महिलाओं को आत्मनिर्भर बना रहीं पटना की अनामिका

महिलाओं को आत्मनिर्भर बना रहीं पटना की अनामिकाअनामिका सिन्हा ने बड़ी संख्या में महिलाओं की बदल दी जिंदगी।

अरुण मिश्रा, कम्यूनिटी रिपोर्टर

देवा (बाराबंकी)। बिहार की राजधानी पटना की रहने वाली अनामिका सिन्हा सम्बल सोशल वेलफेयर सोसाइटी के माध्यम से महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों में सबल बना रही हैं और इस सोसाइटी द्वारा उत्पादित वस्तुओं को विभिन्न प्रदर्शनी में बिक्री के लिए लगा चुकी है।

पटना की अनामिका सिन्हा महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ रही हैं और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें प्रशिक्षित भी कर रही हैं। वे महिलाओं को आचार बनाने व पेंटिंग से लेकर कपड़ों की सिलाई तक का सारा काम सम्बल सोशल वेलफेयर सोसाइटी की तरफ से निःशुल्क सिखा रही है। अनामिका सिन्हा बताती हैं, "हम देवा मेला में अपनी सोसाइटी द्वारा बने उत्पादों के स्टाल कई सालों से लगा रहे हैं इसमें जोधपुर के दुपट्टे, खादी के वस्त्र, गरम कपड़े, कुर्ती, जूट से बना सामान, ज्वेलरी तथा लघु उद्योग में बने उत्पाद शामिल है।" अनामिका सिन्हा आगे बताते हैँ, "हम बिहार में लगभग 200 महिलाओं को प्रशिक्षित कर चुके हैं, वे विभिन्न क्षेत्रों में अपने कार्य के जरिये लाभ कमा रही है।" अनामिका सिन्हा ने आगे बताया, "उत्तर प्रदेश में महिलाएं मिल जाएं तो उन्हें भी आत्मनिर्भर बनाने के लिए कार्यक्रम चला सकते हैं। हम अपनी ब्रांच यूपी में खोलना चाहते हैं। हमने कुछ दिनों तक लखनऊ के चिनहट में महिलाओं को प्रशिक्षित किया, लेकिन यहां यह कार्यक्रम सफल नहीं हो सका। इस समय देवा मेले में हमारे आठ स्टाल विभिन्न उत्पादों के लगे हैं, जिनमें मुख्य पावदान, ज्वैलरी, खादी के वस्त्र, गरम कपडे़, दुपट्टे, कुर्ती आदि है। यह माल घर पर ही तैयार किया जाता है।" अनामिका सिन्हा ने देवा मेला के अतिरिक्त बाराबंकी लखनऊ सैफ़ई सहित कई प्रदर्शनियों में अपने स्टाल लगा चुकी है।


Share it
Top