मध्यप्रदेश में ढाई लाख दुधारू पशुओं की ऑनलाइन कुंडली तैयार  

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   25 March 2018 12:52 PM GMT

मध्यप्रदेश में ढाई लाख दुधारू पशुओं की ऑनलाइन कुंडली तैयार  पशु।

इंदौर। दूध उत्पादन में मध्यप्रदेश फिलहाल देश में तीसरे पायदान पर है। अपने दुधारू पशुओं की सुरक्षा के लिए मध्यप्रदेश सरकार नए नए कदम उठा रही है। मध्यप्रदेश सरकार ने अपने ढाई लाख दुधारू पशुओं को आधार जैसी अद्वितीय पहचान संख्या दी और उसे उसके मालिक के आधार नम्बर से जोड़ दिया है।

ये भी पढ़ें- गाय-भैसों को मिली पहचान, 85 लाख पशुओं को मिला आधार नंबर

मध्यप्रदेश की करीब 90 लाख गाय-भैंसों में शामिल 2.5 लाख पशुओं के पास अब अपनी खास पहचान है। इन पशुओं के कान में टैग लगाकर उन्हें आधार सरीखी 12 अंकों की अद्वितीय पहचान संख्या प्रदान की गई है और उनकी "ऑनलाइन कुंडली" तैयार की जा रही है। इससे जहां मवेशियों की अवैध तस्करी और उन्हें पशुपालकों द्वारा लावारिस छोड़ने की प्रवृत्ति पर रोक लगाने में मदद मिलेगी, वहीं इनकी सेहत और नस्ल सुधार कर दूध उत्पादन भी बढ़ाया जा सकेगा।

ये भी पढ़ें- हाईटेक चिप से घर बैठे जान सकेंगे गाय भैंस की लोकेशन

ये भी पढ़ें- गाय की लंबी उम्र के लिए उनके पेट में छेद कर रहे अमेरिका के किसान

ये भी पढ़ें- #स्वयंफेस्टिवल : मवेशियों के कान पर लगा यह पीला टैग क्या है?

पशुओं के कान में टैग लगाने की मुहिम राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड की महत्वाकांक्षी योजना के तहत शुरू की गई है। इस योजना के जरिए देशभर में पशु उत्पादकता और स्वास्थ्य के लिए सूचना नेटवर्क (इनाफ) विकसित किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना देशभर में लागू करने पर विचार : शिवराज सिंह चौहान 

मध्यप्रदेश के पशुपालन विभाग के संयुक्त संचालक और इनाफ के नोडल अधिकारी गुलाबसिंह डावर ने बताया, "हमने राज्य में दुधारू पशुओं को अद्वितीय पहचान संख्या देने का काम बड़े स्तर पर इसी महीने शुरू किया है। पहले चरण में 40 लाख टैग बांटे गए हैं, अब तक 2.5 लाख मवेशियों के कान में ये टैग लगाये जा चुके हैं।"

डावर ने बताया कि राज्य के करीब 90 लाख दुधारू मवेशियों को अद्वितीय पहचान संख्या के टैग चरणबद्ध तरीके से लगाने का लक्ष्य तय किया गया है।

ये भी पढ़ें- मथुरा में जानलेवा बीमारी ग्लैण्डर्स की दस्तक 

डावर ने बताया, "हम पशुओं की नस्ल, उम्र, सेहत की स्थिति, कृत्रिम गर्भाधान, दूध देने की क्षमता और अन्य ब्योरे के साथ उनकी वंशावली भी तैयार कर रहे हैं। इनाफ के सूचना प्रौद्योगिकी ऐप्लिकेशन में किसी मवेशी की अद्वितीय पहचान संख्या डालते ही उसके संबंध में सारी जानकारी कम्प्यूटर या मोबाइल के स्क्रीन पर चंद पलों में आ जाएगी।"

ये भी पढ़ें- हर बोरी से पांच किग्रा गेहूं गायब कर देता था अनाज व्यापारी, किसान हो गया भौचक्का

डावर ने बताया कि इनाफ में मवेशी के साथ उसके मालिक की भी जानकारी होगी। पशु की अद्वितीय पहचान संख्या को उसके मालिक के आधार नम्बर से जोड़ा जा रहा है। इससे पशुओं की अवैध खरीद-फरोख्त और तस्करी के साथ उन्हें पशुपालकों द्वारा लावारिस छोड़ने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने में सरकारी तंत्र को सहायता मिलेगी।

ये भी पढ़ें- सिहद्दा का नाम सुना है क्या, आखिर क्यों गांव-गांव खाक छान रहे अधिकारी

उन्होंने बताया, "पशुओं को अद्वितीय पहचान संख्या दिए जाने के बाद उनकी सेहत और दूध देने की क्षमता पर बेहतर तरीके से नजर रखी जा सकेगी। इससे नस्ल सुधार कार्यक्रम को आगे बढ़ाकर दूध उत्पादन में इजाफे में खासी मदद मिलेगी। नतीजतन पशुपालकों की आय में भी वृद्धि होगी।"

ये भी पढ़ें- ग्रामीण भारत में ज्यादातर महिलाओं को स्तन कैंसर बीमारी की जानकारी ही नहीं होती

डावर ने बताया कि सर्वाधिक दूध उत्पादन करने वाले सूबों की फेहरिस्त में मध्यप्रदेश फिलहाल देश में तीसरे पायदान पर है।

ये भी पढ़ें- यूपी के इस डाक्टर की सेवा भाव के बारे में जानकर ‘मन की बात’ में तारीफ करने से नहीं चूके मोदी

मध्य प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top