जैविक हल्दी उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए मेघालय में अभियान शुरू

जैविक हल्दी उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए मेघालय में अभियान शुरूहल्दी की खेती को देंगे बढ़ावा।

शिलांग। मेघालय सरकार ने राज्य में उगाई जाने वाली लकाडोंग हल्दी का उत्पादन पांच गुना बढ़ाने के लिए एक अभियान की शुरुआत की है। सरकार ने अगले पांच सालों में इसका उत्पादन कम से कम 50,000 मीट्रिक टन करने का लक्ष्य रखा है।

मिशन लकाडोंग के एक दस्तावेज के मुताबिक, अगले पांच साल में वर्तमान 2,577 हेक्टेयर कृषि क्षेत्र को बढ़ा कर 6,070 हेक्टेयर करने की योजना है। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के एक अध्ययन के मुताबिक, जैनतिया पर्वतीय जिला दुनिया में बेहतरीन किस्मों की हल्दी के उत्पादन के लिए मशहूर है और उच्च करक्यूमिन वाली लकाडोंग हल्दी सबसे मशहूर किस्मों में से एक है।

ये भी पढ़ें- जैविक तरीके से करिए अश्वगंधा की खेती, बढ़ेंगे औषधीय गुण 

मिशन लकाडोंग का शुभारंभ करते हुए राज्यपाल गंगा प्रसाद ने कहा, “लास्कीन और थाडलास्कीन प्रखंडों में करीब 2,500 हेक्टेयर में कम से कम 1,000 किसान इस समय लकाडोंग हल्दी की खेती के काम में लगे हुए हैं और एक साल में करीब 10,000 मीट्रिक टन उत्पादन किया जा रहा है।“

उन्होंने कहा, “इतना उत्पादन हमारे लकाडोंग प्रजाति के लिए वैश्विक छाप छोड़ने के लिए पर्याप्त नहीं है। लकाडोंग हल्दी के उत्पादन में वृद्धि के लिए कम से कम 50,000 मीट्रिक टन तक और खेती के क्षेत्र को दोगुना करने के लिए अभियान चलाने की जरूरत है।“

(साभार: एजेंसी)

ये भी पढ़ें- इस तकनीक से सड़ रहे प्याज को मिलेगा सही दाम 

धान नर्सरी डालने से पहले करें बीजोपचार, मिलेगी अच्छी उपज

Tags:    Turmeric farmer 
Share it
Top