चार धाम यात्रा पर निकलने से पहले ये जान लीजिए

पिछले कुछ दिनों से उत्तराखंड में मौसम खराब चल रहा है। तेज़ बारिश और श्रद्धालुओं की बढ़ती भीड़ के कारण कई रास्तों पर ट्रैफिक जाम की ख़बर आई है। अगर आप भी चार धाम यात्रा पर निकलने की सोच रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है। जैसे यात्रा की शुरुआत कहाँ से करनी है, रजिस्ट्रेशन कैसे होगा और साथ क्या क्या ले जाना बेहद ज़रूरी है।

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo

इस बार 10 मई से उत्तराखंड की चार धाम यात्रा की शुरू हो गई है और इसी के साथ यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ के कपाट खुल गए।

करीब छह महीने तक चलने वाली इस यात्रा में लाखों श्रद्धालु आते हैं। हालाँकि इसे छोटी चार धाम यात्रा भी कहते हैं। आदि शंकराचार्य ने देश के चारों कोनों में जो चार पवित्र तीर्थ स्थल स्थापित किए थे, उनकी यात्रा भी चार धाम यात्रा ही कहलाती है।

उत्तराखंड में चारधाम की इस यात्रा पर जाने वाले सभी तीर्थ यात्रियों के लिए बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन कराना ज़रूरी है। इसके लिए यात्री ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीकों से रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

रजिस्ट्रेशन के लिए आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट https://registrationandtouristcare.uk.gov.in/ पर जाकर यात्रा से जुड़ी सभी जानकारी देनी होगी।

आप चाहे तो touristcare.uttarakhand@gmail पर मेल भी कर सकते हैं। सरकार की तरफ से एक व्हाट्सप्प नंबर भी जारी किया गया है। 91 -8394833833 पर यात्रा लिख कर भी अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

ऋषिकेश सेंटर से हर दिन धाम के लिए 1000 और हरिद्वार सेंटर से प्रति धाम 500 रजिस्ट्रेशन किए जाएंगे। इसके लिए कुल 18 रजिस्ट्रेशन काउंटर खोले गए हैं।

चार धाम यात्रा के रजिस्ट्रेशन में पहचान प्रमाण पत्र की जरूरत होगी। इसके लिए आप आधार कार्ड, पैन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट के जरिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। इसके अलावा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए पहचान पत्र की स्कैन की गई एक कॉपी की जरूरत होती है।

यात्रा के दौरान मौसम बदले के कारण दिक्कत हो सकती है। ऐसे में शरीर को एनर्जी देने वाली खाने की चीजें, इमरजेंसी मेडिकल किट जैसे बुनियादी जरूरत के सामान को साथ जरूर लेकर जाएं।

अगर जरूरत है तो केवल रजिस्ट्ररर्ड घोड़ा-खच्चर, डंडी-कंडी और पालकी वाले लोगों की सेवा लें। क्योंकि इनके दाम फिक्स होते हैं।

चारधाम यात्रा हरिद्वार, ऋषिकेश या देहरादून से शुरू कर सकते हैं। यात्रा के लिए हरिद्वार रेलवे स्टेशन सबसे नजदीक है। यात्रा के लिए बसों के साथ हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून से भी आपको टैक्सी आराम से मिल जाएगी।

अगर आप चार धाम की यात्रा की प्लानिंग कर रहे हैं, तो कम से कम 7 दिनों की ट्रिप बनाएं। क्योंकि हमारे शरीर को वातावरण के अनुसार ढलने में समय लगता है।

और हाँ, सबसे ज़रूरी बात; दिल की बीमारी, अस्थमा, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज के मरीज हैं या गर्भवती महिला हैं तो अपने डॉक्टर की सलाह के बाद ही जाए।

#CharDham #Kedarnath badrinath dham #uttarakhand 

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.