी पढ़ें: बालों के झड़ने से परेशान हैं? जानिए नीम की पत्तियों और नारियल तेल से कैसे बनेगी बात

- पातालकोट के आदिवासी हर्बल जानकार तुलसी को थकान मिटाने वाली एक औषधि मानते हैं, इनके अनुसार अत्यधिक थकान होने पर तुलसी के पत्तियों और मंजरी के सेवन से थकान दूर हो जाती है।

- गुजरात के आदिवासी तरबूज के छिलकों की आंतरिक सतह को काटकर आदिवासी इनका मुरब्बा तैयार करते हैं, माना जाता है कि यह बेहद शक्तिवर्धक होता है। कुछ इलाकों में लोग इसके छिलकों को बारीक काटकर सुखा लेते हैं और चूर्ण तैयार कर लिया जाता है। माना जाता है कि इस चूर्ण की आधी चम्मच मात्रा प्रतिदिन सुबह खाली पेट लेने से शरीर में ताकत का संचार होता है और कई तरह की व्याधियों में राहत भी मिलती है, कुल-मिला कर ये पूर्ण रूप से सेहत दुरुस्ती के लिए कारगर होता है।

ये भी पढ़ें: पके हों या कच्चे, फायदेमंद हैं केले और पपीते: Herbal Acharya



- शतावरी की जड़ों मे सेपोनिन्स और डायोसजेनिन जैसे महत्वपूर्ण रसायन पाए जाते हैं। इसके पत्तों का सत्व कैंसर में उपयोगी है। पत्तों का रस (लगभग 2 चम्मच) दूध में मिलाकर दिन में दो बार लिया जाए तो यह शक्तिवर्धक होता है। शतावरी की जड़ों का चूर्ण (4 ग्राम) शक्कर के साथ या पानी में घोलकर लिया जाए तो शरीर से थकान दूर भगाने में मदद मिलती है।

- कमरख जिसे स्टार फ्रूट के नाम से भी जाना जाता है, स्वाद में इसके फल काफी खट्टे होते है और ज्यादा पक जाने पर इनमें थोड़ी मिठास भी आ जाती है। आदिवासियों के अनुसार इसके फलों का सेवन शरीर में बेहद ऊर्जा का संचार करता है और हमें शक्तिवर्धक बनाता है।

ये भी पढ़ें:कैंसर नियंत्रण में कारगर हो सकते हैं सेब और अमरूद

- पातालकोट घाटी के आदिवासी हर्बल जानकार घर से निकलने से पहले अक्सर कच्चे चावल की करीब 4 ग्राम मात्रा का सेवन करते हैं। माना जाता है कि यह थकान कम करने में मददगार होता है। इनके अनुसार ज्यादा प्यास लगने से रोकने के लिए कच्चे चावल के दाने चबाने चाहिये। मधुमेह के रोगियों को बार-बार प्यास लगने की समस्या का निवारण इसी फ़ार्मूले से किया जा सकता है। वैसे जब भी आप पहाड़ों या लंबी पगडंडियों पर सैर सपाटों के लिए जाएं, तो इस फार्मूले को जरूर अपनाएं, प्यास कम लगेगी और थकान भी कम होगी।

ये भी पढ़ें:कहीं घूमने जा रहे हैं? आजमाएं ये देसी नुस्खे

डॉ. दीपक आचार्य हर्बल जानकार हैं, उपरोक्त उनके विचार हैं। होम रेमिडीज को अपने शरीर और डॉक्टर की सलाह पर इस्तेमाल करें

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.