भारतीय महिला एथलीट को विदेश में लेना पड़ा था उधार, इस खिलाड़ी ने खेल मंत्री को दी नसीहत

Mithilesh DubeyMithilesh Dubey   15 July 2017 5:55 PM GMT

भारतीय महिला एथलीट को  विदेश में लेना पड़ा था उधार, इस खिलाड़ी ने खेल मंत्री को दी  नसीहतभारतीय पैरा एथलीट कंचनमाला पांडे।

लखनऊ। भारत की ओर से ओलंपिक के एकलौते गोल्ड मेडलिस्ट (व्यक्तिगत) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गठित ओलंपिक टास्क फोर्स के सदस्य अभिनव बिंद्रा ने खेल मंत्री विजय गोयल से एक हेल्पलाइन नंबर जारी करने की मांग की है। ये ऐसा नंबर हो जिसपर देश से बाहर खेलने गए खिलाड़ी सीधे संपर्क कर सकें।

जाने-माने भारतीय शूटर ने अपने टि्वटर पेज पर ये मांग कंचनमाला पांडे के साथ हुई घटना के दो दिन बाद की है। उन्होंने खेल मंत्री को राय दी कि वैश्विक स्तर के खेल टूर्नामेंट के समय तो ऐसे हेल्पलाइन जरूर जारी किए जाने चाहिए। शुक्रवार को अपने ओपन लेटर में अभिनव ने लिखा है कि पैरालंपिक एथलेटिक कंचनमाला पांडे के साथ जो हुआ वो एथलेटिक मैनेजमेंट पर कई सवाल खड़े करती है।

बर्लिन में मांगना पड़ा था उधार

भारतीय पैरा एथलीट कंचनमाला पांडे इस साल होने वाली वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई करने वाली भारत की एकमात्र महिला एथलीट हैं। कंचन अब भारत लौट चुकी हैं। लेकिन जर्मनी में आयोजित हुए जिस टूर्नामेंट में कंचनमाला ने विश्व चैंपियनशिप के लिए क्वॉलिफाई किया उसमें भाग लेने के लिए उन्हें जिन तकलीफों और मुश्किल परिस्थितियों से गुजरना पड़ा वह भारतीय खेल संघों की अपने एथलीटों के प्रति दिखाए जाने वाले लापरवाह रवैये की पोल खोलता है।

ये भी पढ़ें-क्रिकेट का दूसरा पक्ष : प्रदर्शन सचिन, कोहली से बेहतर, लेकिन सुविधाएं तीसरे दर्जे की भी नहीं

डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक कंचनमाला और पांच अन्य भारतीय पैरा एथलीटों ने जर्मनी के बर्लिन में 3-9 जुलाई तक आयोजित हुई पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप में भाग लिया। कंचनमाला पूरी तरह से दृष्टिहीन हैं और इस चैंपियनशिप के S11 कैटिगरी में तैरती हैं, लेकिन पैरालंपिक कमिटी ऑफ इंडिया (पीसीआई) की लापरवाही की वजह से उनके पास सरकार द्वारा इस दौरे के लिए उपलब्ध कराई गई धनराशि नहीं पहुंच सकी और एक वक्त तो ऐसा आ गया कि कंचनमाला के पास खाने तक के पैसे नहीं बचे और उन्हें एक अनजाने मुल्क में इसके लिए लोगों से मदद मांगनी पड़ी और उधार तक लेना पड़ा।

ये भी पढ़ें- पढ़िए खेल की दुनिया में कैसे चमका 500 रुपए महीने कमाने वाले गरीब की बेटी का किस्मत का सितारा

कंचनमाला अपनी सुरक्षा में शामिल जयमाला पाण्डेय के साथ सरकार द्वारा दी गई मदद के बाद बर्लिन दौरे पर गई थीं, लेकिन पैरालंपिक कमिटी ऑफ इंडिया, स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा पास की गई धनराशि को कंचनमाला तक पहुंचाने में नाकाम रहा और उनके पास होटल और खाने तक के पैसे नहीं थे। ऐसे में उनके पास अपना खर्च खुद उठाने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा।

वह कहती हैं, ‘इस टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए मुझे 5 लाख रुपए का लोन लेना पड़ा।’ इन तमाम मुश्किलों के बावजूद कंचनमाला ने दूसरी बार वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए क्वॉलिफाई करने का अपना सपना पूरा कर लिया। वह तमाम मुश्किलों को भुलाकर सितंबर में होने वाली वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेडल जीतना चाहती हैं।

मामले की होगी जांच

भारतीय स्पोर्ट्स प्रशासन की गलतियों का खामियाजा देश की एक दृष्टिहीन पैरा एथलीट स्विमर को भुगतना पड़ा। नागपुर की कंचनमाला एस11 कैटिगरी में स्विमिंग करती हैं, लेकिन बर्लिन दौरे के वक्त पैरालिंपिक कमिटी ऑफ इंडिया (पीसीआई) की गलती की वजह से उन्हें बेहद गरीबी के दिनों से गुजरना पड़ा। खेलमंत्री विजय गोयल ने शनिवार को कहा पैरा-एथलीट कंचनमाला पांडे के बर्लिन में भीख मांगने के मामले में जांच की जाएगी।

ये भी पढ़ें- गांव से मुंबई पढ़ने गई इस बच्ची ने फेसबुक पर जो लिखा उससे आपका दिल भर आएगा

ये भी पढ़ें-भारतीय टीम का ये सुपरस्टार खिलाड़ी करता है खेतों में काम

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top