इंसानों ही नहीं पशुओं को भी बीमार कर सकती हैं गर्म हवाएं, अपने पशुओं को लू से बचाएं

गर्मी बढ़ने के साथ जैसे-जैसे लू चलती है, इंसानों के लिए ही नहीं पशुओं के लिए खतरनाक होती है। गर्मियों के मौसम में हवा के गर्म थपेड़ों और बढ़ते हुए तापमान से पशुओं को बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है।

इंसानों ही नहीं पशुओं को भी बीमार कर सकती हैं गर्म हवाएं, अपने पशुओं को लू से बचाएं

देश के ज्यादातर हिस्सों में इस समय गर्म हवाएं चल रही हैं, आईएमडी ने हीटवेव की चेतावनी जारी की है, ऐसे में आप खुद का तो खयाल तो रखें ही लेकिन अपने पशुओं को न भूल जाएं। क्योंकि जरा सी लापरवाही से नुकसान उठाना पड़ सकता है।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण और पशु पालन विभाग पशुओं को लू से बचाने के लिए लगातार सलाह जारी कर रहे हैं। इन बातों का ध्यान रखकर अपने पशुओं को लू लगने से बचा सकते हैं।

अगर उन्हें घर के अंदर रखा जाना संभव नहीं है तो उन्हें किसी छायादार जगह पर रखें, जहां वो आराम रह सकें। लेकिन ध्यान रखें जिस जगह पर उन्हें रखा जाए वहां दिन भर छाया होनी चाहिए।

पशुओं को किसी बंद जगह पर न रखें, क्योंकि गर्म मौसम में उन्हें जल्दी गर्मी लगती है।

गर्मी के मौसम में पशु चारा खाना कम कर देते हैं, क्योंकि भूख कम लगती है और प्यास ज्यादा। पशुपालक अपने पशु को दिन में कम से कम तीन बार पानी पिलाएं।


पशुओं का चारा धूप में न रखें।

अगर आपके पास कुत्ता है तो उसे गर्मी में टहलाएं, उसे सुबह शाम ही घुमाएं जब मौसम ठंडा हो।

कुत्ते को बाहर खड़ी गाड़ी में न छोड़ें।

गर्म दिनों में पशु को नहलाना चाहिए खासतौर पर भैंसों को ठंडे पानी से नहलाना चाहिए।

गर्मी के मौसम में दुग्ध उत्पादन और पशु की शारीरिक क्षमता बनाये रखने की दृष्टि से पशु आहार बहुत ही महत्वपूर्ण है। गर्मी के मौसम में पशुओं को हरा चारा अधिक मात्रा में देना चाहिए। इसके दो लाभ हैं- पशु चाव से हरा व पौष्टिक चारा खाकर अधिक ऊर्जा प्राप्त करता है और हरे चारे में 70-90 प्रतिशत तक पानी की मात्रा होती है, जो समय-समय पर जल की पूर्ति करती है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.