Read latest updates about "Gaon Connection TV" - Page 2

  • एक लड़की की साध्वी बनने की कहानी

    लखनऊ। आज इनको सभी मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरि के नाम से जानते हैं, लेकिन दिल्ली जैसे बड़े शहर में पढ़ने वाली देव्या गिरि क्यों बन गईं महंत ?? देव्या गिरि बताती हैं, 'बाराबंकी में जवाहर लाल डिग्री कॉलेज से मैंने बीएससी की पढ़ाई की। उसके बाद दिल्ली से मैंने पैथालॅाजी की पढ़ाई की। लाइफ को सेट...

  • गज़ब का हैंडवाश है नीम : हर्बल आचार्य

    नीम के बहुआयामी उपयोगों को देखते हुए इसे 'ट्री ऑफ मिलेनियम' घोषित किया गया है। इस संपूर्ण पेड़ के तमाम अंग विभिन्न तरह के औषधीय उपयोगों के लिए इस्तेमाल में लाए जाते हैं। चाहे अनाज संग्रहण की बात हो या फसलों पर होने वाले कीटों के आक्रमण की, नीम का इस्तेमाल सदियों से बतौर कीट विकर्षक किया जाता रहा...

  • पशुओं को खिलाइए ये घास, 20 से 25 प्रतिशत तक बढ़ जाएगा दूध उत्पादन

    लुधियाना (पंजाब) । सर्दियों में पशुपालक अपने पशुओं को हरे चारे में बरसीम खिलाते हैं, लेकिन अगर किसान सर्दियों में अपने पशुओं को बरसीम की जगह पर मक्खन ग्रास खिलाए तो दूध उत्पादन 20-25 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। बरसीम में कीट लगने की समस्या भी होती है, लेकिन मक्खन घास की खास बात होती है इसमें कोई कीट भी...

  • मैं अपने फादर से बहुत डरता था, इसलिए चाहता था कि मेरे बच्चे मुझसे न डरें- सलीम खान

    मशहूर स्टोरीटेलर नीलेश मिसरा के शो 'द स्लो इंटरव्यू विद नीलेश मिसरा' में इस बार आ रहे हैं सलीम खान। इस इंटरव्यू में सलीम खान ने अपने जीवन के तमाम उतार चढ़ाव, अपने अब तक के सफर और सलमान खान के बारे में खूब बाते की हैं। सलीम खान कहते हैं 'मैं अपने फादर से बहुत डरता था, तभी मैंने फैसला लिया था कि...

  • उत्तर प्रदेश: एक गांव जहां पिछले 50 सालों से हर कोई बना रहा है रस्सियां

    उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में एक ऐसा गांव हैं, जहां हर किसी के हाथ में रस्सी बनाने का हुनर है। जी हां, इस 'पहला गांव' के बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक, सभी रस्सी बनाने का काम जानते हैं। इस गांव में रोज़ीरोटी के लिए हर कोई यही काम करता है। गांव के लोगों का कहना है कि तकरीबन 50 सालों से रस्सियों का यह...

  • बया का घोंसला, कलाकारी की गज़ब मिसाल

    कई बार जब आप गाँव देहातों और जंगलों की सैर पर जाते हैं, कंटीली झाड़ियों और वृक्षों पर बया के घोंसलों देखने मिल जाते हैं। बया पक्षी एक कमाल का कलाकार होता है जिसकी असल पहचान उसका खूबसूरत घोंसला होता है। अक्सर कंटीले पेड़ों पर घास-फूस से बने शाखाओं पर लटकते हुए एक साथ कई घोंसले देखे जा सकते हैं। बया...

  • इस गाँव में बेटी के जन्म पर लगाए जाते हैं 111 पौधे, बिना पौधरोपण हर रस्म अधूरी होती है

    लखनऊ। अपनी ग्राम पंचायत में सरकारी योजनाओं का सही से क्रियानवयन करने वाले इस सरपंच के कार्यों की चर्चा देश के साथ-साथ विदेशों में भी हो रही है। यहां बेटी के जन्म पर 111 पौधे लगाने के साथ ही 21 हजार रुपए बीस साल के लिए उस बेटी के खाते में जमा किये जाते हैं।राजस्थान के राजसमंद जिले से 10 किलोमीटर दूर...

  • गंजेपन और चेहरे के दाग धब्बों से छुटकारा दिलाएंगी बरगद की जड़ें : हर्बल आचार्य

    बरगद एक विशालकाय वृक्ष होता है जो आमतौर पर गांव देहातों, सड़कों के किनारे और उद्यानों में देखा जा सकता है। इसकी बड़ी-बड़ी शाखाओं से निकली, हवा में लटकती- तैरती जटाएं दूर से देखने पर काफी मनमोहक दिखाई देती हैं। आमतौर पर जड़ों का कार्य जल का अवशोषण होता है लेकिन बरगद में जड़ें रूपांतरित होकर भारी...

Share it
Top