Top

गुजरात: तौकते की रफ्तार से तबाह हुए किसान, आम की फसल के साथ पेड़ भी बर्बाद

चक्रवाती तूफान Tauktae से गुजरात में भारी तबाही हुई है। 13 लोगों की जान गई है। बिजली के खंभे, मोबाइल टॉवर और हजारों पेड़ टूट गए हैं। किसानों की बात करें तो आम उत्पादक किसानों को भारी नुकसान हुआ।

Arvind ShuklaArvind Shukla   18 May 2021 3:28 PM GMT

गुजरात: तौकते की रफ्तार से तबाह हुए किसान, आम की फसल के साथ पेड़ भी बर्बाद

गुजरात के गिर सोमनाथ जिले के बोरवार गांव किसान का 35 एकड़ का बाग तबाह हो गया। सभी फोटो: अरेंजमेंट

चक्रवाती तूफान तौकते ने ग्रामीण गुजरात में भारी तबाही मचाई है। चक्रवाती तूफान तो गुजर गया है लेकिन वो अपने पीछे तबाही के मंजर छोड़ गया है। गुजरात सरकार के मुताबिक 13 लोगों की मौत हुई है। कई हजार बिजली के खंभे और हजारों पेड़ उखड़ गए हैं। गुजरात की दो मैंगो बेल्ट समेत राज्य के कई इलाकों में तूफान के चलते आम की बागों को भारी नुकसान पहुंचा है। गिर सोमनाथ में फसल के साथ आम के पेड़ भी टूट गए, उलट गए हैं या फिर उनकी डालें फट गईं हैं।

महाराष्ट्र से गुजरने के बाद चक्रवाती तूफान कमजोर पड़ गया लेकिन तूफान के चलते महाराष्ट्र और उससे सटे राज्य गुजरात में भारी नुकसान हुआ है। कई जिलों में पेड़, बिजली के खंभे उड़ गए हैं, कच्चे मकानों को भारी नुकसान हुआ है। गुजरात और महाराष्ट्र दोनों ही राज्यों में तटीय इलाकों के मछुआओं को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है। गुजरात के ग्रामीण इलाकों में भी तूफान ने काफी तबाही मचाई है। तूफान कमजोर होने के बाद भी दोपहर बाद गुजरात के गिर सोमनाथ और नडियाद में भारी बारिश और तेज हवाएं चलीं। जिसमें आम की फसलें बर्बाद हो गईं।


गुजरात के गिर सोमनाथ जिले के बोरवार गांव किसान का 35 एकड़ का बाग तबाह हो गया। ये केसर प्रजाति का आम था जो एक्सपोर्ट क्वालिटी का होता है। किसान के मुताबिक उनका करीब 20 लाख रुपए का नुकसान हुआ है।

गुजरात में किसानों का वह्ट्सएप ग्रुप लाने वाले प्रगतिशील किसान जैमिन पटेल ने बताया, "गिर सोमनाथ गुजरात की बहुत बड़ी मैंगो बेल्ट है और यहां तूफान से भारी नुकसान हुआ है। मेरे एक साथी हैं बोरवार गांव में उनका 35 एकड़ का बाग बर्बाद हुआ है। अगर 4000 बक्शे भी आम निकलता और 50 रुपए किलो में जाता तो कम से कम 20 लाख रुपए मिलते। अब पूरा नुकसान है।"

अहमदाबाद से करीब 750 किलोमीटर दूर सोमनाथ जिले में तावावीर गांव के किसान दिलीप पटेल (41वर्ष) ने गांव कनेक्शऩ को बताया कि कैसे उनके यहां तबाही हुई है। "मेरा 100 एकड़ का जैविक आम का बाग है। बाग में 70-80 फीसदी आम डाल से गिर गया है। हवाएं कल शाम से चलनी शुरु हो गई थीं। 9 बजे तूफान आया। पूरी रात तूफान चला। बारिश हुई है। बहुत सारे पेड़, खँभे टूट गए हैं। सुबह करीब 9.30 बजे से तूफान कम हुआ।" दिलीप के मुताबिक तटीय इलाकों में जहां तूफान का मुख्य केंद्र था वहां से उनका घर 60 किलोमीटर दूर है।

गुजरात के साथ महाराष्ट्र में भी आम किसानों को नुकसान हुआ है। पहले से कोविड लॉकडाउऩ झेल रहे अल्फांशों के आम के किसानों की बाकी उम्मीदों पर तूफान ने पानी फेर दिया है।

किसान और पशुपालक न करें चिंता, मिलेगा मुआवजा- रुपानी

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने 18 मई की रात को प्रेस कॉन्फ्रेस में बताया कि "तूफान से खेती, बागवानी या पशुओं का कोई जो नुकसान हुआ है, उसका तत्काल सर्वे कराया जाएगा और मुआवजा दिया जाएगा। किसान भाई चिंता न करें। सर्वे का अलग-अलग विभाग अपने स्तर पर करेंगे और रिपोर्ट भेजेंगे, जिसके हिसाब से भरपाई की जाएगी।"

तौकाते से गुजरात में हुए नुकसान के आंकलन के लिए मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशंस सेंटर के जरिए सभी जिलों के कलेक्टर से बात की। उन्होंने कलेक्टर को तत्काल राहत एवं जीवन आवश्यक व्यवस्था बहाल करने के निर्देश दिए हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को गुजरात के प्रभावित इलाकों का हवाई दौरा करेंगे, जिसके बाद अहमदाबाद में तूफान में राहत और बचाव कार्यों की समीक्षा करेंगे।

महाराष्ट्र में भी बागवानों को नुकसान

महाराष्ट्र में रत्नागिरी जिले के आम उत्पादक किसान प्रशन्न पेठे (40वर्ष) गांव कनेक्शऩ को फोन पर बताते हैं, " हमारे बाग के 40 फीसदी आम टूटकर नीचे गिर गए हैं। हमारी शासन से मांग है कि आम उत्पादकों को हुए नुकसान के आंकलन के लिए तुरंत सर्वे कराया जाना चाहिए और उचित मुआवजा दिलाया जाए।" पेठे सामान्य दिनों में अपना आम 15 से 31 मई के बीच बेचते थे।

महाराष्ट्र में रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिले आम उत्पादन के लिए प्रसिद्ध हैं। स्थानीय कारोबारियों के मुताबिक यहां पिछले 15 दिनों में आमों की 30 हजार पेटियां थोक बाजार में पहुंचाई गई थीं।

महाराष्ट्र से इनपुट- शिरीश खरे

खबर अपडेट हो रही है..

संबंधित खबर अंग्रेजी में यहां पढ़ें- Cyclone Tauktae: 24 people reportedly dead, several fishermen missing and fishing boats badly damaged

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.