• अब लड़कियों को मुफ्त लगेगा सर्वाइकल कैंसर का टीका

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कलखनऊ। पूरी दुनिया में दस में से एक महिला सर्वाइकल कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी की शिकार है। प्रदेश में पहली बार महिलाओं को सर्वाइकल कैंसर से बचाने के लिए ह्यूमन पेपीलोमा वायरस (एचपीवी) का टीकाकरण शुरू होने जा रहा है। इसके ज्यादातर मामले 40 साल या इससे ऊपर की महिलाओं में देखे गए...

  • शहरों में ई-अस्पताल, गाँवों में डॉक्टरों का अकाल

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कलखनऊ। एक ओर स्वास्थ्य विभाग राजधानी के सरकारी अस्पतालों को ई-अस्पताल बनाने की तैयारी कर रहा है, वहीं दूसरी तरफ गाँवों के अस्पतालों में डॉक्टर भी नहीं पहुंच रहे हैं।जिला मुख्यालय से लगभग 20 किमी. दूर मोहनलालगंज ब्लॉक के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में इलाज कराने आईं बिराहिम गाँव...

  • गांव कनेक्शन फाउंडेशन के स्वास्थ्य शिविर में फैजुल्लागंज की कई महिलाएं मिलीं एनीमिया पीड़ित

    लखनऊ। हर साल स्वास्थ्य विभाग करोड़ों रुपये महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए आयरन की गोलियों पर खर्च करता है। इसके बावजूद महिलाओं में बढ़ता एनीमिया थमने का नाम नही ले रहा है।गाँव कनेक्शन स्वयं प्रोजेक्ट के तहत फैजुल्लागंज के श्याम विहार कॉलोनी में लगाए गए स्वास्थ्य शिविर में हर दूसरी महिला एनीमिया से...

  • गाँव के लोगों का दम घोट रहा दमा

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कलखनऊ। मोहनलालगंज के जबरौली गांव निवासी रामवती अपने पति रामप्रकाश (50) और बेटे राजू (12) की दवा लेने सिविल अस्पताल आयी मंगलवार को सिविल अस्पताल आईं। उन्होंने बताया कि दोनों को सांस की परेशानी है। राजू को बचपन से सांस फूलती है और ठण्ड में यह समस्या ज्यादा बढ़ जाती है। जिस वजह से...

  • अब गाँवों के सीएचसी-पीएचसी में भी होगी स्वाइन फ्लू की जांच

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कलखनऊ। पीजीआई में एक महिला में स्वाइन फ्लू की पुष्टि होने के बाद शहर के सभी अस्पतालों में अर्लट कर दिया गया है। इसके अलावा सीएमओ ने गांवों में भी अर्लट जारी कर दिया है। जरूरी दवाईयों से लेकर सैम्पलिंग किट तक भेज दी गयी है।गांवों में सीएचसी पीएचसी पर ब्लड टेमीफ्लू दवाईयां प्रचुर...

  • स्मार्ट कार्ड है लेकिन नहीं हो रहा इलाज

    कम्यूनिटी जर्नलिस्ट, विवेक राजपूतलखनऊ। गाँवों के गरीबों और निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को बेहतर इलाज के लिए लागू की गई राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना उत्तर प्रदेश में दो वर्षों से ठप पड़ी है। स्मार्ट कार्ड होने के बावजूद गरीबों को इलाज के लिए सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में फीस भरनी पड़ रही है। ...

  • सर्वाइकल कैंसर का इलाज बिना यूट्रस निकाले संभव

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कलखनऊ। सर्वाइकल कैंसर के इलाज में सर्जरी कर उनके यूट्रस को निकाल दिया जाता है, जिससे वो महिला कभी मां नहीं बन पाती है। लेकिन अब लार्ज लूप ट्रीटमेन्ट से बिना यूट्रस निकाले इसका सफल इलाज किया जा सकता है। सर्वाइकल कैंसर की शिकार ज्यादातर महिलाएं 30 से 40 उम्र के बीच की होती...

  • अब घर में जमा किया पानी तो होगी जेल

    लखनऊ। राजधानी सहित पूरे प्रदेश में डेंगू ने इस बार जो आतंक बरपाया है, इस दौरान आदमी के साथ स्वास्थ्य विभाग की भी नींद उड़ा रखी है। स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के आंतक को कम करने के लिए इस बार अभी से कमर कस ली है। उत्तर प्रदेश सरकार ने इस भयावह स्थिति को देखते हुए एक नई गाइड लाइन जारी की है। इस गाइड...

  • सर्जरी के लिए तैयार नहीं होते कुष्ठ रोगी

    लखनऊ। कुष्ठ रोगियों की सर्जरी कर उन्हें ठीक किया जा सकता है, लेकिन कुष्ठ रोगी सर्जरी कराने से परहेज करते हैं। ऐसे रोगियों का मानना है कि सर्जरी से उनके हाथ पैरों की बची हुई ताकत भी चली जाती है। यह कहना है राजधानी के आदर्श कुष्ठ आश्रम के सचिव कल्लू का।आश्रम के सचिव आगे बताते हैं कि आदर्श कुष्ठ आश्रम...

  • केजीएमयू: प्लास्टिक सर्जरी विभाग दस वर्षों में 346 कुष्ठ रोगियों का किया मुफ्त इलाज

    दरख्शां कदीर सिद्दीकीलखनऊ। केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग में 346 कुष्ट रोगियों को नि:शुल्क इलाज देकर स्वस्थ किया गया है। केजीएमयू का प्लास्टिक सर्जरी विभाग कुष्ठ रोगियों की शल्य चिकित्सा हेतु भारत का नोडल सेन्टर है और राष्ट्रीय कुष्ठ निवारण कार्यक्रम का हिस्सा है।विभाग के विभागाध्यक्ष डा. एके...

  • केजीएमयू ने छह बच्चों को वापस दिलाई मुस्कान

    लखनऊ। किंगजार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय ने छह महीने की प्राची, 3 माह के मिलन और 10 साल के अतहर समेत 6 बच्चों की जिंदगी में दोबारा मुस्कान बिखेर दी है। केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग में क्लिफ्ट लिफ एण्ड प्लेट विषय पर दो दिवासीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला के दूसरे दिन हैदराबाद के...

  • गोरखधंधा: गारंटी से हर मर्ज़ का इलाज करने वाले इन अवैध दवाखानों का कब होगा इलाज ?

    लखनऊ। केजीएमयू से लेकर पीजीआई तक भले मरीज की बीमारी लाइलाज होने पर इलाज से हाथ खड़े कर दें, लेकिन राजधानी के इन वैद्यों के पास हर मर्ज की दवा है। हड्डी टूटने से लेकर दमा और यहां तक कि जानलेवा कैंसर तक का इलाज में 20 से 150 रुपये की खुराक में कर देते हैं। खुद को खानदानी जानकार बताने वाले इऩ वैद्यों...

Share it
Top