उन्नाव गैंगरेप: विधायक पर लगे गैंगरेप के आरोप की सीबीआई ने पुष्टि की, पुलिस की लापरवाही भी आई सामने

उन्नाव गैंगरेप: विधायक पर लगे गैंगरेप के आरोप की सीबीआई ने पुष्टि की, पुलिस की लापरवाही भी आई सामनेउन्नाव गैंगरेप केस में सीबीआई ने पीड़िता द्वारा लगाए गए उन आरोपों की पुष्टि कर दी है।

उन्नाव गैंगरेप केस में सीबीआई ने पीड़िता द्वारा लगाए गए उन आरोपों की पुष्टि कर दी है। जिसमें उसने कहा था कि पिछले साल 4 जून को बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उसका रेप किया था, जबकि उस दौरान उनकी महिला सहयोगी शशि सिंह कमरे के बाहर पहरा दे रही थी। सूत्रों के मुताबिक, पीड़ित लड़की जहां बांगरमऊ के विधायक सेंगर का नाम लेती रही, वहीं स्थानीय पुलिस ने 20 जून को दर्ज एफआईआर में विधायक और अन्य आरोपियों के नाम शामिल नहीं किए।

पुलिस की लापरवाही भी आई सामने

सीबीआई को मामले में स्थानीय पुलिस की लापरवाही के भी सबूत मिले हैं। सीबीआई की अब तक की जांच में सामने आया है कि पहली बार दर्ज करवाई गई एफआईआर में पुलिस ने आरोपी विधायक का नाम शामिल ही नहीं किया था। बता दें कि सीबीआई के पास जांच के लिए इस समय जो मामला है, वह आरोपी विधायक के खिलाफ चौथी एफआईआर थी। इतना ही नहीं केस को लटकाने और आरोपी विधायक को बचाने के लिए पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल कराने में भी देरी की।

ये भी पढ़ें- उन्नाव गैंगरेप: विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उन्नाव से सीतापुर जेल में किया गया स्थानांतरित

कुलदीप सिंह पर था गैंगरेप का आरोप

गैंगरेप पीड़िता का आरोप है कि उसके साथ 4 जून 2017 को बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर और उनके साथियों ने गैंगरेप किया था। उसने बीजेपी विधायक से रेप का विरोध किया, तो उसने परिवार वालों को मारने की धमकी दी। जब वो थाने में गई तो एफआईआर नहीं लिखी गई। इसके बाद तहरीर बदल दी गई। वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ गई।

(एजेंसी)

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Share it
Top