केजीएमयू ने छह बच्चों को वापस दिलाई मुस्कान

केजीएमयू ने छह बच्चों को वापस दिलाई मुस्कानकेजीएमयू ने छह बच्चों को वापस दिलाई मुस्कान।

लखनऊ। किंगजार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय ने छह महीने की प्राची, 3 माह के मिलन और 10 साल के अतहर समेत 6 बच्चों की जिंदगी में दोबारा मुस्कान बिखेर दी है।

केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग में क्लिफ्ट लिफ एण्ड प्लेट विषय पर दो दिवासीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला के दूसरे दिन हैदराबाद के प्लास्टिक सर्जन डॉ. मुकुन्द डी रेड्डी ने जन्मजात कटे होंठ व तालू के मरीजों की विकृतियों तथा उनमें सुधार की संभावनाओं पर विस्तृत चर्चा की। इस मौके पर प्राची (8 माह), मिलन (3 माह) तथा मोहम्मद अतहर (10 वर्ष) के जन्मजात कटे होठ व तालू के ऑपरेशन किए गए।

वोमर फ्लैप विधि से जोड़े गए बच्चों के कटे होंठ और तालू।

ऑपरेटिव वर्कशॉप में विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एके सिंह, प्रोफेसर विजय कुमार, प्रोफेसर बृजेश मिश्रा, डॉ. दिव्य नारायण उपाध्याय तथा डॉ. विरेन्द्र प्रसाद ने भाग लिया। विभाग में अध्ययनरत रेजिडेन्ट डॉक्टरों को डॉ. रेड्डी ने कटे होठ व तालू की बारीकियों को ऑपरेशन के माध्यम से बताया। इस कार्यशाला में छह बच्चों की मुस्कान को वापस दिलाया गया।

डॉ. रेड्डी ने तालू के ऑपरेशन में वोमर फ्लैप की विधि द्वारा ऑपरेशन किया तथा हाइब्रिड पैलेटोप्लास्टी के बारे में रेजिडेन्ट डॉक्टरों को जानकारी दी। इस विधि से ऑपरेशन करने से भविष्य में तालू में छेद होने की संभावना काफी हद तक कम या न के बराबर हो जाती है। कार्यशाला के पहले दिन साक्षी (2 वर्ष), आयुष (5 वर्ष) तथा आदित्य (1.5 वर्ष) का ऑपरेशन किया गया था। कार्यक्रम के दूसरे दिन तीन बच्चों का ऑपरेशन किया गया।

Share it
Share it
Share it
Top