रामदाने की खुशबू से दूर भागती है नीलगाय

रामदाने की खुशबू से दूर भागती है नीलगायनीलगाय से फसल को बचाने के लिए रामदाना की खेती शुरू कर दी है।

कम्युनिटी जर्नलिस्ट

रायबरेली। किसानों ने नीलगाय से फसल को बचाने के लिए भिंडी की फसल के साथ ही रामदाना की खेती शुरू कर दी है। इससे किसान एक साथ दो फसल लेकर दोगुना मुनाफा भी कमा रहे हैं।

जिला मुख्यालय से लगभग 33 किमी. दूर बछरावां ब्लॉक के देवपुरी, बहादुरपुर, तिलेंडा, जिगो और आसपास के दर्जनों गाँव के किसान नीलगाय से परेशान हैं, वहीं पर कुछ किसान नीलगाय से फसल बचाने के लिए भिंडी की फसल के साथ ही रामदाना की खेती कर रहे हैं। बहादुरपुर किसान अजय राजपूत (35 वर्ष) पिछले दस वर्षों से भिंडी की खेती करते हैं।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

वो बताते हैं, “‘शुरू-शुरू में नीलगाय बहुत परेशान करती थी, जिससे बचने के लिए हम खेत में पुतला बना देते थे। पुतला बना देने से कुछ दिन तो नीलगाय नहीं आती। लेकिन फिर कुछ दिन बाद चाहे पुतला हो या कुछ नीलगाय खेतों में आकर पूरा खेत खराब कर देती थी।” वो आगे बताते हैं, “ऐसे में मेरे दिमाग में आया कि रामदाना की खुशबू से नीलगाय नहीं आती है, क्यों न साथ में रामदाना बो दिया जाए।” अजय ने रामदाना बो दिया और नीलगायों का आना बंद हो गया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top