सोनभद्र में 'महिला मेट' और अस्मिता ऐप ने बढ़ाई मनरेगा में महिलाओं की संख्या

राष्ट्रीय रोजगार गारंटी कार्यक्रम में ग्रामीण महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए एक साल पहले शुरू की गई, उत्तर प्रदेश में 'महिला मेट' योजना ने ग्रामीण महिलाओं की आय और बेहतर करने का काम किया है। सोनभद्र जिले में अगर कामगारों की बात करें तो उनमें महिलाओं की हिस्‍सेदारी आधी है।

Brijendra DubeyBrijendra Dubey   25 March 2022 1:17 PM GMT

सोनभद्र में महिला मेट और अस्मिता ऐप ने बढ़ाई मनरेगा में महिलाओं की संख्या

सोनभद्र (उत्तर प्रदेश)। कभी घर के कामों में व्यस्त रहने वाली 32 वर्षीय गृहिणी रश्मि सिंह ने सोचा ही नहीं था कि वह अपने घर से निकलेंगी, बाहर काम करेंगी और गांव में बदलाव की अगुवा बनेंगी।

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के चोपन कस्बे के अगोरी गांव के निवासी रश्मि सिंह ने गांव कनेक्शन को बताया, "महिला साथी योजना ने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया है और मुझे एक सम्मानजनक पेशा दिया है जिसकी मैं कल्पना भी नहीं कर सकती थी।" उन्होंने कहा, "इसके अलावा, यह सुनिश्चित करने के बाद कि अशिक्षित ग्रामीण महिलाओं को आजीविका मिले, मुझे जो उपलब्धि महसूस होती है, उसे शब्दों में व्यक्त करना कठिन है," उन्‍होंने आगे कहा।

रश्मि सोनभद्र जिले के 457 'महिला साथियों' में से हैं, जिन्हें राज्य सरकार ने केंद्र सरकार की महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (MGNREGS) के तहत ग्रामीण महिलाओं की कामकाजी समूह में शामिल होने के लिए प्रेरित करने का काम सौंपा है। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, 2005 एक राष्ट्रीय श्रम सुरक्षा अधिनियम है, जिसका उद्देश्य प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों का गारंटीकृत मजदूरी रोजगार प्रदान करना है, जिसके वयस्क सदस्य अकुशल शारीरिक कार्य करने के लिए स्वेच्छा से काम करते हैं।

मनरेगा की गरीबी उन्मूलन योजना में महिलाओं की कम भागीदारी को बढ़ाने के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार ने मार्च 2021 में महिला मेट योजना शुरू की। सोनभद्र आ महिला साथी में पीडब्ल्यूडी सर्कल के आधार पर एक महिला मेट की मजदूरी दर तय की जाती है। मनरेगा के तहत महिला श्रम बल द्वारा किए गए कार्यों की देखरेख के लिए प्रतिदिन 400 रुपये का भुगतान किया जाता है।


कार्यस्थल पर कम से कम 20 श्रमिकों के लिए एक महिला मेट की तैनाती की जाती है, यदि श्रमिकों की संख्या 40 तक पहुंचती है तो दो महिला साथियों को तैनात किया जा सकता है और इसी तरह।

राज्य में मनरेगा के संचालन के प्रभारी अधिकारी के अनुसार, महिला साथी योजना ने मनरेगा में महिलाओं की भागीदारी में वृद्धि की है।

उत्तर प्रदेश में ग्रामीण विकास विभाग के अतिरिक्त आयुक्त योगेश कुमार ने गांव कनेक्‍शन को बताया, "हमें इस महिला साथी योजना को शुरू करने की आवश्यकता महसूस हुई क्योंकि केरल, तमिलनाडु और राजस्थान जैसे कई राज्य उत्तर प्रदेश की तुलना में मनरेगा में महिलाओं की बेहतर भागीदारी दर्ज कर रहे थे।" उन्होंने कहा, "इस योजना को एक साल हो गए हैं और इसमें महिलाओं की भागीदारी 2021 में 33.59 प्रतिशत से बढ़कर 2022 में 37.22 प्रतिशत हो गई है।"

गांव कनेक्शन को मिले सरकार आंकड़ों के अनुसार आदिवासी बहुल सोनभद्र जिले में ही गरीबी उन्मूलन योजना के तहत ग्रामीण कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी 31 मार्च, 2021 को 47.78 प्रतिशत से बढ़कर 22 मार्च, 2022 को 49.90 प्रतिशत हो गई है। इसका मतलब है कि सोनभद्र में मनरेगा के तहत आधी श्रमशक्ति ग्रामीण महिलाएं हैं।

दहलीज पार करना

सोनभद्र के अगोरी गांव में, 30 वर्षीय कबूतरारी देवी ने अपनी महिला साथी रश्मि सिंह द्वारा मनरेगा के तहत काम करने के लिए प्रेरित करने से पहले कभी भी अपनी फूस की झोपड़ी के बाहर काम नहीं किया था।

"मुझे घर से बाहर काम करने में डर लगता था… काम वाली जगह पर आने में एक अजीब सा डर था। लेकिन जब महिला साथी मेरी मदद के लिए आई, तो मुझे सहयोग मिला क्योंकि मेरे सभी सहयोगी महिलाएं हैं और समग्र सुरक्षा की भावना है," देवी ने गांव कनेक्शन को बताया। उनके परिवार में आठ सदस्य हैं।


"मेरे पति भी यहाँ मेरे साथ काम करते हैं। मुझे एक दिन के काम के लिए दो सौ चार रुपए मिलते हैं, जो कि एक खेतिहर मजदूर के रूप में मेरी कमाई से अधिक है," उसने अपने सिर पर कंक्रीट के मिश्रण की एक टोकरी रखते हुए कहा।

उसकी पड़ोसी धनराजी देवी ने गांव कनेक्शन को बताया कि ग्रामीण महिलाएं अपने गांव के भीतर और आसपास रोजगार पाकर खुश हैं जो पहले संभव नहीं था।

"हम मजदूर के रूप में काम करने के लिए दूर-दूर तक जाते थे लेकिन महिला साथी यह सुनिश्चित करती है कि हमें यहीं काम मिले। इसकी वजह से हमें अब अपने परिवारों के साथ अधिक समय बिताने को मिलता है। हम अब खुश हैं," उन्‍होंने आगे कहा।

तकनीकी सहायता से महिला साथियों के प्रशिक्षण में मिलती है मदद

सोनभद्र में महिला साथी योजना को गैर-लाभकारी ट्रांसफॉर्म रूरल इंडिया फाउंडेशन (टीआरआईएफ) से मदद मिलती है। संगठन ने 'अस्मिता' नाम से एक मोबाइल फोन एप्लिकेशन बनाया है जो न केवल योजना के कार्यान्वयन की निगरानी में मदद करता है बल्कि इन साथियों को प्रशिक्षण देने के साथ-साथ रिकॉर्ड रखने में भी मदद करता है।

टीआरआईएफ के टीम लीड दीपक माथुर ने गांव कनेक्शन को बताया, "महिला साथियों के साथ सीधे संपर्क के लिए एक सामाजिक मंच को एक ज्ञान केंद्र के रूप में विकसित किया गया है जो उन्हें अपने कर्तव्यों का पालन करने में सहायता करता है।"

उत्तर प्रदेश में मनरेगा के आधिकारिक प्रभारी योगेश कुमार ने माथुर की टिप्पणी को आगे बढ़ाया।


"यह मोबाइल एप्लिकेशन ब्लॉक स्तर पर सरकारी कर्मचारियों द्वारा इन साथियों को प्रशिक्षित किए जाने के बाद कमियों को ठीक करने में मदद करता है। यह योजना को ठीक से चलाने में भी मदद करता है और अच्‍छे से निगरानी रख पाते हैं," उन्होंने कहा।

योजना के विस्तार में आने वाली चुनौतियों के बारे में बात करते हुए कुमार ने कहा कि सामाजिक-राजनीतिक मुद्दे हैं जो अक्सर इस योजना के विस्तार में बाधा डालते हैं।

"अक्सर ग्राम प्रधान एक निश्चित गाँव में महिला साथियों की नियुक्ति से खुश नहीं होते हैं। यह योजना के कामकाज को प्रभावित करता है। लेकिन कुल मिलाकर मुझे खुशी है कि इस योजना से मनरेगा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने में मदद मिली है।

प्रत्यक्ष श्रीवास्तव, लखनऊ के इनपुट्स के साथ।

यह कहानी ट्रांसफॉर्म रूरल इंडिया फाउंडेशन के सहयोग से की गई है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.