स्मार्ट क्लास में पढ़ेंगे बच्चे, शिक्षक वीडियो से सीखेंगे पढ़ाने के तरीके

Chandrakant MishraChandrakant Mishra   30 Nov 2018 5:32 AM GMT

स्मार्ट क्लास में पढ़ेंगे बच्चे, शिक्षक वीडियो से सीखेंगे पढ़ाने के तरीके

महोबा। यूपी के विद्यालयों में विद्यालय प्रबंधन समिति लंबे अरसे से काम कर रही है। ऐसे में समिति की मदद से कुछ वर्षों में ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों में आए बदलाव पर महोबा के बेसिक शिक्षा अधिकारी एमपी सिंह से गाँव कनेक्शन के संवाददाता ने खास बातचीत की...

सवाल: नई विद्यालय प्रबंधन समिति को कैसे सक्रिय रखेंगे ?

जवाब : इस बार जिन लोगों को विद्यालय प्रबंधन समिति में रखा गया है वे काफी सक्रिय हैं। सबसे ज्यादा युवाओं का चयन किया गया है। युवा और पढ़े लिखे लोग ही पढ़ाई के महत्व को बेहतर तरीके से समझते हैं। हमारी कोशिश है कि विद्यालय में होने वाली गतिविधियों में एसएमसी सदस्यों की सक्रिय भूमिका रहे। समय-समय पर सदस्यों को ट्रेनिंग देकर उनका ज्ञानवर्धन किया जाएगा।

ये भी पढ़ें: इस स्कूल में चलती है स्मार्ट क्लास, लाइब्रेरी में है बच्चों के लिए हजारों किताबों

सवाल : सरकारी विद्यालयों में शिक्षा के स्तर को सुधाराने का क्या प्रयास है ?

जवाब: सरकारी विद्यालयों में योग्य शिक्षकों की तैनाती होती है। कुछ टीचर नई सोच के होते हैं, जिनके पढ़ाने का तरीका बहुत ही रोचक होता है। हम लोग ऐसे टीचरों के पढ़ाने के तरीकों की वीडियो रिकॉर्डिंग कराकर अन्य शिक्षकों को दिखाएंगे, जिससे उनके अंदर भी बच्चों को बेहतर तरीके से पढ़ाने की सोच विकसित हो सके।

प्रतीकात्मक तस्वीरप्रतीकात्मक तस्वीर

सवाल: विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं ?

जवाब: विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने के लिए हम लोग शिक्षकों और एसएसमी सदस्यों के साथ मीटिंग करते हैं। बच्चों के अनुपस्थित रहने की वजह पता की जाती है। सबसे ज्यादा अनुपस्थिति त्योहारी मौसम और फसल कटने के समय होती है। इस दौरान हम लोग शिक्षकों को निर्देश देते हैं कि वे अभिभावकों से मिलकर बच्चों को स्कूल भेजने के लिए जागरूक करते रहें। स्कूल से जाने के बाद बच्चों को खेत में भेजने की सलाह देते हैं। इस बार बच्चों की संख्या काफी बढ़ी है।

ये भी पढ़ें: बाराबंकी के मसौली में लहलहाई शिक्षा की हरियाली

प्रतीकात्मक तस्वीरप्रतीकात्मक तस्वीर

सवाल: पढ़ाई को रुचिकर बनाने के लिए क्या प्रयास किए जा रहे हैं ?

जवाब: पढ़ाई को रुचिकर बनाया जा रहा है। टीएलएम और स्मार्ट क्लास के जरिए बच्चों को शिक्षा दी जा रही है , जिससे बच्चों का मन पढ़ाई में लगा रहे। बच्चे किताबों के साथ-साथ प्रैक्टिकल करके बहुत सी नई चीजों को सीख रहे हैं। विद्यालयों में कई गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। इन गतिविधियों में बच्चे भी काफी सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं।

ये भी पढ़ें: पढ़ाई के साथ-साथ बच्चे सीख रहे कबाड़ से कलाकारी

सवाल : लापरवाह शिक्षकों के लिए क्या कर रहे हैं?

जवाब: शिक्षकों की लापरवाही और विलंब से स्कूल पहुंचने की शिकायत अक्सर सामने आती है। इस समस्या से निपटने के लिए हम लोग समय-समय पर विद्यालयों की चेकिंग करते हैं। लापरवाह शिक्षकों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाती है। जिलाधिकारी महोदय खुद विद्यालयों की चेकिंग करने जाते हैं।

ये भी पढ़ें: इस स्कूल में प्रयोगशाला की दीवारें ही बन गईं हैं बच्चों की किताबें


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Share it
Top