दूल्हों का नहीं कोई ठिकाना, शौचालय कैसे भेंट करेगी सरकार 

Ishtyak KhanIshtyak Khan   1 May 2018 3:34 PM GMT

दूल्हों का नहीं कोई ठिकाना, शौचालय कैसे भेंट करेगी सरकार फाइल फोटो

औरैया। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत औरैया में फरवरी माह में 47 जोड़ों ने शादी की, सरकार ने सभी को भेंट के रूप में शौचालय के लिए धनराशि देने का ऐलान किया है। मगर सरकार के पास दूल्हों के घरों का पता नहीं है, ऐसे में शौचालय दिए जाए तो किसे।

ये भी पढ़ें- यूपी: मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से हर ज़िले में होंगे बेटियों के हाथ पीले

जिले में 18 फरवरी 2018 को चौ. विशंभर सिंह भारतीय विद्यालय में सामूहिक विवाह कार्यक्रम में 47 जोड़े शादी के बंधन में बंधे थे। इससे पहले विभाग के पास सभी दुल्हनों के और दूल्हों के गाँव और शहर का पता दिया गया, लेकिन अब 15 दूल्हों के अलावा किसी का पता विभाग को ढूंढे नहीं मिल रहा है। वहीं ये 15 दूल्हें, जिनके पते विभाग के पास हैं, वे गैर जनपद के हैं।

शादी हुए दो माह से अधिक का समय बीतने जा रहा है, लेकिन अभी शौचालय की राशि भेंट नहीं की गई है। वहीं, गैर जनपद के दूल्हों को जिला स्तर पर विभाग शौचालय नहीं देसकते हैं, उनको उन्हीं के जिलों से देने के लिए विभाग पत्राचार करने की तैयारी में है।

ये भी पढ़ें- मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना का ऐसे उठा सकते हैं लाभ

समाज कल्याण विभाग की तरफ से जो सूची दी गई है, उसमें 15 दूल्हे गैर जनपद के हैं। बाकी दूल्हों की सूची दी नहीं गई है, जिसका सत्यापन करा शौचालय दिलाया जा सके। गैर जनपदों के दूल्हों को शौचालय देने की प्रक्रिया और बाकी के पता ढूंढने के लिए पत्राचार किया गया है।
- केके अवस्थी, जिला पंचायत राज अधिकारी, जनपद औरैया

औरैया के समाज कल्याण अधिकारी आवेश कुमार बताते हैं, “सामूहिक विवाह में आए सभी दूल्हों की सूची खंड विकास अधिकारी और अधिशाषी अधिकारियों से मांगी गई है। पहले जो आई थी, वो सूची जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय भेज दी गई है। वहीं, दूसरे जिले के लोगों को कैसे शौचालय दिया जाए, प्रशासन तय करेगा।“

ये भी पढ़ें- अल्पसंख्यक समुदाय की गरीब लड़कियों के सामूहिक विवाह का आयोजन करेगी योगी सरकार

वहीं, औरैया के जिला पंचायत राज अधिकारी केके अवस्थी बताते हैं, “समाज कल्याण विभाग की तरफ से जो सूची दी गई है, उसमें 15 दूल्हे गैर जनपद के हैं। बाकी दूल्हों की सूची दी नहीं गई है, जिसका सत्यापन करा शौचालय दिलाया जा सके। गैर जनपदों के दूल्हों को शौचालय देने की प्रक्रिया और बाकी के पता ढूंढने के लिए पत्राचार किया गया है।“

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top