आंधी-बारिश, बिजली गिरने से उत्तर प्रदेश में 40 ज्यादा लोगों की मौत, 15 मई तक ऐसा ही बना रहेगा मौसम

Divendra SinghDivendra Singh   11 May 2020 5:18 AM GMT

आंधी-बारिश, बिजली गिरने से उत्तर प्रदेश में 40 ज्यादा लोगों की मौत, 15 मई तक ऐसा ही बना रहेगा मौसम

लखनऊ। रविवार को तेज बारिश और आंधी-तुफान से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग जिलों में 40 से अधिक लोगों की मौत हो गई, जबकि 50 से अधिक लोग घायल हो गए हैं।

मौसम विभाग ने पूर्वानुमान में पहले से ही बारिश का अंदेशा जताया था। पश्चिमी विक्षोभ की वजह से उत्तर प्रदेश ही नहीं मध्य प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पंजाब हरियाणा जैसे कई राज्यों में बारिश हुई है। मौसम विभाग के अनुसार अभी 15 मई तक मौसम ऐसा ही बना रहेगा।

मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता बताते हैं, "मौसम विभाग ने पहले से पूर्वानुमान जारी किया था, पश्चिमी विक्षोभ की वजह अभी एक हफ्ते तक ऐसा ही मौसम बना रहेगा। 15 मई तक ऐसे ही रुक रुक कर बारिश होती रहेगी।"


बारिश व आंधी तुफान से आगरा में छह, मुरादाबाद में चार, वाराणसी में तीन, चित्रकूट व बागपत में 2-2, फतेहपुर, इटावा, कन्नौज व कानपुर देहात में एक-एक की जान चली गई। तूफान के चलते कई जिलों में बिजली के खंभे व तार टूटने से आपूर्ति बाधित हो गई। कई इलाकों में पेड़ गिरने की भी खबर है।

अवध के बाराबंकी में रामसनेहीघाट थाना क्षेत्र में ब्लॉक परिसर में पेड़ गिरने से कृषि विभाग के प्राविधिक सहायक केदार नाथ की बेटी मीनाक्षी मौर्य (12) की मौत हो गई। वहीं, मंगेश कुमारी (28) की दीवार गिरने से जबकि सफदरगंज थाना क्षेत्र में खंभा गिरने से किशोर सोहेल की मौत हो गई।

सीतापुर के मिश्रिख में किशोरी रूबी व 10 साल के अखिलेश की पेड़ के नीचे दबने से मौत हो गई। एक अन्य युवक की भी मौत की खबर है। सीतापुर में ही पुलिस की जीप पर बरगद गिरने से उसमें बैठे होमगार्ड गुरुदीन गंभीर रूप से घायल हो गए। बहराइच व अमेठी में भी एक-एक मौत की सूचना है। रायबरेली, बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा, बलरामपुर में विद्युत आपूर्ति बाधित है। सभी जिलों में आम की फसल को नुकसान पहुंचा है।

यही नहीं, मौसम विभाग ने ब्रज क्षेत्र, पश्चिमी यूपी और तराई के कुछ जिलों के लिए फिर से अलर्ट जारी किया है। अनुमान के मुताबिक रात तक इन जिलों में 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से धूल भरी आंधी चल सकती है। साथ ही बारिश और बिजली गिरने की भी आशंका जाहिर की गई है। ये जिले आगरा, मथुरा, हाथरस, एटा, कासगंज, बुलंदशहर, मैनपुरी, अलीगढ़, रामपुर, संभल, बदायूं, बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर, फर्रूखाबाद, फिरोज़ाबाद, इटावा, औरैया और बलरामपुर हैं। इन जिलों के वासियों को रात तक सतर्क रहने की जरूरत है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेमौसम बारिश, ओलावृष्टि तथा बिजली गिरने के कारण प्रदेश के अलग-अलग जिलों में हुई लोगों की मौत पर रविवार को गहरा शोक व्यक्त किया। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक मुख्यमंत्री ने फतेहपुर, बलिया, कासगंज आदि में लोगों की मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया और दिवंगतों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की राहत राशि तत्काल वितरित करने का निर्देश दिया है।

सीएम योगी ने घायलों के लिए समुचित उपचार का प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए हैं। योगी ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि विभिन्न जनपदों में जनहानि, पशु हानि एवं मकान क्षति का आकलन कर निश्चित मुआवजा राशि प्रभावित व्यक्तियों को तत्काल उपलब्ध कराई जाए।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.