आख़िर क्यों ग़ज़ल गायिका बेग़म अख़्तर ने लौटाई थी अयोध्या के राजा को इनाम की ज़मीन?

अख़्तरी बाई फैज़ाबादी, जिन्हें दुनिया बेग़म अख़्तर के नाम से पहचानती है, ग़ज़ल की दुनिया की मल्लिका मानी जाती हैं। उनकी आवाज़ के जादू का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि शायर कैफ़ी आज़मी ने एक बार उनके बारे में कहा था, 'गजल के दो मायने होते हैं, पहला गजल और दूसरा बेग़म अख़्तर।

बेग़म अख़्तर ने मौसिक़ी की दुनिया में न सिर्फ़ ग़ज़ल बल्कि ठुमरी और दादरा को भी एक नई पहचान दिलाई। गांव कनेक्शन के शो 'यतीन्द्र की डायरी' में इस बार यतीन्द्र ने उन्हीं से जुड़ा एक बेहद दिलचस्प क़िस्सा सुनाया है। दरअसल, यतीन्द्र के परिवार के पास एक ऐसी ज़मीन है, जो किसी ज़माने में इस परिवार से संबंध रखने वाले अयोध्या के राजा ने बेग़म अख़्तर को उनके हुनर के लिए बतौर इनाम दी थी।

लेकिन कुछ सालों बाद बेग़म अख़्तर ने ज़मीन का वो हिस्सा राजा साहब को लौटा दिया। ये हिस्सा आज भी यतीन्द्र मिश्र के परिवार के पास है। आख़िर क्यों उन्होंने इनाम में मिली इस ज़मीन को लौटाया, इसी का ये क़िस्सा आप 'यतीन्द्र की डायरी' के इस दूसरे एपिसोड में देख सकते हैं।

('यतीन्द्र की डायरी' गांव कनेक्शन का साप्ताहिक शो है, जिसमें हिंदी के कवि, संपादक और संगीत के जानकार यतीन्द्र मिश्र संगीत से जुड़े क़िस्से बताते हैं।)


इसे भी पढ़ें: जब उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान ने बताया था, मुसलमानों में संगीत हराम क्यों है?

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top