पीएम मोदी से प्रेरित होकर डॉक्टर ने स्वच्छ भारत अभियान को दान किए 45 लाख रुपए 

पीएम मोदी से प्रेरित होकर डॉक्टर ने स्वच्छ भारत अभियान को दान किए 45 लाख रुपए मेघा महाजन

33 वर्षीय एक डॉक्टर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से इतनी प्रेरित हुई कि तलाक के बाद गुजारा भत्ते के लिए मिले 45 लाख रुपए स्वच्छ भारत अभियान को दान में दे दिए।

जम्मू-कश्मीर की रहने वाली मेघा महाजन पेशे से डॉक्टर हैं, मेघा ने स्वच्छ भारत अभियान के लिए 45 लाख रुपए की भारी भरकम राशि दान कर दी। मेघा को ये पैसे पति से तलाक के बाद गुजारा भत्ते के तौर पर मिले थे, मेघा ने कहा कि वह अभी काफी यंग हैं और डॉक्टर भी हैं तो अभी काफी पैसा कमा सकती हैं हमें जिंदगी एक बार ही मिलती है उसे समाज की सेवा में लगा देना चाहिए।"

ये भी पढ़ें- अमेरिका से लौटी युवती ने सरपंच बन बदल दी मध्य प्रदेश के इस गांव की तस्वीर

इस देश में जब पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो उनका सबसे पहला बड़ा कदम भारत को साफ-सुथरा बनाना था, इसी उद्देश्य से उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी। कई शहरों में इस मुहिम का असर दिखा है और लोगों में भी साफ-सफाई को लेकर काफी जागरूकता आई है

ये भी देखिए:

मेघा ने बताया, "पिछले साल नवंबर में पति से तलाक लेने के बाद मुझे गुजारा भत्ते के तौर पर 45 लाख रुपये मिले थे मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बहुत बड़ी फैन हूं वह भारत के लिए अच्छा काम कर रहे हैं। इसलिए मैंने इन पैसों को स्वच्छ भारत अभियान फंड में देने का फैसला किया।”

ये भी पढ़ें- ग्रामीण बदलाव की युवा नायिका हैं यामिनी त्रिपाठी

मेघा जम्मू के आईजीजीडीसी हॉस्पिटल में बतौर डेंटल सर्जन काम कर रही हैं उन्होंने कहा कि आमतौर पर जब पत्नी को तलाक के बाद गुजारा भत्ता मिलता है तो लोग यह सोचते हैं कि महिलाएं गलत नीयत से और पति का शोषण करने के लिए गुजारा भत्ता मानती हैं। मैं ऐसे लोगों को जवाब दे उन्हें गलत साबित करना चाहती थीं।

उन्होंने कहा आगे कहा, "मैं चाहती तो इतने सारे पैसों का कुछ भी कर सकती थी। चाहती तो अपने लिए भी खर्च कर सकती थी, लेकिन मैंने उन लोगों को जवाब देना जरूरी समझा।" मेघा ने बताया, 'मेरे परिवार वालों ने मुझे अच्छी शिक्षा और संस्कार दिए हैं। मुझे दान किए गए पैसों का कोई अफसोस नहीं है।"

ये भी पढ़ें- दादी की रसोई : सिर्फ 5 रुपए में भरपेट खाना , 10 रुपए में कपड़े

उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार का एक अच्छा और जरूरी कदम है। मेघा ने दान देने के साथ ही पानी और साफ हवा के लिए चलने वाले प्रॉजेक्ट के बारे में भी सरकार को लिखा है।

वह कहती हैं कि हमें जिंदगी एक बार ही मिलती है उसे समाज की सेवा में लगा देना चाहिए। वह समाज में स्त्री-पुरुष समानता की बात करती हैं और कहती हैं कि किसी भी तरह की भी गैरबराबरी नहीं होनी चाहिए। महिलाओं को उनका सम्मान मिलना ही चाहिए। मेघा ने पिछले साल नवंबर महीने में ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए सरकार के स्वच्छ भारत अभियान कोष में 45 लाख रुपये ट्रांसफर किए थे। वित्त मंत्रालय की ओर से उन्हें डोनेशन की रसीद भी प्राप्त हुई है।"

Share it
Top