वेस्ट डी कम्पोजर की 20 रुपए वाली शीशी से किसानों का कितना फायदा, पूरी जानकारी यहां पढ़िए

Arvind ShuklaArvind Shukla   27 July 2018 5:11 AM GMT

वेस्ट डी कम्पोजर की 20 रुपए वाली शीशी से किसानों का कितना फायदा, पूरी जानकारी यहां पढ़िएआप भी 20 रुपए खर्च करके इसका लाभ उठा सकते हैं। (सभी फोटो-अरविंद शुक्ला)

गाजियाबाद। अगर आप से कहा जाए कि सिर्फ 20 रुपए खर्च करके आप अपने घर में ऐसी व्यवस्था शुरू सकते हैं, जिससे हर साल आपको अपनी खेती लायक पर्याप्त खाद मिल सकती है। उस जमीन में जहां कई तरह के उर्वरक डालने पर फसल नहीं होती वहां फसलें पैदा होनी लगेंगी तो शायद आप एक बारगी यकीन न करें, लेकिन ये सच है। राष्ट्रीय जैविक खेती केंद्र गाजियाबाद के उत्पाद वेस्ट डीकम्पोजर (कचरा अपघटक) से लाखों किसानों को फायदा हुआ है।

"देश के करीब 20 लाख किसानों को इसका फायदा मिल चुका है। जल्द ही ये संख्या 20 करोड़ तक पहुंचानी हैं। वेस्ट वेस्ट डीकम्पोजर की खास बात है इसकी एक शीशी ही पूरे गांव के किसानों की समस्याओं का समाधान कर सकती है। इससे न सिर्फ तेजी से खाद बनती है, जमीन की उपजाऊ शक्ति बढ़ती है, बल्कि कई मिट्टी जमीन बीमारियों से भी छुटकारा मिलता है।" डॉ.कृष्ण चंद्र गांव कनेक्शन को बताते हैं। डॉ. कृष्ण चंद्र कृषि कल्याण मंत्रालय भारत सरकार के जैविक खेती परियोजना को लेकर शुरू किए गए विभाग राष्ट्रीय जैविक खेती केंद्र, गाजियाबाद के निदेशक और वेस्ट वेस्ट डीकम्पोजर की खोज करने वाले प्रधान वैज्ञानिक हैं।

ये भी पढ़ें: With rats on plate, Musahars remain neglected by society

वेस्ट डीकम्पोजर की 20 रुपए वाली शीशी इसके गुण और उपयोगों को लेकर अख़बार, सोशल मीडिया से लेकर संसद तक में सवाल उठे। आखिर 20 रुपए वाली इस शीशी में क्या है, जिससे किसानों को इतने फायदे होने की बात की जा रही है। इससे समझने के लिए गांव कनेक्शन ने गाजियाबाद स्थित केंद्र में जाकर खुद अधिकारियों से बात की।

देखिए वीडियो

"वेस्ट डीकम्पोजर को गाय के गोबर से खोजा गया है। इसमें सूक्ष्म जीवाणु हैं, जो फसल अवशेष, गोबर, जैव कचरे को खाते हैं और तेजी से बढ़ोतरी करते हैं, जिससे जहां ये डाले जाते हैं एक श्रृंखला तैयार हो जाती है, जो कुछ ही दिनों में गोबर और कचरे को सड़ाकर खाद बना देती है, जमीन में डालते हैं, मिट्टी में मौजूद हानिकारक, बीमारी फैलाने वाले कीटाणुओं की संख्या को नियंत्रित करता है।' केंद्र के सहायक निदेशक डॉ. जगत सिंह बताते हैं।

ये भी पढ़ें- 20 रुपए की ये 'दवा' किसानों को कर सकती है मालामाल, पढ़िए पूरी जानकारी

वेस्ट डीकम्पोजर को किसानों के बहुउपयोगी बताते हुए डॉ. जगत वैज्ञानिक तर्क देते हैं, "ये दही में जामन की तरह काम करता है। एक बोतल से एक ड्रम और एक ड्रम से 100 ड्रम बना सकते हैं। दरअसल सूक्ष्मजीव सेल्लुलोज खाकर बढ़ते हैं, और फिर वो पोषक तत्व छोड़ते हैं जो जमीन के लिए उपयोगी हैं। मिट्टी में पूरा खेल कार्बन तत्वों और पीएच का होता है। ज्यादा फर्टीलाइजर डालने से पीएच बढ़ता जाता है और कार्बन तत्व (जीवाश्म) कम होते जाते हैं, बाद में वो जमीन उर्वरक डालने पर भी फसल नहीं उगाती क्योंकि वो बंजर जैसी हो जाती है।'

अपनी बात को सरल करते हुए वो बताते हैं, "पहले किसान और खेती का रिश्ता बहुत मजबूत था। लेकिन अब उसका सिर्फ दोहन हो रहा है। किसान लगातार फर्टीलाइजर और पेस्टीसाइड वीडीसाइड डालता जा रहा है, उससे जमीन के अंदर इन तत्वों की मात्रा बढ़ गई है। उर्वरकों के तत्व पत्थर जैसे एकट्ठा हो गए हैं। क्योंकि उन्हें फसल-पौधों के उपयोग लायक बनाने वाले जीवाणु जमीन में नहीं बचे हैं।"

ये भी पढ़ें: Fighting new age misinformation war with traditional weapons

किसानों को भेजने के लिए पैक की जारी बोतलें।

वेस्ट डीकम्पोजर एक तो ऐसे तत्व फसल अवशेषों से खुद लेकर बढ़ाता है, दूसरा जो जमीन में उर्वरक के पोषक तत्व (लोहा, बोरान, कार्बन आदि) पड़े हैं उन्हें घोलकर पौधे के लायक बनाते हैं। क्योंकि जिस जमीन में जीवाश्वम नहीं होंगे वो फसल बहुत दिनों तक उर्वरक के सहारे उत्पादन नहीं दे सकती। इसलिए किसानों को चाहिए हर हाल में खेत में गोबर, फसल अवशेष आदि आदि जरूर डाले।"

पिछले हफ्ते केंद्रीय कृषि कल्याण मंत्री और राधामोहन सिंह ने इस केंद्र का दौरा कर वैज्ञानिकों से ज्यादा से ज्यादा वेस्ट डीकम्पोस्ट बनाने की बात कही थी। केंद्र के मुताबिक इसमे किए गए दावे वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित है, कई सरकारी संस्थाओं ने ही इस पर रिसर्च की है। वेस्ट डीकम्पोजर को सीधे खेत में न उपयोग करके पहले इसका कल्चर बनाया जाता है। कुछ ग्राम की इस शीशी में मौजूद तरल पदार्थ को 200 लीटर पाने से भरे एक ड्रम में डाला जाता है, जिसमें दो किलो गुड़ डाला जाता है। रोजाना इसे दो बार लक़ड़ी से मिलाना पड़ता है। पांच-6 जिनों में घोल में मौजूद ऊपरी सतह पर झाग बन जाए तो उपयोग लायक हो जाता है।

ये भी पढ़ें- तमिलनाडु : किसान ने सिर्फ 800 रुपये में लगाई जैविक खाद की फैक्ट्री , देखिए वीडियो

डॉ. जगत बताते हैं, "एक शीशी से 200 लीटर तरल खाद तैयार होती है, इसे खेत में छिड़काव कर सकते हैं। गोबर-कचरे पर डालकर उसे खाद बना सकते हैं। इससे बीज का शोधन कर सकते हैं। अगर फसल में फफूंद जैसे रोग लगे हैं तो भी उस पर छिड़काव किया जा सकता है। फिलहाल सही मात्रा में छिड़काव, सिंचाई के साथ प्रयोग से कोई नुकसान की ख़बर नहीं मिली है हमें।"

गाजियाबाद के इस सेंटर से रोजाना करीब 400 बोतलें देश भर के किसानों को भेजी जाती हैं। इसके साथ कई किसान खुद वहां पहुंचते हैं। गांव कनेक्शन की करीब 3 घंटे की मौजूदगी में डॉ. जगत के पास 50 फोन आए होंगे, जबकि 2 दर्जन से ज्यादा अलग-अलग राज्यों से यहां मिलने पहुंचे थे। यहीं पर मिले गुजरात के मूल निवासी और गाजियाबाद मे रहकर गोशालों पर काम करने वाले रमेश पांडया इसका अलग उपयोग बताते हैं।

ये भी पढ़ें- नीम : एक सस्ता घरेलू जैविक कीटनाशक

"आप मुझे पशु प्रेमी कह सकते हैं, मेरी खुद की गोशाला है और देश की 10 हजार ज्यादा गोशालाओं से जुड़ा हूं। इनमें से हजारों शहरों में हैं। गोबर हमारे लिए बड़ी समस्या थी, इतनी गंदगी हो जाती है कि आसपास के लोग परेशान हो जाते हैं, इसका उपाय मुझे वेस्ट डीकम्पोजर में मिला। अब वो गोबर खाद बनता है, और गोशालोँ की आमदनी बढ़ा रहा है।' पांडया के मुताबिक वो गुजरात में शिविर लगाकर किसानों को ये कल्चर बंटवा रहे हैं। किसी गांव के एक किसान को दिया जाता हो वो ज्यादा कल्चर बनाकर दूसरे किसानों को देता है।

ये भी पढ़ें- खेत उगलेंगे सोना, अगर किसान मान लें 'धरती पुत्र' की ये 5 बातें

बुलंदशहर में रहने वाले जैविक खेती के लिए किसानों को प्रशिक्षण देने वाले भरत भूषण त्यागी भी इसे जमीन के लिए उपयोगी बताते हैं। लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हाथों सम्मान लेने के बाद गांव कनेक्शन के विशेष बातचीत वो बताते हैं, "वेस्ट डीकम्पोजर जमीन की उर्वरा शक्ति को बढ़ाता है, मिट्टी को नया जीवन देता है, इसमें कोई शक नहीं।'

ये भी पढ़ें: Gurgaon girl survives hundreds of tapeworm eggs in her brain

राष्ट्रीय जैविक खेती केंद्र के मुताबिक खेती से फायदे के लिए किसान ये काम करें

  • देसी खादों का इस्तेमाल करता रहे, ताकि जमीन में जीवाश्म (कार्बन तत्व) कम न हों। जिस जमीन में कार्बन तत्व .5 होते हैं वो जमीन उपजाउ होती है और जिसमें ये तत्व 0.75 होते हैं वो जैविक खेती योग्य हो जाती है।
  • मिट्टी की जांच जरुर कराएं और जमीन में जिस तत्व की कमी हो, सिर्फ वो ही तत्व (फर्टीलाइजर) के रुप में डालें। यानि जिनती जरूरत है।
  • हरी खादों (देसी खाद, तरल खाद या किसी रुप में) में जरुर डालें। जैसे ढैंचा आदि।
  • मिश्रित खेती करें और फसल चक्र अपनाएं। खेत में कुछ पौधे धरातल पर तो कुछ ऊंचाई वाले हिस्से पर हों ऐसी फसलें ले, इससे खेत में लगी फसलें प्रकाश संस्लेषण (फोटो सिंथेसिस) का पूरा उपयोग कर जमीन में पोषक तत्व खुद बढ़ा लेंगी।
  • अपनी खेतों में दलहनी फसलों को तरहीज हों। फसल चक्र के रूप में खेत के किसी न किसी भाग में क्रम के अऩुसार अरहर, चना जैसी फसलें बोएं।

ये भी पढ़ें- किसान का दर्द : "आमदनी छोड़िए, लागत निकालना मुश्किल"

गाँव कनेक्शन संवाददाता से बातचीत करते डॉ. जगत सिंह

क्या न करें

1.किसी भी कीमत पर फसल के अवशेष न जलाएं। खेत में फसल जलाने से न जैव कचरा खत्म हो जाता है बल्कि खेत की उपजाऊ परत भी जल जाती है, जिससे सूक्ष्म जीव मर जाते हैं।
2.बिना टेस्टिंग उर्वरक का इस्तेमाल न करें।
3.कीटनाशी और फफूंदनाशी का अंधाधुंध उपयोग न करें।
4.फसलों को ज्यादा पानी न दें, सिर्फ नमी बनाए रखें।

ये भी पढ़ें: The ecology of an itch

इस तरह से पाएं ये प्रोडक्‍ट

वेस्‍ट डीकंपोजर राष्‍ट्रीय जैवि‍ खेती केंद्र के सभी रीजनल सेंटर पर उपलब्‍ध है। यह गाजि‍याबाद, बंगलुरु, भुवनेश्‍वर, पंचकूला, इंम्‍फाल, जबलपुर, नागरपुर और पटना के रीजनल सेंटर से प्राप्‍त कि‍या जा सकता है या फिर Hapur Road, Near CBI Academy, Sector 19, Kamla Nehru Nagar, Ghaziabad, Uttar Pradesh 201002, Phone: 0120 276 4906 इस पते पर भी पैसे मनी आर्डर करके मंगा सकते हैं।

ये भी पढ़ें- खेती से हर दिन कैसे कमाएं मुनाफा, ऑस्ट्रेलिया से लौटी इस महिला किसान से समझिए

ये भी पढ़ें- जैविक तरीके से गंगा को साफ करने की तैयारी, तालाब के पानी टेस्ट सफल

अब पढ़िए गांव कनेक्शन की खबरें अंग्रेज़ी में भी

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top