अपहरणकर्ता से बचाव के लिए बच्चों को ऐसे करें सतर्क

अपहरणकर्ता से बचाव के लिए बच्चों को ऐसे करें सतर्कबच्चों को अपहरण जैसी घटनाओं से बचाने के लिए निम्न सुरक्षा नियमों का पालन करना जरूरी है।

लखनऊ। फिरौती के लिए अपहरण एक गंभीर अपराध हो गया है और दुर्भाग्य से इसको शातिर अपराधियों के साथ-साथ युवा वर्ग भी रातोंरात धनी बन जाने की लालसा में करने लगा है। बहुत से ऐसे मामले प्रकाश में आए हैं, जहां पड़ोसी के लड़के व दोस्त ने अपहरण की योजना बनाई हो। इसके लिए अभिवावकों, बच्चों व स्कूलों के पदाधिकारियों को सतर्क रहते हुए निम्न सुरक्षा नियमों का पालन करना जरूरी है।

  • बच्चों को यथासंभव स्कूल बस से भेजें। अगर बच्चे टैक्सी/ निजी कार/ रिक्शा आदि से जाते हैं तो उनके ड्राइवरों की विश्वसनीयता को क्षेत्रीय पुलिस से जांच जरूर करा लें।
  • बच्चों को सुरक्षा संबंधी जानकारी के लिए प्रोत्साहित करें, किसी भी असामान्य घटना की जानकारी तुरंत पुलिस को दें।
  • बच्चों को जरूरी एवं आपातकालीन टेलीफोन नं (100 पुलिस के लिए) व घर/स्कूल के नंबर याद करवाएं।
  • स्कूल के अधिकारी बच्चों को स्कूल गेट पर सुरक्षित छोड़े जाने व ले जाना सुनिश्चित कराने के लिए जिम्मेदार व्यक्ति/ अध्यापक नियुक्त किया करें।
  • ड्यूटी पर तैनात व्यक्ति/अध्यापक को प्रत्येक बच्चों के माता- पिता अनुरक्षक की पहचान कर ही बच्चों को सौंपने का प्रयास करना चाहिए।
  • स्कूल में आने वाले प्रत्येक माता-पिता/अनुरक्षक के लिए स्कूल पहचान पत्र या प्रवेश पत्र जारी करना चाहिए।
  • बच्चों को स्कूल समय के दौरान बाहर जाने की अनुमति नहीं देनी चाहिए व स्कूल समय से पूर्व बच्चों को अचानक लेने जाने के लिए संदेश/सूचना की अच्छी तरह पुष्टि कर लेनी चाहिए।
  • बच्चों को निर्धारित बसों एवं स्टॉप से ही भेजा जाना चाहिए और जहां तक हो सके उन्हें समूहों में ही रहना चाहिए।
  • बच्चों को जिन वाहनों पर शंका हो, नजर रखनी चाहिए और उनका नम्बर भी नोट कर लेना चाहिए।

Share it
Top