मेरी हत्या की जा सकती है : प्रवीण तोगड़िया 

मेरी हत्या की जा सकती है : प्रवीण तोगड़िया प्रवीण तोगड़िया।

अहमदाबाद (आईएएनएस)। लापता होने के बाद बेहोशी की हालत में मिले विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने मंगलवार को कहा कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि उनकी हत्या की जा सकती है।

प्रवीण तोगड़िया ने अहमदाबाद में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "मुझे एक दशक पुराने मामले को लेकर निशाना बनाया जा रहा है। मेरी आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। राजस्थान पुलिस की टीम मुझे गिरफ्तार करने के लिए आई थी। किसी ने मुझे बताया कि मुझे मारने की योजना थी।"

प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने उसी दिन उन्हें आश्वासन दिया था कि उनके खिलाफ किसी तरह की पुलिस कार्रवाई नहीं की जा रही।

प्रवीण तोगड़िया के अनुसार, "उन्होंने मुझसे कहा कि उन्होंने कोई पुलिस टीम नहीं भेजी और अगर ऐसा कुछ होता तो हमें उसकी जानकारी होती। जब मुख्यमंत्री व गृहमंत्री ने पुलिस कार्रवाई से इनकार कर दिया तो मैंने अपने मोबाइल फोन बंद कर दिए ताकि कोई मेरा पता न लगा सके। बाद में मुझे पता चला कि वे (पुलिस) मेरे पास गिरफ्तारी वारंट के साथ आए थे।"

इसी बीच अहमदाबाद की अपराध शाखा ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद के नेता की खोजबीन के लिए एक विशेष दल का गठन किया गया था।

मेरी आवाज दबाने की कोशिशें की जा रही है

उन्होंने कहा, मैं हिंदुओं के लिए अपनी आवाज उठाता रहा हूं। मैं राम मंदिर, गो-वध पर प्रतिबंध लगाने के लिए राष्ट्रीय कानून, कश्मीर हिंदुओं के पुन: स्थापन, किसानों को उनकी फसल के लिए उचित मूल्य दिए जाने जैसे मुद्दे उठा रहा हूं लेकिन मेरी आवाज को दबाने की कोशिशें की जा रही हैं। एक सवाल पर तोगड़िया ने कहा कि वह उचित समय आने पर उन लोगों के नामों का खुलासा करेंगे जो उनकी आवाज को दबाने की साजिश के पीछे हैं।

उन्होंने कहा, राजस्थान पुलिस मुझे गिरफ्तार करने आई थी लेकिन राज्य की मुख्यमंत्री और गृह मंत्री इसके बारे में नहीं जानते थे। ऐसा ही गुजरात में हुआ। जब गुजरात की अदालत ने मेरे खिलाफ वारंट जारी किया तो यहां मुख्यमंत्री (विजय रुपाणी) या गृह मंत्री (प्रदीपसिंह जडेजा) को इसके बारे में नहीं पता था। उन्होंने कहा, जिन लोगों के आदेश पर पुलिस ऐसी कार्रवाई कर रही है, उनके नाम उचित समय आने पर सबूतों के साथ बताए जाएंगे। तोगड़िया ने यह भी दावा किया कि सीबीआई विहिप से जुड़े डॉक्टरों को भी धमका रही है।

इसे पहले विहिप के कार्यकारी अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया (62 वर्ष) की हालत स्थिर है। उनका इलाज कर रहे डॉक्टर ने यह जानकारी दी है। प्रवीण तोगड़िया सोमवार देर रात अहमदाबाद के शाहीबाग क्षेत्र के एक अस्पताल में बेहोशी की हालत में मिले हैं। वह इससे पहले लापता बताए जा रहे थे।

चंद्रमणि अस्पताल के डॉ रूपकुमार अग्रवाल ने बताया कि उनकी सेहत स्थिर है। अग्रवाल ने कल रात कहा था, कोई व्यक्ति उन्हें कल 108 ऐंबुलेंस सेवा के जरिए अस्पताल लाया था। वह बेहोश अवस्था में थे।

पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता दिनेश बंभानिया ने विहिप नेता से आज सुबह मुलाकात की और कहा कि वह ठीक हैं। अहमदाबाद के संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) जे के भट्ट भी अस्पताल में तोगड़िया को देखने पहुंचे।

सुनें प्रवीण तोगड़िया का प्रेस कांफ्रेंस :-

विहिप ने पहले दावा किया था कि मामले के संबंध में प्रवीण तोगड़िया को राजस्थान पुलिस ने हिरासत में लिया था लेकिन बाद में उन्होंने इससे इनकार कर दिया था। विहिप नेता की गुमशुदगी पर कल रहस्य उस वक्त गहरा गया था जब एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा था कि प्रवीण तोगड़िया को न तो स्थानीय सोला पुलिस और न ही राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

पुलिस का कहना है कि कुछ लोग उन्हें एक निजी अस्पताल चंद्रमणि में बेहोशी की हालत में लाए थे। चिकित्सकों का कहना है कि शरीर में शर्करा का स्तर कम होने की वजह से वह बेहोश हो गए थे। पुलिस ने बताया कि उन्हें सोमवार रात लगभग 9.20 बजे अस्पताल मे भर्ती कराया गया।

पुलिस को हालांकि, अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि वह विहिप कार्यालय से लगभग 15 किलोमीटर दूर सरदारनगर कैसे पहुंच गए। ऐसा बताया जा रहा है कि वह विहिप कार्यालय से ऑटोरिक्शा में सवार होकर गए थे। अभी यह भी स्पष्ट नहीं है कि वह बेहोश क्यों हो गए। पुलिस द्वारा मंगलवार को तोगड़िया से बात करने के बाद ही जानकारियां उजागर होंगी।

राजनीति से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इससे पहले अहमदाबाद की अपराध शाखा ने कहा कि उसने लापता विहिप नेता की तलाश के लिए एक विशेष टीम गठित की है। ऐसे कथित आरोप थे कि राजस्थान पुलिस उन्हें ले गई हैं।

पिछले 40 वर्षों से तोगड़िया कह रहे हैं हिंदुत्व खतरे में है, अब उनकी जान खतरे में है : संजय निरूपम

मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरूपम ने आज विहिप नेता प्रवीण तोगड़िया के उन आरोपों की जांच की मांग की जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी हत्या की साजिश हो रही है। निरूपम ने कहा कि यद्यपि उनकी पार्टी के तोगड़िया के साथ वैचारिक मतभेद हैं, लेकिन मानवीय आधार पर उसकी उनके साथ सहानुभूति है।

निरूपम ने संवाददाताओं से कहा, हमारा तोगड़िया के साथ वैचारिक मतभेद है। लेकिन मानवीय आधार पर हमारी उनसे सहानुभूति है जब वह कहते हैं कि उनकी हत्या की साजिश थी। कांग्रेस नेता ने कहा कि पिछले 30 से 40 वर्षों से तोगड़िया कह रहे हैं कि हिंदुत्व खतरे में है। उन्होंने कहा, अब उनकी जान खतरे में है। क्या कारण हो सकता है। कैसे जेड प्लस सुरक्षा वाला व्यक्ति 12 घंटे के लिए लापता हो सकता है और वह पार्क में अचेतावस्था में एक पार्क में पाए गए।

तोगड़िया की कौन हत्या करना चाहता है इसकी जांच की मांग करते हुए पूर्व लोकसभा सदस्य ने कहा, यह चिंता का विषय है। दस साल पुराने मामले में जब राजस्थान पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने पहुंची तो तोगड़िया लापता पाए गए। उन्हें बाद में अचेतावस्था में एक अस्पताल में भर्ती पाया गया। उन्होंने दावा किया कि हिंदू समुदाय के लिए आवाज उठाने को लेकर उनकी आवाज खामोश करने के प्रयास किए जा रहे हैं। विहिप नेता ने कहा कि अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वह राजस्थान में अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण करेंगे।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top