पीलीभीत : तेज आंधी ने किसी से छत छीनी, तो किसी का रोजगार किया चौपट

पीलीभीत : तेज आंधी ने किसी से छत छीनी, तो किसी का रोजगार किया चौपटसड़क के किनारे टूटा हुआ पेड़।

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में शुक्रवार रात 10 बजे के आसपास अचानक तेज आंधी के साथ ओले गिरने से आम के पेड़ों पर आए हुए बौरों को भारी नुकसान हुआ है। अब इन पेड़ों पर मात्र डंडियां ही नजर आ रही है। टनकपुर रोड पर ग्राम अलीगंज के खेतों में तेज हवाओं के साथ बारिश से गेहूं की फसल में भी नुकसान हुआ है। गेहूं की फसल गिर गई है।

तेज आंधी व बरसात के आने से जिला मुख्यालय पर टनकपुर रोड पर पड़ने वाले नेहरू ऊर्जा उद्यान के सामने भारी भरकम पेड़ विद्युत लाइनों पर गिर गए हैं। जिससे रात 10 बजे के बाद नगर वासियों को अंधेरे में ही अपनी रात गुजारनी पड़ी। आधी रात तक सड़क पर पेड़ गिरने से टनकपुर हाईवे पर यातायात भी बाधित रहा। राहगीरों ने स्वयं ही पेड़ की टहनियों को हटाकर रास्ता बनाया।

ये भी पढ़ें- आंधी और बारिश से किसानों को झटका, खेत में खड़ी फसल गिरी तो मंडी में हजारों बोरी गेहूं भीगा

पीलीभीत जिला मुख्यालय पर नकटादाना चौराहा के पास पन्नी और तिरपाल से अस्थाई झोपड़ी डालकर उसमें मिट्टी की मूर्तियां, गमले और मटके आदि बनाकर व्यापार करने वाले परमेश्वरी दयाल (45 वर्षीय) ने बताया कि "रात आई अचानक तेज आंधी से छप्पर उखड़ गए और वहां रखे मिट्टी की मूर्तियों और गमलों पर गिर गया। जिससे उनका लगभग चार-पांच हज़ार रुपये का नुकसान हो गया।"अभी आसमान पर मंडरा रहे काले बादलों को देखकर जनपद के किसानों की सांसे थमी हुई हैं क्योंकि उनके खेतों में सरसों और गेहूं की फसल पककर तैयार हो चुकी है।

मरौरी ब्लॉक के ग्राम अलीगंज निवासी (56 वर्षीय) रामफल ने बताया कि "हमारे खेतों में गेहूं की फसल खड़ी है। जैसे ही रात आंधी तूफान आया रात भर हमें फिक्र की वजह से नींद नहीं आई। फिलहाल हमारे खेत में ईश्वर की कृपा से कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। हमारे एक खेत में गेहूं की कटाई कर भूसे का ढेर लगा था जो तेज आंधी में उड़ गया है।"

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Tags:    Wheat Crop rain 
Share it
Top