Top

कोरोना और लॉकडाउन के बाद बदले भारत की वो कहानियां जो आप तक नहीं पहुंची, देखिए #CoronaFootprint

कोरोना और लॉकडाउन को लेकर गांव कनेक्शन की नई सीरीज #CoronaFootprint में ग्रामीण भारत की वो कहानियां जो अभी तक आप तक नहीं पहुंची, करोड़ों मजदूर, कामगार जब बेरोजगार होकर गांव लौटे हैं, गांवों में क्या हो रहा है, उन घरों की महिलाओं और किसानों का हाल..पढ़िए और देखिए हमारी इस विशेष सीरीज में..

पूरा देश कोरोना से जूझ रहा है, लेकिन ग्रामीण भारत की आवाज मुख्यधारा मीडिया से गायब है। ऐसे में भारत के सबसे बड़ा ग्रामीण मीडिया प्लेटफॉर्म अपनी विशेष सीरीज #CoronaFootprint के जरिए करोड़ों लोगों तक उनकी आवाज पहुंचा रहा है।

इस विशेष सीरीज में गाँव कनेक्शन आप तक उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, ओड़िशा, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ जैसे कई राज्यों से कोरोना संकट की अनकही कहानियां लेकर आया है..

लॉकडाउन: "मैं यह सुसाइड गरीबी और बेरोजगारी के चलते कर रहा हूं...


चंदेरी साड़ियां बुनने वाले 5 हजार हैंडलूम लॉकडाउन, 10 हजार से ज्यादा बुनकर बेरोजगार

वाराणसी: 'लॉकडाउन में भी गंगा में घरों से निकला मल-मूत्र तो जा ही रहा है, फिर पानी साफ कैसे हुआ हो सकता है'

झारखंड : लॉकडाउन में विदेश में फंसे दो मजदूरों की मौत, दो महीने बाद भी शव का इंतजार कर रहे ग्रामीण परिवार

लॉकडाउन में जब दुकानों पर सेनेटरी पैड नहीं मिल रहे थे तब इन लड़कियों ने कपड़े का पैड बनाकर माहवारी की मुश्किलों को किया आसान

कोरोना संकट के बीच बुंदेलखंड विश्वविद्यालय ने बढ़ाया 20 से 90 प्रतिशत फीस, कई छात्रों ने कहा- छोड़नी होगी पढ़ाई


पश्चिम बंगाल के मजदूरों का दर्द, लॉकडाउन ने रोजगार छीना, अम्फान ने घर और फसल

उत्तराखंड: कोरोना संकट में उत्तरकाशी के ग्राम प्रधान से सबको सीखना चाहिए

पीने के लिए टॉयलेट वाला पानी, 500 रुपए वाला टिकट 1,200 में, 25 घंटे का सफर 50 घंटे में, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूर मरे

मिर्जापुर: गरीबों का सोना बनाने वाले कारीगर बेहाल, 25 से 30 हजार लोगों को रोजगार देने वाले पीतल कारोबार पर संकट

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.