Top

खेती में उद्यम को बढ़ावा देने के लिए 'यूथस्केप'

खेती में उद्यम को बढ़ावा देने के लिए

खेती में नवाचार, उधमिता और आंत्रप्रेन्योरशिप को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश के अयोध्या मंच 'यूथस्केप' नाम से एक कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। 29 फरवरी को अयोध्या के आचार्य नरेंद्र देव कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित होने वाले इस आयोजन में देश भर के कृषि विशेषज्ञ, कृषि वैज्ञानिक, कृषि उद्यमी, शिक्षक और छात्र शामिल होंगे।

खेती में आंत्रप्रेन्योरशिप को बढ़ावा देने वाली संस्था 'मेधा' की तरफ से इसका आयोजन किया जा रहा है। मेधा से जुड़ी हुई अलीशा आसिफ गांव कनेक्शन को बताती हैं कि हमें खेती को एक आंत्रप्रेन्योरशिप और एक उद्यम के रुप में लेना चाहिए क्योंकि इस काम में भी किसान किसी आंत्रप्न्योर की तरह अपनी लागत लगाता है और रिस्क भी लेता है। हमारा उद्देश्य है कि कैसे कृषि जैसे उद्यम को युवाओं से जोड़ा जाए और इसे एक लाभकारी आंत्रप्रन्योर बनाया जाए।


उन्होंने कहा कि इसलिए हमारी संस्था अयोध्या के कृषि विश्वविद्यालय में इस कार्यक्रम का आयोजन कर रही है ताकि विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले युवा कृषि उद्यमियों, वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों से मिल सकें और उनके अनुभवों और ज्ञान के आधार पर अपने आप को भविष्य के लिए तैयार कर सकें।

उन्होंने बताया कि मेधा संस्था से 86 शैक्षणिक संस्थान, 750 बड़े नियोक्ता और 15000 से अधिक विद्यार्थी जुड़े हुए हैं। यह संस्था उत्तर प्रदेश, हरियाणा और बिहार के 18 जिलों में काम करती है। इस कार्यक्रम में कृषि आंत्रप्रेन्योरशिप, जिसे एग्रीप्रेन्योरशिप भी कहा जा रहा है, के भविष्य पर चर्चा होगी। वहीं खेती को लाभकारी उद्यम बनाने वाले कुछ आन्त्रप्रन्यो भी युवाओं से अपने अनुभव साझा करेंगे। कृषि विशेषज्ञ और वैज्ञानिक इसमें आने वाली चुनौतियों के बारे में चर्चा करेंगे। युवाओं के सामने आने वाली रोजगार संकट पर भी इस संगोष्ठी में चर्चा होगी और जानकार बताएंगे कि कैसे कृषि के माध्यम से युवा अपनी इस आर्थिक समस्या को दूर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें- नई विधि से तरबूज की खेती कर कम खर्च में ज्यादा मुनाफा कमा रहे किसान


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.